Maharashtra में सियासी सरगर्मी तेज, पाटिल ने कहा- Shiv Sena के साथ सरकार बनाने के लिए BJP तैयार, फडणवीस ने कही ये बात

  • Maharashtra में एक बार फिर सियासी हलचल तेज, BJP नेताओं के अलग-अलग सुर
  • चंद्रकांत पाटिल ने कहा- हम शिवेसना के साथ सरकार बनाने के लिए तैयार, फडणवीस ने किया खंडन

By: Kaushlendra Pathak

Published: 29 Jul 2020, 12:39 PM IST

नई दिल्ली। कोरोना वायरस (coronavirus) संकट के बीच एक बार फिर महाराष्ट्र ( Maharashtra ) में सियासी सरगर्मी तेजी हो गई है। एक ओर जहां बीजेपी ( BJP ) प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल (Chandrakant Patil) ने कहा है कि राज्य में शिवेसना (Shiv Sena) के साथ BJP सरकार बनाने के लिए तैयार है। वहीं, नेता प्रतिपक्ष और पूर्व सीएम देवेन्द्र फडणवीस ( Devendra Fadnavis ) का कहना है कि ऐसा कुछ भी नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार बनाने के लिए शिवसेना के साथ कोई बातचीत नहीं हो रही है। इतना ही नहीं इस प्रकरण से दोनों नेताओं बीच मतभेद भी गहराने लगे हैं।

BJP नेताओं के बयान अलग-अलग

दरअसल, बीजेपी (BJP National President) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) सोमवार को महाराष्ट्र (Maharashtra Political Drama) में बीजेपी नेताओं से बात करते हुए था कि पार्टी अपने बलबूते राज्य में सरकार बनाएगी। इसके लिए उन्होंने अभी से तैयारी में जुटने के लिए कहा था। इसके बावजूद चंद्रकांत पाटिल (Chandrakant Patil) ने कहा कि महाराष्ट्र में बीजेपी शिवसेना के साथ अब भी सरकार बनाने के लिए तैयार है। हालांकि, उन्होंने ये भी कहा कि अगामी विधानसभा चुनाव (Vidhan Sabha Chunav) में पार्टी अपने दम पर सरकार बनाएगी। अब इस पर देवेन्द्र फडणवीस ने साफ कहा है कि पार्टी की ऐसी कोई तैयारी नहीं। उन्होंने कहा कि ना ही कोई बातचीत चल रही है और ना ही कोई प्रस्ताव आया है। पूर्व सीएम ने कहा कि BJP की ओर से भी कोई प्रस्ताव नहीं गया है। पाटिल ने यहां तक कहा कि बिहार (Bihar) में RJD-JDU मिलकर चुनाव लड़ी थी और BJP को हार का सामना करना पड़ा था। लेकिन, बाद में JDU-BJP ने मिलकर नई सरकार बनाई। पाटिल ने कहा कि महाराष्ट्र में भी कुछ ऐसी ही हुआ था। शिवसेना के साथ मिलकर बीजेपी चुनाव लड़ी थी, जबकि एनसीपी और कांग्रेस विरोध में थे। लेकिन, शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बनाने में कामयाब हुई। उन्होंने कहा कि अगर एक बार फिर बीजेपी-शिवेसेना का सरकार बनती है तो मुख्यमंत्री बीजेपी का ही होगा। साथ ही ढााई-ढाई साल वाला फॉर्मूला भी नहीं होगा।

क्या BJP में कुछ गड़बड़ है?

वहीं, पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस (EX CM devendra fadnavis ) ने पाटिल के बयान का खंडन करते हुए कहा कि ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं आया है। साथ ही ना कोई चर्चा है। फडणवीस के इस बयान से साफ स्पष्ट है कि पार्टी के अंदर सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। दोनों के बयान ठीक विपरित हैं। क्योंकि, जब बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda on Maharashtra Election) ने अकेले सरकार बनाने की बात कही थी तो पाटिल ने सरकार बनाने का बयान क्यों दिया? इन दोनों नेताओं के बयान से पार्टी के अंदर ही विरोध शुरू हो गया है। पार्टी की भूमिका पर सवाल उठ रहे हैं। ऐसे में सवाल है कि पार्टी इन दोनों नेताओं में किस पर भरोसा करें।

Show More
Kaushlendra Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned