कृषि बिल पर किसानों से चर्चा के बाद बोले Rahul Gandhi, मोदी सरकार पर उन्हें रत्ती भर भरोसा नहीं

  • कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ( Rahul Gandhi ) ने किसानों से चर्चा का वीडियो किया शेयर।
  • लिखा, किसानों को मोदी सरकार पर बिल्कुल भी विश्वास नहीं है।
  • कहा- पूरा देश मिलकर इन किसान विरोधी कानूनों ( Farm bill ) का विरोध करता है।

नई दिल्ली। संसद के मानसून सत्र में कृषि विधेयकों ( Farm bill ) के पारित होने के बाद कांग्रेस समेत कई विपक्षी दल और किसानों द्वारा इसका विरोध किया जा रहा है। इस कड़ी में शुक्रवार को कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ( Rahul Gandhi ) ने किसानों से कृषि विधेयकों को लेकर चर्चा की और फिर यह दावा करते हुए कि पूरा देश नए पारित किए गए कृषि विधेयकों का विरोध कर रहा है, उन्होंने कहा कि किसानों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर रत्ती भर भरोसा नहीं है।

रेलवे ने तमाम रूटों पर रद्द कर दीं तमाम ट्रेनें, किसान आंदोलन के चलते लिया फैसला, देखें लिस्ट

राहुल गांधी ने किसानों से चर्चा किए जाने के बाद ट्विटर पर हिंदी में लिखा, "किसानों से बातचीत करके एक बात साफ़ हो गयी- उन्हें मोदी सरकार पर रत्ती भर भी भरोसा नहीं है। किसान भाइयों की बुलंद आवाज़ के साथ हम सब की आवाज़ भी जुड़ी है और आज पूरा देश मिलकर इन कृषि क़ानूनों का विरोध करता है। #ISupportBharatBandh"

इस ट्वीट के साथ शेयर किए गए किसानों से चर्चा के वीडियो में एक किसान ने कहा, "ना तो यह बिल किसानों का फायदा करेेगा और ना ही जनता का। यह केवल कॉरपोरेशंस को फायदा पहुंचाएगा।" वहीं, अन्य किसानों ने उनकी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को तय किए जाने की बात कही।

अपने हैशटैग के जरिये राहुल गांधी ने भारत बंद का भी समर्थन जताया। वहीं, एक अन्य ट्वीट में भारत बंद हैशटैग लिखते हुए उन्होंने लिखा, "एक ग़लत जीएसटी ने सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों (MSMEs) को नष्ट कर दिया। अब नए कृषि क़ानून हमारे किसानों को ग़ुलाम बनाएंगे। #ISupportBharatBandh"

कोरोना वायरस को मात देने से पहले भारत को मिल रहीं बड़ी कामयाबी, अब पा लिए यह बड़े मुकाम

राहुल गांधी ने इससे पहले शुक्रवार को विभिन्न मीडिया रिपोर्टों की क्लिपिंग्स को ट्वीट करते हुए लिखा, "मोदी सरकार की प्राथमिकताएँ- किसान और मज़दूरों से बात करके उनकी समस्याओं का समाधान निकालने के बजाए, PR में लगे हैं। किसानों के बाद मज़दूरों पर वार।..... ग़रीबों का शोषण, ‘मित्रों’ का पोषण। यही है बस मोदी जी का शासन।"

बता दें कि नए कृषि कानून को लेकर राहुल गांधी लगातार केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं। इससे पहले उन्होंने 22 सितंबर को ट्वीट किया था, "2014- मोदी जी का चुनावी वादा किसानों को स्वामीनाथन कमिशन वाला MSP.
2015- मोदी सरकार ने कोर्ट में कहा कि उनसे ये न हो पाएगा। 2020- काले किसान क़ानून। मोदी जी की नीयत ‘साफ़’, कृषि-विरोधी नया प्रयास, किसानों को करके जड़ से साफ़, पूंजीपति ‘मित्रों’ का ख़ूब विकास।

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned