scriptsawan somvar vrat katha: read this story in Sawan Somwar fast to fulfill your wishes | Sawan Somvar Vrat Katha: सावन का आखिरी सोमवार कल, व्रत में ना भूलें इस कथा को पढ़ना | Patrika News

Sawan Somvar Vrat Katha: सावन का आखिरी सोमवार कल, व्रत में ना भूलें इस कथा को पढ़ना

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सावन में भगवान शिव का पूजन बहुत पुण्यदायी होता है। वहीं शास्त्रों के अनुसार जो जातक सावन में सोमवार व्रत करते हैं उनके लिए व्रत कथा पढ़ना जरूरी माना गया है।

नई दिल्ली

Updated: August 07, 2022 04:08:50 pm

सावन सोमवार व्रत कथा: आज सावन का अंतिम सोमवार है। सावन मास में सुहागिन महिलाओं तथा कुंवारी कन्याओं के लिए सोमवार व्रत बहुत फलदायी माना गया है। मान्यता है कि सावन सोमवार का व्रत और शिवजी के पूजन से सुहागिन महिलाओं को अखंड सौभाग्यवती तथा कुंवारी कन्याओं को मनचाहे वर प्राप्ति का आशीर्वाद मिलता है। वहीं शास्त्रों के अनुसार सावन सोमवार के व्रत में शिव पूजन के साथ ही व्रत कथा पढ़ना बहुत जरूरी माना गया है अन्यथा व्रत का संपूर्ण फल प्राप्त नहीं हो पाता। तो आइए जानते हैं सावन सोमवार व्रत कथा...

sawan somvar vrat katha hindi mein, sawan somwar vrat ki katha, sawan last monday 2022, somvar vrat katha in hindi, sawan monday fast story,
Sawan Somvar Vrat Katha: सावन का आखिरी सोमवार कल, व्रत में ना भूलें इस कथा को पढ़ना

सावन सोमवार व्रत कथा

प्राचीन समय में किसी शहर में एक धनवान साहूकार रहता था। उसके घर में किसी चीज की कमी नहीं थी सिवाय इसके कि वह संतानहीन था। पुत्र प्राप्ति की इच्छा से साहूकार हर सोमवार को व्रत रखता तथा भगवान शिव और माता पार्वती की विधि विधान से पूजा करता था।

उसकी पूजा से प्रसन्न होकर माता पार्वती ने भगवान शिव से साहूकार की इच्छा पूरी करने का आग्रह किया। भगवान शिव ने पार्वती जी से कहा कि इस संसार में सबको अपने भाग्य के अनुसार ही मिलता है। लेकिन माता पार्वती ने साहूकार की पूजा और भक्ति से प्रसन्न होकर उसकी मनोकामना पूर्ण करने के लिए शिव जी से आग्रह किया। माता पार्वती के बार बार कहने पर शंकर जी ने साहूकार को पुत्र प्राप्ति का आशीर्वाद तो दे दिया लेकिन साथ ही यह भी कहा कि साहूकार का पुत्र केवल 12 वर्षों का की जीवित रहेगा।

फिर कुछ समय बाद साहूकार के घर एक बेटे का जन्म हुआ। पुत्र के 11 साल के होने के बाद साहूकार ने उसे पढ़ने के लिए मामा के साथ काशी भेज दिया। साहूकार ने अपने बेटे को खूब सारा धन भी दिया और कहा कि रास्ते में ब्राह्मणों को भोजन, दक्षिणा देना और यज्ञ कराते हुए जाना। अपने पिताजी की आज्ञा का मान रखते हुए साहूकार का बेटा और मामा रास्ते में यज्ञ कराते हुए और ब्राह्मणों को दान देते हुए काशी के लिए चल दिए।

इस बीच एक नगर में किसी राजा की कन्या का विवाह हो रहा था। लेकिन राजकुमारी का विवाह जिस राजकुमार से हो रहा था वह आंखों से काना था। इस बात को छुपाने के लिए राजकुमार के पिता ने साहूकार के बेटे को दूल्हा बनाकर राजकुमारी से उसका विवाह करवा दिया।

लेकिन साहूकार का पुत्र ईमानदार था और इसलिए उसने राजकुमारी को सच बताने के लिए उसके दुपट्टे की पल्ले पर सच लिख दिया कि- 'तुम्हारा विवाह मेरे साथ हुआ है और जिस राजकुमार के साथ तुम्हें भेजा जाएगा वह आंखों से काना है।' तत्पश्चात राजकुमारी को जब इस बात का पता चला तो उसने अपने माता-पिता को सब सच बता दिया।

इसके बाद साहूकार का बेटा और मामा काशी पहुंच गए और वहां जाकर यज्ञ किया। उस दिन साहूकार के पुत्र की आयु की 12 वर्ष हो चुकी थी। भोले जी के वरदान के अनुसार उसी दिन उसकी मृत्यु भी हो गई। अपने भांजे की मृत्यु के शोक में मामा विलाप करने लगा। तभी वहां से शंकर भगवान और माता पार्वती गुजर रहे थे। तब उन्होंने देखा कि वह उसी साहूकार का बेटा था जिसे उन्होंने 12 साल की आयु तक जीने का वरदान दिया था।

माता पार्वती यह सब देखकर बहुत दुखी हुईं और मातृ भाव में उन्होंने भोलेनाथ से बालक को पुनः जीवित करने के लिए कहा। तब शिव जी ने साहूकार के बेटे को उन्हें जीवित कर दिया। अपनी शिक्षा समाप्त करने के बाद साहूकार का बेटा अपने मामा के साथ फिर से अपने नगर के लिए चल दिया। रास्ते में दोनों उसी से नगर में पहुंचे जहां उसका विवाह राजकुमारी के साथ हुआ था। तब राजकुमारी के पिता ने साहूकार के पुत्र को पहचान लिया और अपने महल ले जाकर उसकी खातिरदारी की। साथ ही अपनी पुत्री को साहूकार के बेटे के साथ विदा किया। जब साहूकार का बेटा अपनी पत्नी के साथ घर पहुंचा तो साहूकार और उसकी पत्नी उन्हें देखकर बहुत प्रसन्न हुए।

उसी रात साहूकार के सपने में आकर भगवान शिव ने कहा कि- 'मैंने तुम्हारे सोमवार के व्रत और कथा सुनने से प्रसन्न होकर तुम्हारे पुत्र को दीर्घायु का वरदान दिया है।' तभी से मान्यता है कि जो भक्त सावन सोमवार व्रत करता है और साथ में कथा सुनता या पढ़ता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

यह भी पढ़ें

Sawan Putrada Ekadashi 2022: पुत्रदा एकादशी व्रत कल, नोट कर लें विष्णु जी की पूजा का शुभ मुहूर्त, विधि और महत्व

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

पाकिस्तानी आकाओं के इशारे पर भारत में आतंक फैलाने की थी साजिश, ग्रेनेड के साथ 3 आतंकी गिरफ्तारIND vs SA, 2nd T20: भारत ने साउथ अफ्रीका को 16 रनों से हराया, सीरीज पर 2-0 से कब्जाअरविंद केजरीवाल का बड़ा दावा- 'गुजरात में बनेगी आप की सरकार', IB रिपोर्ट का दिया हवालासच बोलने की सजा भुगतनी पड़ी... बिहार के कृषि मंत्री के इस्तीफे पर BJP ने नीतीश पर किया हमलाअमित शाह के जम्मू दौरे से पहले पुलवामा में आतंकी हमला, पुलिस का एक जवान शहीद, CRPF जवान जख्मीIND vs SA: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान, सभी सीनियर खिलाड़ियों को मिला आरामIAF की ताकत में होगा इजाफा, कल सेना में शामिल होगा स्वदेशी हल्का लड़ाकू हेलीकॉप्टर, जानें इसकी खासियतIND vs SA 2nd T20: 2 गेंदबाज जो साउथ अफ्रीका को हराने में टीम इंडिया की मदद करेंगे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.