आजम खान के गढ़ में 'सैकड़ों' साल पुरानी मजार पर चला बुलडोजर, डीएम बोले- होती थीं गलत क्रियाएं

Highlights:

-जिलाधिकारी ने बताया कि ये जगह उद्धान विभाग की थी

-उद्धान विभाग की जमीन पर मजार होने का कोई नक्शा नहीं है

-मजार हटाने के दौरान छावनी में तब्दील हुआ एरिया

By: Rahul Chauhan

Published: 01 Dec 2020, 09:19 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

रामपुर। नगर पालिका के बुलडोजर ने कथित सैकड़ों साल पुराने मजार को जमींदोज कर मजार का मलवा भी वहां से उठाकर दूसरी जगह फेंक दिया है। बताया जा रहा है कि सैकड़ों साल पुरानी इस मजार पर हुई कार्रवाई को लेकर मजार की सेवा करने वाले समेत लोगों में रोष है। वहीं रामपुर जिलाधिकारी आञ्जनेय कुमार सिंह ने बताया कि ये जगह उद्धान विभाग की थी। उद्धान विभाग की जमीन पर मजार होने का न तो कोई नक्शा है और न ही उस मजार को लेकर कोई इतिहास है। कुछ लोगों ने यहां पर ये बना दिया।

यह भी पढ़ें: यूपी के बरेली में लव जिहाद का दूसरा मामला दर्ज

आरोप है कि यहां पर गलत क्रियाएं होती थीं। विकास के कार्यों को आगे बढ़ाना है, उसी को ध्यान में रखकर ये कार्रवाई की गई है। डीएम ने ये भी साफ किया है कि अगर यहां पर मजार होता तो उसके अभिलेख भी होते। पर उक्त मजार को लेकर कोई इतिहास व रिकार्ड न तो नगर पालिका में हैं और ना ही रजा लाइब्रेरी की किसी किताब में। इस मजार का कोई जिक्र होना नहीं पाया गया है। मजार के नाम का सवाल है तो जंजीर वाले बाबा का मजार बरेली में हैं। यहां पर कोई नहीं।

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी ने दीप जलाकर देव दीपावली का किया शुभारंभ, 15 लाख दियो की रोशनी से जगमग हो उठे काशी के 84 घाट

दरअसल, सोमवार सुबह नगरपालिका की एक जेसीबी मशीन भारी पुलिस फोर्स के साथ एशिया की सुप्रसिद्ध बनी रजा लाइब्रेरी के ठीक सामने पार्क में पहुंची। इस दौरान पूरे रजा लाइब्रेरी कैंपस को चारों तरफ से छावनी में तब्दील कर दिया गया और फिर अंदर यह कार्रवाई चली। मजार को तोड़ने के बाद बैरिकेडिंग लगाकर मलबा भी दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया गया। जानकारी के अनुसार मजार पर एक तख्ती लगी थी। जिस पर लिखा था जंजीर वाले बाबा। अधिकारियों के मुताबिक जंजीर वाले बाबा का जब अभिलेख तलाशा गया तो ना तो उनका कोई रिकॉर्ड नगर पालिका में मिला और ना ही किसी अन्य नक्शे में जंजीर वाले बाबा की मजार होना पाया गया। ऐसी स्थिति को ध्यान में रखते हुए उसे अवैध मानते हुए तोड़ दिया गया।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned