दिल्ली पुलिस की कांग्रेस सांसदों से धक्का-मुक्की की स्पीकर ने मांगी रिपोर्ट

  • लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा- हर सांसद की सुरक्षा की जिम्मेदारी मेरी।
  • स्पीकर ने वॉक आउट करने पर विपक्षी सांसदों को चाय पर बुलाया।
  • विपक्षी सांसदों ने कहा लोकसभा अध्यक्ष से नहीं है नाराजगी।

पत्रिका ब्यूरो/नई दिल्ली। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदन चलाने के लिए सभी को एक साथ लेकर चलने की मिसाल पेश की। जहां उन्होंने सोमवार देर रात विजय चौक पर कैंडल जलाने जा रहे कांग्रेसी सांसदों से दिल्ली पुलिस की धक्का-मुक्की और अभद्रता को गंभीरता से लेकर इसकी रिपोर्ट तलब की। वहीं, राज्यसभा के घटनाक्रम के मुद्दे पर विपक्ष के वाक आउट करने पर विपक्षी सांसदों को चाय पर बुला लिया।

संसद के भीतर कृषि बिल पर हुआ हंगामा, केंद्रीय मंत्री बोले- बिहार की जनता देगी जवाब

लोकसभा की मंगलवार को कार्यवाही शुरू होते ही लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने कांग्रेस सांसदों को अपनी बात कहने के लिए कहा। इस पर कांग्रेस की ओर से रवनीत सिंह ने कहा कि किसानों के मुद्दे पर सांसद संतोष चौधरी, जसबीर सिंह डिम्पा और गुरजीत सिंह औजला सोमवार देर रात को विजय चौक में कैंडल लगाने जा रहे थे। इसी बीच दिल्ली पुलिस ने उनसे धक्का-मुक्की की।

उन्होंने कहा कि पुलिस ने सांसदों से मारपीट की और धमकाया है कि किसानों की आवाज उठाई तो गला दबा देंगे। इस पर बिरला ने कहा कि रवनीत सिंह और संतोष चौधरी की ओर से उन्हें इस बारे में पत्र मिला है। उन्होंने कहा कि सोमवार को सदन देर रात साढ़े 12 बजे तक चला।

सदन से जाते समय एक सांसद से इस घटना की जानकारी मिली थी, तब ही इसको लेकर रिपोर्ट तलब कर ली गई। इस घटना की अधिकारिक जानकारी मंगवाई जा रही है। बिरला ने सभी सांसदों को आश्वस्त किया कि सदन के अंदर और बाहर सुरक्षा की जिम्मेदारी उनकी है।

बिरला ने पहल कर विपक्षी सांसदों को चाय पर बुलाया

लोकसभा में राज्यसभा के घटनाक्रम के मुद्दे पर लोकसभा से विपक्ष के वाक आउट के बाद अध्यक्ष ओम बिरला ने पहल कर विपक्षी नेताओं को अपने चैंबर में चाय पर बुलाया। इस दौरान विपक्षी नेता अधीर रंजन चाौधरी, कल्याण बनर्जी, टीआर बालू, सुप्रिया सूले, गौरव गोगोई, के सुरेश, सौगत राय, विजय कुमार हंसदा समेत अन्य प्रमुख सांसद मौजूद रहे।

राज्यसभा में ट्रिपल आईटी कानून (संशोधन) विधेयक पारित होने के साथ ही छात्रों के लिए आई बड़ी खुशखबरी

बिरला ने कहा सदन के बाहर नहीं भीतर रहना अधिक सार्थक रहता है। सदन में सहयोग के लिए बिरला ने विपक्ष का धन्यवाद किया और आगे भी सकारात्मक सहयोग बनाए रखने की अपील की। इस पर विपक्षी सांसदों ने एक सुर में कहा कि हमारी नाराजगी लोकसभा अध्यक्ष से नहीं है। बिरला विपक्ष को पूरा सम्मान देते हैं। सदन के भीतर और बाहर ध्यान रखने में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं। विपक्ष का वॉक आउट राज्यसभा के घटनाक्रम के विरोध में है।

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned