ठगी का ये तरीका आपके होश उड़ा देगा : सिम कार्ड वेरिफ़ाई करते ही खाते से निकल गए 6 लाख, सायबर सेल भी हैरान, जानिये मामला

ठगी का ताजा मामला मध्य प्रदेश के रीवा में सामने आया। आपको जानकर हैरानी होगी कि, ठगी का ये तरीका देश में पहली बार सामने आया है, जिसके बारे में जानकर पुलिस भी हैरान रह गई है।

By: Faiz

Published: 21 Jun 2021, 02:07 PM IST

रीवा/ मध्‍य प्रदेश सायबर ठगी की वारदातें दिन ब दिन बढ़ती जा रही है। जैसे जैसे सायबर सेल ठगी के तरीकों को अनलॉक कर लोगों को जागरूक करने का काम कर रहा है। वैसे वैसे ये ठग लोगों को चूना लगाने के नए और अनोखे तरीके ईजाद कर ले रहे हैं। सायबर ठगी का ताजा मामला मध्य प्रदेश के रीवा में सामने आया। आपको जानकर हैरानी होगी कि, ठगी का ये तरीका देश में पहली बार सामने आया है, जिसके बारे में जानकर पुलिस भी हैरान रह गई है।

 

पढ़ें ये खास खबर- MP में वैक्सीनेशन का महाअभियान : सुबह से ही सेंटरों पर लगी लंबी कतारें, कहीं मिल रहे इनाम, तो कहीं दिये जा रहे ऑफर


रिटायर्ड डॉक्टर के खाते से निकले 6 लाख

दरअसल, रीवा में रहने वाले रिटायर्ड डॉक्टर ने सिर्फ अपना सिम कार्ड वैरिफाई किया, तो उनके खाते से 6 लाख रुपये निकल गए। हैकर ने बड़े ही शातिराना ढंग से सिम बंद होने के नाम पर उनके साथ ऑनलाइन ठगी की वारदात को अंजाम दे दिया। घटना समान थाना इलाके की है। फिलहाल, पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।


फोन पर आया ये मैसेज

बता दें कि, जिले के समान थाना प्रभारी निरीक्षक सुनील गुप्ता ने बताया कि, सरकारी सेवा से रिटायर हुए डॉ. अंबिका प्रसाद द्विवेदी शहर के संजय नगर के निवासी हैं।उनके मोबाइल पर 17 जून की रात सिम के वैरिफिकेशन के लिए एक मैसेज आया। मैसेज में लिखा था कि, आपके सिम का वैरिफिकेशन किया जा रहा है। इसके लिए उन्हें 11 रुपये का रीचार्ज करना होगा। अगर वैरिफिकेशन न कराया, तो सिम बंद कर दी जाएगी। मैसेज के साथ एक अन्य मैसेज में लिंक भी दिया गया, जिसमें लिखा था कि, '11 रुपये का रीचार्ज करने के लिये इस लिंक पर क्लिक करें'।

 

पढ़ें ये खास खबर- मध्य प्रदेश में पाकिस्तानियों को भी लगाई जा रही वैक्सीन, जानिये यहां क्यों आए हैं ये लोग


मैसेज देखे तो उड़ गए होश

डॉ. द्विवेदी कि, सिर्फ एक चूक, जो उन्होंने सोचा कि, अब कोन अन्य रीचार्ज एप पर जाकर 11 रुपये वाला रीचार्ज ढूंढकर फोन रीचार्ज करे, जब लिंक यहीं दिया गया है, तो तुरंत यहीं से रीचार्ज क्यों न कर लें। डॉक्टर ने हैकर के बताए मुताबिक, लिंक पर जैसे ही क्लिक किया, उनके खाते से एक के बाद एक कई ट्रांजेकशनों के मैसेज आने शुरु हो गए। डॉ. के मुताबिक, अचानक ही उन्हें कोई जरूरी काम भी आ गया, जिसके चलते वो करीब एक घंटे के लिये अपने फोन से दूर रहे, लेकिन जब एक घंटे बाद उनकी नजर फोन के मैसेज बॉक्स पर पड़ा, तो उनके पैरों के नीचे से जमीन निकल गई। सिर्फ एक घंटे के भीतर ही हैकर ने उनके खाते से 6 लाख 423 रुपए निकाल लिये थे। अगले दिन वो बैंक पहुंचे, जहां से उन्हें मामले की शिकायत दर्ज कराने की हिदायत दी गई। इसके बाद उन्होंने पुलिस में इसकी शिकायत की।


इन्हें पकड़ने में क्यों असफल है पुलिस

जांच में जुटी समान थाना पुलिस के मुताबिक, आए दिन लोग ऑनलाइन ठगी के शिकार होने लगे हैं। तकनीक का सहारा लेकर अपराधी जुर्म तो करता है, लेकिन अधिकतर उसकी लोकेशन ही सर्च नहीं हो पाती, जिसके चलते वो पुलिस पकड़ से दूर रहते हैं। पुलिस और सायबर सेल द्वारा चलाए जा रहे जागरुकता अभियान के बावजूद लोग भी अधिकतर लापरवाही बरतते हैं। तो, ये शातिर ठग भी लोगों को अपने जाल में फंसाने के लिये नए नए तरीके गढ़ लेते हैं। पुलिस का कहना है कि, ऑनलाइन ठगी करने वाले ये गिरोह अकसर देश के बड़े शहरों से अपने काम का संचालन करते हैं। ये देश के किसी भी कोने में बैठकर लोगों को अपना शिकार बना लेते हैं।

 

कोरोना वैक्सीन से जुड़े हर सवाल का जवाब - जानें इस वीडियो में

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned