जानिए AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने हंसराज भारद्वाज काे क्यों कहा ग्रेट लाॅ मिनिस्टर?

  • ओवैसी ने भारद्वाज को यादकर साझा किया पुराना किस्सा
  • सोमवार शाम 4 बजे दिल्ली के निगम बोध घाट पर होगा अंतिम संस्कार
  • एआईएमआईएम प्रमुख ने भारद्वाज को बताया जमीनी नेता

By: Dhirendra

Updated: 09 Mar 2020, 09:25 AM IST

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व कानून मंत्री हंसराज भारद्वाज ( Former Law Minister Hansraj Bhardwaj ) का दिल का दौरा पड़ने से रविवार को निधन हो गया। वे 82 साल के थे। हंसराज भारद्वाज 2009 से 2014 तक केंद्रीय कानून मंत्री रहे। किडनी से जुड़ी समस्या के कारण उन्हें दिल्ली के मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मैक्स अस्पताल में इलाज के दौरान अंतिम सांस ली। उनके बेटे अरुण भारद्वाज ने बताया कि पिता का अंतिम संस्कार दिल्ली में निगम बोध घाट ( Nigam Bodh Ghat ) पर सोमवार शाम चार बजे किया जाएगा।

भारद्वाज के निधन पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ( AIMIM Chief Asduddin Owaisi ) ने एक ट्वीट कर गहरा शोक व्यक्त किया है। साथ ही उन्होंने पूर्व कानून मंत्री को ग्रेट लाॅ मिनिस्टर बताया है।

Coronavirus: PM मोदी का बांग्लादेश दौरा रद्द, शेख मुजीबुर्रहमान के शताब्दी समारोह नहीं करेंगे

एआईएमआईएम प्रमुख ओवैसी ने अपने ट्वीट में लिखा है कि हंसराज भारद्वाज के निधन के बारे में सुनकर दुख हुआ। वे जमीन से जुड़े व्यक्ति और एक महान कानून मंत्री थे। उन्होंने अपनी एक चुनाव याचिका में दिवंगत सालार का प्रतिनिधित्व किया था। 2004-05 में उन्होंने देशवासियों के बीच संविधान की भावना को बढ़ावा देने के लिए मुझे देश भर में यात्रा करने के लिए प्रोत्साहित किया था। एक अन्य ट्वीट में ओवैसी ने लिखा कि 2013 में मुझे बसवकल्याण में गलत आधार पर अनावश्यक रूप से गिरफ्तार किया गया था।

तत्कालीन राज्यपाल हंसराज भारद्वाज ही थे जिनके हस्तक्षेप के कारण ही हम लोग छूट पाए। हमने आज एक माननीय व्यक्ति को खो दिया है। उनके दोस्तों और परिवार के प्रति मेरी संवेदना है।

Jammu-Kashmir: सैयद अलताफ बुखारी ने छोड़ा महबूबा का साथ, बनाई 'अपनी पार्टी'

बता दें कि हंसराज भारद्वाज ने कर्नाटक और केरल के राज्यपाल के रूप में भी काम किया। वे कांग्रेस के उन नेताओं में रहे जो हमेशा खुलकर राहुल गांधी ( Rahul Gandhi ) की नेतृत्व क्षमता पर सवाल उठाते रहे। हंसराज भारद्वाज ने साल 2018 में कहा था कि मैं राहुल गांधी को एक नेता के रूप में स्वीकार नहीं करता। वे इस बात को तभी समझेंगे जब वे कोई पद प्राप्त करेंगे।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned