scriptRaksha Bandhan 2022: Chant this mantra while tying Rakhi to brothers, know religious story | Raksha Bandhan 2022 Mantra: भाइयों को राखी बांधते समय करें इस मंत्र का जाप, विष्णु पुराण में भी मिलता है जिक्र | Patrika News

Raksha Bandhan 2022 Mantra: भाइयों को राखी बांधते समय करें इस मंत्र का जाप, विष्णु पुराण में भी मिलता है जिक्र

रक्षाबंधन एक बहुत ही खास त्यौहार है जो भाई-बहन के अटूट प्रेम और अनोखे रिश्ते की याद दिलाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधते समय बहनों को इस मंत्र का उच्चारण करना चाहिए।

नई दिल्ली

Updated: August 03, 2022 01:46:34 pm

हिंदू धर्म में मंत्र, पूजा, व्रत एवं त्योहार सभी का बड़ा महत्व बताया गया है। वहीं अलग अलग मौकों पर विशेष पूजा और मंत्र जाप का भी विधान है। राखी का त्योहार भाई-बहन के रिश्ते के अनोखेपन और प्रेम की याद दिलाता है। यह त्योहार इस साल अगस्त 2022 को मनाया जाएगा। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार जिस प्रकार रक्षाबंधन की थाली में कुछ विशेष चीजों का होना आवश्यक है उसी तरह भाइयों को राखी बांधते समय इस मंत्र का उच्चारण करना भी शुभ माना गया है। तो आइए जानते हैं राखी मंत्र और उसे पढ़ने के पीछे की धार्मिक मान्यता...

rakshabandhan 2022, rakshabandhan mantra, rakhi ka mantra, rakhi bandhne ka mantra, rakhi matra hindi mein, raksha bandhan 2022 date, raksha bandhan story,
Raksha Bandhan 2022 Mantra: भाइयों को राखी बांधते समय करें इस मंत्र का जाप, विष्णु पुराण में भी मिलता है जिक्र

राखी बांधते समय ये मंत्र पढ़ें
‘येन बद्धो बलि राजा,दानवेन्द्रो महाबल: तेन त्वाम् प्रतिबद्धनामि रक्षे माचल माचल:’
अर्थ- ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस मंत्र का अर्थ यह है कि, "जिस प्रकार रक्षा सूत्र से दानवों के पराक्रमी राजा बलि को बांधा गया था उसी प्रकार इस रक्षाबंधन से मैं तुम्हें बांधती हूं जो तुम्हारी रक्षा करे। हे रक्षा सूत्र! तुम चलायमान न हो अर्थात स्थिर रहना।"

विष्णु पुराण से संबंध
धर्म शास्त्रों के अनुसार राखी पर पढ़े जाने वाले इस मंत्र का जिक्र विष्णु पुराण तथा भविष्य पुराण में भी मिलता है। पौराणिक कथा के अनुसार राजा बलि एक दानवीर राजा का और भगवान विष्णु का बड़ा भक्त था। एक बार राजा बलि ने यज्ञ का आयोजन किया तो उसकी परीक्षा लेने के लिए विष्णु भगवान स्वयं वामन अवतार में आए और राजा बलि से दान में तीन पग भूमि देने के लिए कहा।

लेकिन भगवान विष्णु ने दो पग में ही पूरी धरती और आकाश को नाप लिया। तब राजा बलि इस बात को जान गए कि भगवान उनकी परीक्षा लेने आए हैं। इसके बाद तीसरे पग के लिए राजा बलि ने विष्णु जी जो वामन अवतार में आए थे उनका पैर अपने सर पर रखवा लिया। अपना सब कुछ दान में देने के बाद राजा बलि ने प्रार्थना की कि ईश्वर आप मेरे साथ चलकर पाताल लोक में रहें। भगवान विष्णु राजा बलि की बात मानकर पाताल लोक चले गए। बहुत समय तक विष्णु भगवान को ना पाकर लक्ष्मी जी परेशान होने लगीं।

भगवान विष्णु को वापस लाने के लिए लक्ष्मी जी ने एक गरीब महिला का वेश धारण कर लिया और राजा बलि के पास पहुंची। महिला की गरीबी देखकर राजा बलि ने उन्हें अपने साथ ही रख लिया और बहन मानकर देखरेख करने लगा। जब श्रावण मास की पूर्णिमा आई तो गरीब महिला के रूप में लक्ष्मी जी ने राजा बलि की कलाई पर कच्चा धागा बांध दिया। तब राजा बलि ने अपनी बहन को कुछ देने के लिए कहा।

तब जाकर लक्ष्मी जी अपने असली रूप में आईं। लक्ष्मी जी ने राजा बलि से कहा कि मैं यहां पर भगवान विष्णु को वापस बैकुंठ ले जाने आई हूं। गरीब महिला की सच्चाई पता लगने के बाद राजा बलि अपने वचन पर कायम रहे और भगवान विष्णु को माता लक्ष्मी के साथ वैकुंठ जाने दिया। लेकिन जाने से पहले विष्णु जी ने राजा बलि को यह वरदान दिया कि वह हर वर्ष के 4 महीने पाताल लोक में निवास करने आया करेंगे। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इन्हीं चार महीनों को चातुर्मास कहते हैं जिस दौरान भगवान विष्णु योग निद्रा में चले जाते हैं।

यह भी पढ़ें

सामुद्रिक शास्त्र: अपने पैरों के आकार से जानें जीवन की ये खास बातें

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

'इनकी पुरानी आदत है पूरे सिस्टम पर हमला करने की', कपिल सिब्बल के बयान पर बोले कानून मंत्री किरेण रिजिजूअरविंद केजरीवाल ने कहा- देश की राजनीति में परिवारवाद और दोस्तवाद खत्म कर भारतवाद लाएंगेMaharashtra Cabinet Expansion: कल हो सकता है शिंदे मंत्रिमंडल का विस्तार, CM आवास पहुंचे देवेंद्र फडणवीस'नीतीश BJP का साथ छोड़े तो हम गले लगाने को तैयार', बिहार में मचे सियासी घमासान पर बोले RJD नेता शिवानंद तिवारीगालीबाज भाजपा नेता पर रखा गया 25 हजार का इनाम, 40 टीमें तलाश में जुटीTET घोटाले में हुआ बड़ा खुलासा, शिंदे गुट के विधायक अब्दुल सत्तार की बेटियों के नाम आए सामने, शिवसेना ने बोला हमलाShirdi Flood: शिरडी में भारी बारिश से हाहाकार, सरकारी विश्राम गृह और साईं प्रसादालय पानी में डूबा, देखें तस्वीरेंझारखंडः जमशेदपुर में माता-पिता की हत्या कर 13 साल की बेटी हुई फरार, खून से सने लाश के साथ हथौड़ा भी बरामद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.