राहुल गांधी बोले- किसी समस्या का हल नहीं हिंसा, वापस हों कृषि-विरोधी कानून

  • कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने लाल किले पर फहराया अपना झंडा
  • कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि हिंसा किसी समस्या का हल नहीं

 

By: Mohit sharma

Updated: 26 Jan 2021, 04:00 PM IST

नई दिल्ली। किसान की ट्रेक्टर रैली के बेकाबू हो जाने के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि हिंसा किसी समस्या का हल नहीं है और इस कानून को तुरंत वापस लिया जाना चाहिए। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि हिंसा किसी समस्या का हल नहीं है। चोट किसी को भी लगे, नुकसान हमारे देश का ही होगा। देशहित के लिए कृषि-विरोधी कानून वापस लो! उल्लेखनीय है कि आंदोलनकारी किसान लाल किले तक पहुंच गए हैं और पुलिस उन्हें नियंत्रित करने की कोशिश कर रही है।

Agriculture minister Narendra Tomar बोले- सरकार ने दिया बेस्ट ऑफर, किसानों से पुनर्विचार की उम्मीद

किसानों ने आज हिंसक रुख अख्तियार कर लिया

आपको बता दें कि कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग पड़े किसानों ने आज हिंसक रुख अख्तियार कर लिया। राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश करने के दौरान पुलिस के साथ आईटीओ समेत कई जगह पर उनकी झड़प हुई। हिंसा पर उतारू किसानों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा और आंसू गैस के गोले दागने पड़े। पुलिस द्वारा दिल्ली में प्रवेश की अनुमति दिए जाने के बावजूद उन्होंने निर्धारित समय एवं शर्तो का पालन नहीं किया और उग्र हो गए। ट्रैक्टर रैली के दौरान करनाल बाईपास, मुकारबा चौक, ट्रांसपोर्ट नगर, अक्षरधाम, गाजीपुर और टिकरी बॉर्डर के रास्ते उन्होंने दिल्ली में प्रवेश किया। कई जगह लगे बैरिकेड को उन्होंने हटा दिया। पुलिस के साथ झड़प करते कुछ किसानों के हाथों में तलवार भी देखी गई।

Farmer Protest: महाराष्ट्र में 15,000 किसानों ने निकाला नाशिक-मुंबई 'वाहन मार्च'

किसान ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा पर उतारू हो गए

वहीं, आईटीओ चौराहे पर पहुंचने के साथ किसान लाल किले की तरफ आगे बढ़ने लगे। कई किसानों ने पुलिस के साथ न केवल हाथापाई की, बल्कि डंडे और लोहे की रॉड से उन पर हमला भी किया। अक्षरधाम मंदिर और संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर के पास पुलिस को उस समय आंसू गैस के गोले दागने पर विवश होना पड़ा जब कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा पर उतारू हो गए। किसानों में ज्यादातर युवक थे। वे दिल्ली-उत्तर प्रदेश बॉर्डर पर गाजीपुर एंट्री प्वाइंट के पास और दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर सिंघु व टिकरी प्वाइंट के पास पुलिस द्वारा लगाए गए बैरिकेड को हटाकर आगे बढ़ने लगे।

 

पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े

जैसे ही वे अक्षरधाम के पास पहुंचे, पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। इसके बाद किसानों ने पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया। सड़कों पर खड़ी कई बसों के शीशे तोड़ दिए गए। कुछ इसी तरह का नजारा सिंघु बॉर्डर से संजय गांधी ट्रांसपोर्ट की ओर से आने वाले मार्ग पर भी था। यहां भी उग्र भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले दागने पड़े।गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस ने किसानों को इस शर्त पर ट्रैक्टर परेड की अनुमति दी थी कि गणतंत्र दिवस परेड समाप्त हो जाने के बाद ही वे दिल्ली में प्रवेश करेंगे।

 

किसान संगठनों के बीच 11 दौर की वार्ता हो चुकी

ये किसान तीन नए कृषि कानूनों को पूरी तरह निरस्त करने और अपनी फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की वैध गारंटी सुनिश्चित करने की मांग को लेकर विगत वर्ष 26 नवम्बर से ही दिल्ली की सीमाओं पर डटे हुए हैं। अब तक सरकार और किसान संगठनों के बीच 11 दौर की वार्ता हो चुकी है, लेकिन कुछ सकारात्मक परिणाम सामने नहीं आ पाया है।

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned