सरकार गठन के दो महीने बाद नीतीश कैबिनेट का विस्तार, शाहनवाज हुसैन के साथ सुशांत सिंह राजपूत के भाई ने भी ली शपथ

  • बिहार में नीतीश मंत्रिमंडल का विस्तार
  • बीजेपी के प्रवक्त शाहनवाज हुसैन ने उर्दू में ली शपथ
  • मंत्रिमंडल में 17 नए साथियों को किया गया शामिल

By: धीरज शर्मा

Published: 09 Feb 2021, 12:57 PM IST

नई दिल्ली। बिहार में नई सरकार ( Bihar Govt ) की गठन के लगभग दो महीने बाद आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मंत्रिमंडल ( Nitish Cabinet Expansion ) का विस्तार हुआ। बिहार की राजधानी पटना स्थित राजभवन के राजेन्द्र मंडपम में शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन किया गया।

समारोह में सबसे पहले बीजेपी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने शपथ ली। करीब 20 साल के बाद शाहनवाज हुसैन ने फिर से मंत्री पद की शपथ ली। आपको बता दें कि पिछले साल नवंबर में बिहार में फिर से मुख्यमंत्री पद संभालने वाले नीतीश कुमार मंत्रिमंडल का यह पहला विस्तार है। इसमें 17 नए साथी शामिल किए गए हैं।

राज्यसभा में गुलामनबी आजाद के जिक्र पर भावुक हुए पीएम मोदी, सबके सामने इस अंदाज में किया सैल्यूट

उर्दू में ली शपथ
शाहनवाज ने उर्दू में मंत्री पद की शपथ ली। शाहनवाज का कहना है कि ये उनका सौभाग्य है, उन्हें उनकी जमीन पर काम करने का मौका मिल रहा है। बीजेपी के शाहनवाज हुसैन के साथ जेडीयू के श्रवण कुमार, मदन सहनी, प्रमोद कुमार और संजय झा ने भी शपथ ली।

बांकीपुर से बीजेपी विधायक नितिन नवीन और चकाई से निर्दलीय विधायक सुमित कुमार सिंह ने मंत्री पद की शपथ ली है।

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के चचेरे भाई और बीजेपी विधायक नीरज सिंह बबलू ने राजस्थानी पगड़ी बांध कर मंत्री पद की शपथ ली है।

जेडीयू के एमएलसी संजय कुमार झा ने मैथिली भाषा में मंत्रिपद की शपथ ली। हाल ही में बसपा से जेडीयू में आए जमा खान को सीएम नीतीश कुमार ने मंत्रिमंडल में जगह दी है।

कैबिनेट विस्तार के बाद कैबिनेट में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अलावा कुल 30 मंत्री हो जाएंगे, जिसमें बीजेपी के 16, जेडीयू के 12 और वीआईपी और हम के एक-एक मंत्री होंगे। ऐसे में देखा जाए तो मंत्रिमंडल में भी बीजेपी बड़े भाई की भूमिका में रहेगी।

आरजेडी ने कहा मध्यावधि चुनाव होना तय
आपको बता दें कि इससे पहले आरजेडी प्रवक्ता ने कहा कि बीजेपी के दबाव के बीच सीएम नीतीश बड़ी मुश्किल से मंत्रिमंडल का विस्तार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कैबिनेट विस्तार में हुई देरी ने ये साबित कर दिया है कि बीजेपी नीतीश कुमार पर अपना वर्चस्व बनाये रखना चाहती है।

यही नहीं आरजेडी ने यह कहा है कि कैबिनेट विस्तार के बाद मध्यावधि चुनाव होना तय है।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned