West Bengal: संकट में ममता का परिवार, अब इस सदस्य पर सीबीआई ने कसा शिकंजा

  • मुश्किल में ममता बनर्जी का परिवार
  • भतीजे अभिषेक बनर्जी की पत्नी के बाद अब उनकी साली मेनका पर सीबीआई का शिकंजा
  • टीएमसी और बीजेपी के बीच बढ़ी जुबानी जंग

By: धीरज शर्मा

Updated: 22 Feb 2021, 01:06 PM IST

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल ( West Bengal ) में होने वाले विधानसभा चुनाव के बीच लगातार सियासी घटनाक्रम तेज हो रहे हैं। भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) जहां अपनी जड़ें जमाने में जुटी है वहीं दोबारा सत्ता पर काबिज होने के लिए ममता सरकार ( Mamata Banerjee ) ने भी कोई कसर नहीं छोड़ी है। लेकिन चुनावी तैयारियों के बीच ममता बनर्जी की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं।

दरअसल बंगाल में कोयला चोरी मामले में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के परिवार पर केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) का शिकंजा कसता जा रहा है।

ममता के भतीजे और तृणमूल कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजिरा के अलावा उनकी साली मेनका गंभीर को भी नोटिस जारी किया गया है। चुनाव से पहले इस घोटाले की आंच ममता का चुनावी समीकरण बिगाड़ सकती है।

मौसम विभाग ने जारी किया सबसे बड़ा अलर्ट, देश के इन राज्यों अगले कुछ घंटों में सर्दी के बीच बारिश बढ़ा सकती है मुश्किल

दोबारा सीएम की कुर्सी के लिए चुनावी गणित लगाने में जुटी ममता बनर्जी का परिवार संकट में नजर आ रहा है। भतीजे अभिषेक बनर्जी की पत्नी के बाद अब उनकी साली मेनका पर भी सीबीआई ने नजरें तरेरी हैं।

मेनका को कोयला मामले में सोमवार को पूछताछ में शामिल होने के लिए बुलाया गया है, जहां जांच एजेंसी के अधिकारी उनसे पूछताछ करेंगे।

इस घटनाक्रम ने पश्चिम बंगाल में राजनीतिक तापमान को और बढ़ा दिया है। माना जा रहा है कि घोटाले में सीबीआई ने शिकंजा कसा तो ममता के लिए मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

अभिषेक ने बीजेपी पर साधा निशाना
सीबीआई की एक टीम की ओर से परिवार के सदस्यों के खिलाफ नोटिस जारी किए जाने के बाद अभिषेक ने ट्वीट किया था कि हमें कानून पर पूरा भरोसा है। हालांकि, अगर उन्हें ( बीजेपी ) लगता है कि वे इन हथकंडों का इस्तेमाल कर हमें डरा-धमका लेंगे तो वे गलत हैं। हम वे लोग नहीं हैं जो झुक जाएं।

ममता बोलीं- हम चूहों के खिलाफ लड़ाई से नहीं डरते
सीबीआई की कार्रवाई के बाद ममता भी तमतमाईं और एक कार्यक्रम में जनता को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि हमें जेल से डराने की कोशिश न करें, हमने बंदूकों के खिलाफ लड़ाई लड़ी है और हम चूहों के खिलाफ लड़ाई से नहीं डरते।

उन्होंने कहा कि उनकी मातृभाषा बांग्ला ने उन्हें बाघ की तरह लड़ना सिखाया है और वह चूहों से नहीं डरतीं।
किसी व्यक्ति या किसी राजनीतिक दल का नाम लिए बिना तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने कहा कि उन्होंने हारना नहीं सीखा है। मुख्यमंत्री ने एक कार्यक्रम में कहा, ''जब तक मैं जीवित हूं, मैं किसी डर या धमकी से नहीं डरने वाली।''

उधर टीएमसी के वरिष्ठ नेताओं ने आरोप लगाया कि बनर्जी की पत्नी को केंद्रीय जांच एजेंसी ने ऐसे दिन नोटिस थमाया है, जब एक दिन बाद कोलकाता की एक अदालत में बनर्जी द्वारा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के खिलाफ दायर किए गए मानहानि के मामले में सुनवाई होनी है।

भारत और चीन के बीच चल तनाव को लेकर 16 घंटे हुई मैराथन बातचीत, जानिए क्या रहा भारत का रुख

बीजेपी का पलटवार
टीएमसी के बयानों के बाद बीजेपी की ओर से पटलवार सामने आया। बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता शमिक भट्टाचार्य ने कहा कि अगर कुछ भी गलत नहीं किया है तो तृणमूल कांग्रेस इतना भयभीत और तनाव में क्यों है? राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ''यदि किसी ने कुछ गलत किया है तो कानून अपना काम करेगा। जो दोषी हैं, उन्हें दंड मिलना चाहिए।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned