विवाह या निकाह, पहले सरकार को चाहिए टॉयलेट में सेल्फी

विवाह या निकाह, पहले सरकार को चाहिए टॉयलेट में सेल्फी

Ashish Pathak | Updated: 12 Oct 2019, 11:49:48 AM (IST) Ratlam, Ratlam, Madhya Pradesh, India

स्वच्छता अभियान के अंतर्गत लागू हुआ नियम, सीएम कन्यादान विवाह व निकाह के लिए जरूरी हुआ टॉयलेट में फोटो लेना

रतलाम. मुख्यमंत्री कन्यादान योजना अंतर्गत विवाह या निकाह करने जा रहे है तो और लाभ के 51 हजार रुपए चाहिए तो शादी के तुरंत बाद दूल्हे को दुल्हन के साथ टॉयलेट में सेल्फी लेना होगी। इस सेल्फी को सरकार को देना होगा। ये करने पर ही योजना अंतर्गत 51 हजार रुपए दुल्हन को दिए जाएंगे। ये नियम हाल ही में सीएम विवाह - निकाह योजना में हुए बदलाव के बाद लागू किया गया है। इस नियम को लागू करने का मकसद स्वच्छता अभियान को बढ़ावा देना है।

MUST READ : पहली करवाचौथ तो भूलकर मत करना यह 6 काम

gold_price_today.jpg

इस नियम के लागू होने के पूर्व सरकारी नियम इस योजना में अलग था। नगरीय निकाय हो या ग्रामीण जनपद में आने वाले गांव, इसके अंतर्गत मुख्यमंत्री कन्यादान विवाह या निकाह करने वालों को पहले टॉयलेट नहीं होने की दशा में एक माह का समय दिया जाता था। विवाह के एक माह में टॉयलेट बनवाना होता था। इसके बाद शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में बने हुए टॉयलेट का भौतिक सत्यापन होता था। इसके बाद सरकार दुल्हन को योजना में 51 हजार रुपए का लाभ देती थी।

MUST READ : मोबाइल गेम में टास्क पूरा करने बगैर बताए घर से निकला किशोर

dd_kamalnath.jpg

अब लागू हो गए ये नियम

सितंबर माह में मध्यप्रदेश सरकार ने इस नियम को बदल है। अब योजना में शामिल ५१ हजार रुपए दुल्हन को चाहिए तो दुल्हे को पहले अपनी दुल्हन के साथ टॉयलेट में सेल्फी लेना होगी। इस सेल्फी को शहर में नगरीय निकाय व गांव में जनपद में उन आयोजक को इस सेल्फी को देना होगा जो विवाह योजना का संचालन करते है। इसके बाद अधिकारियों द्वारा टॉयलेट का भौतिक सत्यापन होगा। जिसमे ये जांच की जाएगी की टॉयलेट हितग्राही के घर में ही है या नहीं। इसके बाद योजना की राशि का लाभ दुल्हन को दिया जाएगा।

MUST READ : दिवाली पर गणेश पूजन में सूंड का रखे विशेष ध्यान, नहीं तो चली जाती है महालक्ष्मी

टॉयलेट बनवाने की छूट

पहले शादी के 30 दिनों के भीतर टॉयलेट बनवाने की छूट थी जिसे खत्म कर दिया गया है। नए नियम के बारे में अधिकृत सूचना का इंतजार है।

- एसएस चौहान, जिला अधिकारी, सामाजिक न्याय विभाग

MUST READ : रेलवे चला रहा तीन स्पेशल ट्रेन

दिवाली पूजा का बेस्ट मुहूर्त यहां पढे़ं

मध्यप्रदेश में तीन माह बाद याद आई शिक्षक की भर्ती

toilet2.jpg
Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned