शीला दीक्षित के एक फैसले से कांग्रेस को झटका, दिल्ली में 12 नेताओं ने पार्टी पदों से दिया इस्तीफा

शीला दीक्षित के एक फैसले से कांग्रेस को झटका, दिल्ली में 12 नेताओं ने पार्टी पदों से दिया इस्तीफा

Dhiraj Kumar Sharma | Publish: Apr, 29 2019 02:34:24 PM (IST) | Updated: Apr, 29 2019 02:34:25 PM (IST) राजनीति

  • दिल्ली में कांग्रेस की बढ़ी मुश्किल
  • 12 नेताओं ने एक साथ पदों से दिया इस्तीफा
  • शीला दीक्षित के एक फैसले से मचा बवाल

नई दिल्ली। देश की 17वीं लोकसभा के लिए हो रहे चुनाव इस बार कई उतार चढ़ाव से भरे हैं। किसी भी राजनीतिक दल के लिए ये चुनाव जीतना आसान नहीं है। चुनाव के बीच एक बुरी खबर कांग्रेस पार्टी के लिए आई है। देश की राजधानी दिल्ली में पार्टी को बड़ा झटका लगा है। यहां पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के प्रचार शुरू करने के बाद ही पार्टी में असंतोष बढ़ गया है। खबरों की माने तो शीला के मोर्चा संभालते ही 12 नेताओं ने पार्टी पदों से इस्तीफा दे दिया है।


दरअसल, पिछले दिनों प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित ने पूर्व जिलाध्यक्ष और चार बार के विधायक भीष्म शर्मा को पार्टी से 6 साल के लिए निलंबित कर दिया था। शीला के इस फैसले का असर अब दिखने लगा है। उनके इस निर्णय का पार्टी में ही विरोध शुरू हो गया है।

सनी देओल ने गुरदासपुर से नामांकन भरा, पिता धर्मेंद्र ने की थी भावुक अपील
निलंबन के खिलाफ रविवार को एक साथ 12 नेताओं ने अपना इस्तीफा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी भेज दिया। इसमें कहा गया है कि भीष्म शर्मा ने पार्टी विरोधी कोई काम नहीं किया है। इसके अलावा कार्रवाई से पहले उन्हें कारण बताओ नोटिस भी जारी नहीं किया गया। खास बात यह है कि सभी इस्तीफे एक ही तरीके से दिए गए हैं और इनमे कारण भी समान ही है। खास बात यह है कि इन सभी नेताओं ने पार्टी के पदों से इस्तीफा दिया जबकि पार्टी में फिलहाल सभी बने रहेंगे।


बताया जा रहा है कि जिन नेताओं ने इस्तीफा दिया है वे पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन की ओर से पदों पर नियुक्त किए गए थे। पदों से इस्तीफा देने वाले सभी नेताओं के साथ भीष्म शर्मा ने सोमवार को एक बैठक बुलाई।

साध्वी प्रज्ञा पर अब अपनों से ही घिरी भाजपा, बढ़ सकती है मुश्किल
ये थी भीष्म शर्मा के निलंबन की वजह
शीला दीक्षित और भीष्म शर्मा के बीच खींचतान नई बात नहीं है। दोनों नेताओं के बीच 15 वर्ष पहले से ही विवाद चल रहा है। हालांकि शीला के सीएम रहते ये विवाद ज्यादा बाहर नहीं आया। हाल में भीष्म शर्मा के मनोज तिवारी से संपर्क में रहने पर शीला ने इस पार्टी विरोधी गतिविधि बताकर उन्हें निलंबित कर दिया था। इसके बाद से ही सारा बवाल शुरू हुआ। शर्मा ने तिवारी से मुलाकात को किसी भी तौर पर गलत नहीं बताया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned