महाराष्ट्र भाजपा को संबोधित करते हुए बोले JP Nadda, तीनों पार्टियां हमेशा विपक्ष में रहेंगी

  • महाराष्ट्र भाजपा राज्य एग्जीक्यूटिव मीटिंग को वीडियो कॉन्फ्रेंस से किया संबोधित।
  • भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा( JP Nadda ) ने चीन-किसान-विपक्ष-कोरोना समेत कई मुद्दे उठाए।
  • महाराष्ट्र की राजनीति को लेकर नड्डा ने विपक्ष को लिया आड़े हाथ और कही बड़ी बात।

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ( JP Nadda ) ने गुरुवार को विपक्ष पर बड़ा निशाना साधा। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये महाराष्ट्र भाजपा राज्य एग्जीक्यूटिव मीटिंग को संबोधित करते हुए नड्डा ने कहा कि आने वाले वक्त में तीन पार्टियां हमेशा के लिए विपक्ष में रहेंगी। अपने संबोधन के दौरान नड्डा ने कृषि विधेयक, महाराष्ट्र की राजनीति, राष्ट्रीय शिक्षा नीति, कोरोना काल, चीन विवाद समेत तमाम मुद्दों पर अपने विचार रखे।

इस बड़ी वजह से गृह मंत्रालय ने दी Unlock 5.0 के दिशानिर्देशों में छूट, जानिए किन्हें मिलेगा फायदा

अपने संबोधन की शुरुआत में नड्डा ने कहा, "जब राष्ट्रवाद की बात आती है, तो भारतीय जनसंघ की स्थाना का मूल उद्देश्य ही यही था। एक देश में दो विधान, दो प्रधान और दो निशान नहीं चलेंगे, श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने इसको लेकर बलिदान दिया। पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी ने कहा था कि जब मन, बुद्धि, आत्मा जब इन सबकी शांति होगी, तभी समाज में शांति आएगी। जब हमें किसी के दुख को सुख में परिवर्तित करने का अवसर मिलेगा, उससे जो संतुष्टि मिलेगी, उससे समाज में शांति आएगी।"

नड्डा ने आगे कहा, "एकात्म मानववाद का एक्शन प्वाइंट 'अंत्योदय' है। अंत्योदय- समाज के अंतिम व्यक्ति का विकास। जो पीड़ित, शोषित, गरीब, वंचित जो समाज के अंतिम पायदान पर खड़े हैं, उनको मुख्य धारा में लाना यही हमारा उद्देश्य है। समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति के विकास के लिए हमें काम करना चाहिए। श्रद्धेय अटल जी के कार्यकाल में जहां गरीबों की परेशानियां दूर हुईं, वहीं नरेंद्र मोदी जी सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के आधार पर कार्य कर रहे हैं।"

पार्टी को लेकर भाजपा अध्यक्ष बोले, "हम सब बड़े भाग्यशाली हैं, कि हम भाजपा के कार्यकर्ता हैं। भाजपा के किसी पदाधिकारी की नियुक्ति सिफारिश से नहीं होती। यहां किसी के कोटे में नियुक्ति नहीं होती, यहां भाजपा के ही कोटे पर नियुक्ति की जाती है।"

सीमा पर हरकतों के बाद चीन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की तैयारी, भारत लाने जा रहा सख्त Security Rules

कोरोना काल को लेकर उन्होंने बताया, "कोरोना काल में दुनिया मुसीबत में थी। लेकिन हमें गौरवान्वित होना चाहिए की हमारे पास नरेंद्र मोदी जैसा नेता, पार्टी के लिए भी और देश के लिए भी उपलब्ध रहा, जिसने इस संक्रमण काल से देश की 130 करोड़ जनता को बाहर निकाला और साथ ही दुनिया को भी रास्ता दिखाया।"

संसद के मानसून सत्र में पारित किए गए कृषि विधेयकों पर नड्डा ने बताया, "हाल ही में कृषि क्षेत्र में जो सुधार किए गए हैं, वो 70 साल से नहीं हो सके। नरेंद्र मोदी जी ने इन सुधारों से किसानों को बिचौलियों से आजाद किया है। किसान अपनी उपज देश में कहीं भी, किसी भी समय और किसी भी दाम पर बेच सकते हैं।"

विपक्ष पर निशाना साधते हुए नड्डा बोले, "कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग की बात अगर बात शरद पवार कहें तो बहुत अच्छा, और मोदी जी कहें तो उन्हें एंटी फार्मर कहा जाता है। ये कैसी सोच है? 2019 में कांग्रेस अपने मैनिफेस्टो में लिखती है कि हम APMC से किसानों को आजाद करेंगे। तुम लिखते रह गए और मोदी जी ने किसानों को बंधनों से आजाद कर दिया। जब आजाद कर दिया तो इसके विरोध में ट्रैक्टरों में सोफा लगाकर घूमने लगे।"

स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइंस, कोरोना के चलते कहां और कौन-कौन नहीं मना पाएगा त्योहार-समारोह

किसानों को लेकर जारी विपक्ष के प्रदर्शन पर वो बोले, "किसानों को मिली आजादी का विरोध करने के लिए तुम लोग ट्रैक्टर जलाकर, ट्रैक्टर का निरादर कर रहे हो। तुम कैसे किसान नेता हो? क्या कोई किसान नेता ट्रैक्टर जलाता है? क्या कोई किसान नेता हल जलाता है? जो तुम लोग जला रहे हो वो पूजनीय चीजें हैं। भाजपा ने तय किया है कि हम ट्रैक्टर का भी सम्मान करेंगे, हल का भी सम्मान करेंगे और किसान का भी सम्मान करेंगे और किसानों को साथ लेकर आगे बढ़ेंगे।"

शिक्षा को लेकर नड्डा ने कहा, "राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के लिए 2 लाख से ज्यादा सुझाव आए, तब जाकर ये तैयार हुई है। हर किसी ने इसे एक ध्वनि मत से स्वीकार किया है। सभी कार्यकर्ताओं को इस शिक्षा नीति की गहराइयों को समझना चाहिए।"

वहीं, चीन के मुद्दे पर भाजपा प्रमुख बोले, "पिछले 6 वर्षों में चीन के बॉर्डर पर करीब 4,700 किमी की सड़क बनकर तैयार हुई है। निर्माण कार्यों में करीब 32 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। इन सड़कों पर करीब 14,450 मीटर के पुल बने हैं, इनके निर्माण कार्यों में करीब 98 प्रतिशत का इजाफा हुआ है।"

जुलाई 2021 तक भी COVID-19 Vaccine पूरे देश को नहीं मिल पाएगी! स्वास्थ्य मंत्री की घोषणा का है यह मतलब

महाराष्ट्र को लेकर उन्होंने कहा, "देवेंद्र फडणवीस जी के मुख्यमंत्री बनने से पहले शिक्षा के मामले में महाराष्ट्र 17वें स्थान पर था, उनके कार्यकाल के अंत में राज्य तीसरे स्थान पर आ गया। स्वास्थ्य के क्षेत्र में महाराष्ट्र पहले छठे स्थान पर था, जो उनके कार्यकाल के अंत में तीसरे स्थान पर आ गया।"

फिर उन्होंने महाराष्ट्र में हुए सियासी ड्रामे पर कहा, "महाराष्ट्र में आने वाले समय में तीनों पार्टियां सदा-सदा के लिए विपक्ष में रहेंगी, भाजपा अकेले अपने बल पर महाराष्ट्र में आएगी। महाराष्ट्र में जो धोखा हुआ है वो देवेन्द्र फडणवीस या भाजपा से नहीं हुआ है, ये धोखा महाराष्ट्र की जनता से हुआ है।"

Coronavirus in india
Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned