वैदिक ज्योतिष : शुक्र ग्रह का महत्व और इसका आप पर प्रभाव

भाग्य और भौतिक सुखों को करते हैं प्रदान

By: दीपेश तिवारी

Updated: 19 Aug 2021, 03:39 PM IST

वैदिक ज्योतिष में शुक्र को शुभ ग्रह माना गया है। वहीं कुंडली में यह भाग्य का कारक माना जाता है। जबकि सप्ताह में इसका दिन शुक्रवार व कारक देवी मां लक्ष्मी मानी गईं हैं।

शुक्र के ज्योतिष में खास महत्व के कारण ही कुंडली के आंकलन के दौरान इसकी स्थिति पर विशेष ध्यान दिया जाता है। शुक्र का मानव जीवन पर अत्यधिक प्रभाव माना गया है, ऐसे में ज्योतिष के जानकार एके शुक्ला का कहना है, कि शुक्र ही वह ग्रह है जो यह बताता है कि किस व्यक्ति के जीवन में कितना सुख, प्रेम व संपन्नता आएगी।

shukra grah mantra

ज्योतिष के अनुसार शुक्र ग्रह ही व्यक्ति के भौतिक, शारीरिक और वैवाहिक सुखों का आधार है। इस ग्रह को दो राशियों क्रमश: वृषभ और तुला राशि का स्वामित्व प्राप्त है, जबकि यह देवगुरु बृहस्पति की राशि मीन में उच्च माना गया है, वहीं ग्रहों के राजकुमार बुध की राशि कन्या में यह नीच स्थिति में माना जाता है। बुध और शनि ग्रहों से मित्रता रखने वाले शुक्र की सूर्य और चंद्रमा से शत्रुता मानी गई है।

मनुष्य जीवन पर शुक्र ग्रह का प्रभाव
ज्योतिष के मुताबिक शुक्र ग्रह का कुंडली के लग्न भाव में होना जातक को रूप-रंग से बेहद सुंदर व आकर्षक बनाता है। वहीं ऐसा जातक स्वभाव से मृदुभाषी होने के साथ ही कला में रूचि रखता है।

इसके अलावा शुक्र का कुंडली में मजबूत स्थिति में होना जातक के प्रेम व वैवाहिक जीवन को सुखमयी बनाता है। ऐसे में यह एक ओर जहां पति-पत्नी के बीच प्रेम की भावना को बढ़ाता है तो वहीं प्रेमी जातकों के जीवन में रोमांस बढ़ाता है। इसके साथ ही भौतिक जीवन में भी ऐसा जातक खास रूचि रखता है।

Must read- Friday Puja Path: इन त्रिदेवियों की पूजा चमका देती है भाग्य!

friday puja path

वहीं इसके विपरीत शुक्र ग्रह के कमजोर या नीच होने की स्थिति में जातक के परिवार व प्रेम के मोर्चे पर कठिनाइयों को उत्पन्न करता है। कमजोर शुक्र जातक को कम रोमांटिक बनाने के साथ ही उसके प्रेमी जीवन में उतार-चढ़ाव लाता रहता है। इसके अलावा ऐसा शुक्र पति-पत्नि में मतभेद उत्पन्न करके अकारण ही विवाद उपजाता है। इसके अलावा ये जातक को भौतिक सुख का भी भोग नहीं करने देता।

शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय:
पंडित शुक्ला के अनुसार भाग्य के कारक शुक्र को मजबूत करने के लिए धार्मिक मान्यताओं में मां लक्ष्मी की शुक्रवार को पूजा करना विशेष माना गया है। वहीं ज्योतिषशास्त्र के अनुसार भी शुक्र ग्रह को ताकतवर बनाने के लिए शुक्रवार को मां लक्ष्मी की पूजा करने के अलावा श्री लक्ष्मी सूक्त का पाठ भी करना चाहिए, माना जाता है कि ऐसा करने से धन से संबंधित परेशानियां दूर हो जाएंगी।

Must read- माता संतोषी को ऐसे करें प्रसन्न

shukra grah mantra

वहीं ज्योतिषशास्त्र के मुताबिक शुक्रवार को कुछ चीजों का दान शुक्र ग्रह को मजबूती प्रदान करता है। इसके तहत शुक्रवार को सफेद रंग के कपड़ों व खाने में सफेद चीजों का दान आता है। जिनमें खीर, दूध, चावल और दही आदि शामिल हैं।

इन सबके अलावा ये भी माना जाता है कि शुक्र को कुंडली में मजबूत करने के लिए शुक्रवार के दिन व्रत करना चाहिए। मान्यता के अनुसार इस दिन व्रत करने से कुंडली में शुक्र मजबूत होने लगता है।

दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned