जानें Chirag Paswan क्यों करते हैं PM Modi की तारीफ? कहा- कभी नहीं भूल सकता प्रधानमंत्री का सम्मान

  • Bihar Assembly Elections को लेकर सियासी पारा 7वें आसमान पर
  • भाजपा ( BJP ) और लोक जनशक्ति पार्टी ( LJP ) के बीच जुबानी जंग जारी

By: Mohit sharma

Updated: 18 Oct 2020, 08:50 PM IST

नई दिल्ली। बिहार विधानसभा चुनाव ( bihar assembly election ) को लेकर जहां देश का सियासी पारा सातवें आसमान पर है, वहीं भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) और लोक जनशक्ति पार्टी ( LJP ) के बीच शुरू हुई जुबानी जंग थमने का नाम नहीं ले रही है। रविवार को लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ( LJP President Chirag Paswan ) ने भाजपा पर हमले की बजाए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) की तारीफों के पुल बांधे। चिराग पासवान ने कहा कि लोगों को लगता है कि मैंने प्रधानमंत्री की तारीफ कर मक्खन लगाने की सभी सीमाएं पार कर दी हैं, लेकिन मुझे पता है, जब पापा की तबीयत खराब थी तो कोई हमारे साथ नहीं था, प्रधानमंत्री के अलावा। एक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही थी, जो हमारे साथ खड़े थे और दिन में कम से कम दो बार फोन कर पापा का हालचाल लेते थे। ऐसे में हमें प्रधानमंत्री ने जो सम्मान दिया उसको कैसे भुला दूूं।

Corona Vaccine को लेकर आई अच्छी खबर, रूसी दवाई का दूसरे व तीसरे चरण का ट्रायल होगा शुरू

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन से अलग होने को लेकर एक न्यूज चैनल से बात कर रहे चिराग पासवान ने कहा कि पापा ने कहा था कि अकेले जाने से तुम घबरा क्यों रहे हो। देखों 2005 में मुझे किसी बात का कोई डर नहीं था और मैं अकेले गया। इसलिए तुम भी मत डरो, अभी तक यंग हो। ऐसे में क्यों बार—बार बैठकें कर अपने आप को परेशान कर रहे हो। चिराग पासवान ने बताया कि राजग से अलग होने से पहले हम लगातार संसदीय बोर्ड की बैठकें कर रहे थे। चिराग ने कहा कि पापा कहा करते थे, अगर तुम सही हो तो अकेले चलने से मत डरो। अपने आप पर विश्वास रखो। कल के दिन मन में कोई पछतावा नहीं होना चाहिए। तुम्हे अगर लग रहा है कि कोई फैसला लेना चाहिए तो तुरंत लो।

Nitin Gadkari ने Uddhav Thackeray को बताया महाराष्ट्र में बाढ़ और सूखे से निपटने का फॉर्मूला

न्यूज चैनल से बातचीत में चिराग पासवान ने कहा कि मुझे बिल्कुल साफ-साफ याद है कि उस दिन जब पापा वेंटिलेटर पर थे और मुझे राजग के साथ रहने या अलग होने का निर्णय लेना था, तो मैं बहुत परेशाना था। पापा से भी बात नहीं हो पा रही थी। ऐसे में मुझे कतई समझ नहीं आ रहा था कि क्या किया जाए। तब मां ने कहा कि तुम पापा के पास जाओ और उनसे सारी बातें शेयर करो। वो तुम्हे सुनेंगे और समझेंगे।

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned