script112 saved life who suicide because of depression | डिप्रेशन में आकर खुदखुशी करने वालों के लिए 112 बना देवता... 7 हजार से ज्यादा की बचाई जिंदगी | Patrika News

डिप्रेशन में आकर खुदखुशी करने वालों के लिए 112 बना देवता... 7 हजार से ज्यादा की बचाई जिंदगी

locationरायपुरPublished: Dec 24, 2023 09:58:10 am

Submitted by:

Kanakdurga jha

Chhattisgarh News : किसी परेशानी या असफलता से दुखी होकर खुदकुशी करने की कोशिश करने वाले 7 हजार से ज्यादा लोगों के लिए डॉयल 112 के पुलिस जवान देवदूत बनकर पहुंचे।

suicide_case.jpg
Raipur news : किसी परेशानी या असफलता से दुखी होकर खुदकुशी करने की कोशिश करने वाले 7 हजार से ज्यादा लोगों के लिए डॉयल 112 के पुलिस जवान देवदूत बनकर पहुंचे। उन्हें खुदकुशी करने से बचाया। साथ ही 129 नवजातों का गाड़ी में सुरक्षित जन्म कराया। प्रदेश के अलग-अलग इलाके में लोगों ने जान देने की कोशिश की, जिसकी सूचना डॉयल 112 को मिली।
इसके तत्काल बाद डॉयल 112 की टीम मौके पर पहुंची। उसमें तैनात पुलिस जवानों ने खुदकुशी करने से रोका। उनकी जान बचाई और जीने के लिए प्रेरित किया। वर्ष 2023 में जनवरी से नवंबर के बीच डॉयल 112 की टीम ने अलग-अलग जिलों में कुल 7 हजार 727 लोगों को समय पर पहुंचकर आत्महत्या करने से बचाया। इसी अवधि में 19 लाख से अधिक लोगों ने अलग-अलग इमरजेंसी के लिए डॉयल 112 से मदद मांगी है।
यह भी पढ़ें

राजधानी की 88 दुकानों से 18 हजार क्विंटल चावल गायब, सिर्फ 89 सौ क्विंटल ही हुई वसूली



34 हजार 456 गर्भवर्तियों को पहुंचाया अस्पताल
मेडिकल इमरजेंसी में भी डॉयल 112 की टीम एक कदम आगे रही। 34 हजार 456 गभर्वती माताओं को प्रसव के लिए अस्पताल पहुंचाया। इस दौरान 129 नवजातों का जन्म सुरक्षित रूप से डॉयल 112 की गाडि़यों में कराया गया है। इसमें नवजात और प्रसूता पूरी तरह से स्वस्थ रहे। मेडिकल इमरजेंसी से जुड़ी 2 लाख 90 हजार 42 सूचनाएं मिलीं। इनमें से अधिकांश स्थानों पर डॉयल 112 की गाडि़यों से ही पीडि़त को अस्पताल पहुंचाया गया है।
16 जिलों में चल रही यह सेवा
प्रदेश में इमरजेंसी नंबर डॉयल 112 की सेवा 11 जिलों में शुरू की गई थी। इन्हीं जिलों से अलग होकर कुछ नए जिले बने हैं, उनमें भी यह सेवा चल रही है। नए जिलों को मिलाकर कुल 16 जिलों में इसकी सेवा है। पिछले 11 माह में डॉयल 112 में कुल 19 लाख 90 हजार 159 लोगों ने इमरजेंसी मदद के लिए कॉल किया था। इसमें आगजनी, मेडिकल, महिला संबंधी अपराध, बच्चों संबंधित शिकायत, सड़क दुर्घटना, किसानों की शिकायत, महिलाओं को घर तक सुरक्षित पहुंचाने, आत्महत्या करने की सूचना, गर्भवती को अस्पताल पहुंचाने, कोरोना संबंधी, घर में सांप निकलने आदि जैसी शिकायतें शामिल हैं।
यह भी पढ़ें

सरकारी शराब में मिलावट किए जाने के मामले में कलेक्टर सख्त, दिए जांच के आदेश, वीडियो हुआ था वायरल




डॉयल 112 के जरिए लोगों को फायर, एंबुलेंस और पुलिस की इमरजेंसी मदद पहुंचाई जा रही है। आपातकालीन अन्य शिकायतों और सूचनाओं पर भी काम किया जाता है। कई लोगों को खुदकुशी करने से बचाया गया है। इसमें टीम के पुलिस जवानों की भूमिका काफी सराहनीय रही है।
-अभिषेक सिंह, एसपी, डॉयल 112, रायपुर

ट्रेंडिंग वीडियो