ग्रहण की रात करें इन मंत्रों का जप, हो जाएगी हर बाधा दूर

ग्रहण की रात किए गए गृहों के उपाय या टोटके बडे़ लाभ देते है। इस रात विवाह बाधा हो या दुश्मन की समस्या, सब कुछ समाधान हो जाता है।

By: Ashish Pathak

Published: 21 Jun 2019, 02:24 PM IST

रतलाम। आगामी 2 जुलाई व 16-17 जुलाई को दो बड़े ग्रहण आ रहे है। एक सूर्य ग्रहण है तो दूसरा चंद्र ग्रहण है। भारतीय ज्योतिष में ग्रहण का विशेश महत्व है। ग्रहण की रात किए गए गृहों के उपाय या टोटके बडे़ लाभ देते है। इस रात विवाह बाधा हो या दुश्मन की समस्या, सब कुछ समाधान हो जाता है। इतना ही नहीं, अगर धन से लेकर रोजगार की समस्या आ रही हो तो वो भी दूर होती है। ये बात रतलाम के प्रसिद्ध ज्योतिषी वीरेंद्र रावल ने कही। वे इंद्रा नगर में भक्तों को ग्रहण की रात किए जाने वाले मंत्र जप के बारे में बता रहे थे।

ज्योतिषी रावल ने कहा कि मंत्रो का जीवन में बड़ा सकारात्मक असर होता है। जिस तरह से देवता की पूजन करने से वे प्रसन्न होते है, उसी तरह मंत्र जप से देवता प्रसन्न होकर हर उस समाधान को करते है, जो जीवन में समस्या होती है। इसलिए विभिन्न प्रकार की समस्या के लिए मंत्र जप के बारे में बताया गया है। बस जरूरी ये होता है कि मंत्र का जप नियम अनुसार किया जाए। कुछ मंत्र इस प्रकार के होते है जो सिद्ध करने पड़ते है, जबकि कुछ मंत्र स्वत: सिद्ध होते है। इनके जप मात्र से लाभ होना शुरू हो जाता है।

GRAHAN

विवाह बाधा दूर करें

अगर आपके विवाह में बाधा है, तो इसकी समस्या दूर करने के लिए महादेव जी ने महादेवी की विशेष मांग पर संसार को एक लााइन का मंत्र दिया था। शिव पुराण के अनुसार ह्ी उमा महेश्वराय नम: मंत्र का ग्रहण की रात जप करने से हर प्रकार के विवाह की बाधा दूर होती है। इसमे महादेवी को प्रसादी में गजक चढ़ाया जाता है। इसके अलावा दीपक, पुष्प, इत्र आदि किया जाता है। लाल रंग के पांच गुलाब भी चढ़ते है।

GRAHAN

रोजगार के लिए मंत्र

अगर लंबे प्रयास करने के बाद भी रोजगार की समस्या का समाधान नहीं हो रहा है तो भगवान गणेश का एक लाइन का मंत्र बड़ा काम करता है। आठ दिशा में गणपति का ध्यान करके ऊ भस्मास्त्राय विद्महे, एकदंताय धिमही, तन्न गणपति प्रचोदयात मंत्र का जप करने से लाभ होता है। ये मंत्र जप करने के पूर्व उत्तर दिशा में मुंह करके बैठे व घी का दीपक लगाएं। भगवान गणेश को नैवेद्य में मोदक चढ़ाएं।

दुश्मन को काबू में करने के लिए

संसार में रहते हुए अनेक लोग मित्र तो कुछ दुश्मन भी बनते है। ये आपके रोजगार या नौकरी में संकट पैदा करते है। इस प्रकार के लोगों के मन में आपके प्रति मित्रता का भाव जन्म ले व ये हमेशा बेहतर सहयोगी बनकर रहे इसके लिए मां कालिका का एक विशेष मंत्र देवी पुराण में बताया गया है। इस मंत्र को ग्रहण की रात 108 बार जप करने से हमेशा के लिए लाभ होता है। मंत्र जप के पूर्व स्नान करें व इसके बाद 11 गुलाब के फुल मां कालिका को चढ़ाए। प्रसादी में खीर चढ़ाए। इसके बाद ह्ी कालिका नम: मंत्र का जप करें। इससे लाभ होगा।

GRAHAN
Show More
Ashish Pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned