जेएनयू में छात्रों पर नकाबपोश गुंडों के हमले को देवबंदी आलिम ने बताया सोची समझी साजिश, गृहमंत्री को बताया जिम्मेदार

  • छात्रों की पिटाई की घटना को मानवता खर्मसार करने वाला बताया
  • सरकार से निश्पक्ष जांच कर दोषियों को सजा देने की मांग की
  • एवीबीपी के गुंडों पर लगाया कानून को हाथ में लेने का आरोप

By: Iftekhar

Published: 06 Jan 2020, 07:26 PM IST

देवबन्द. दिल्ली की जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) यूनिवर्सिटी के गर्ल्स हॉस्टलों में घुसकर नकाबपोश एवीबीपी के गुंडों के हमले की चारों तरफ निंदा हो रही है। इसी कड़ी में देवबंद के उलेमा ने इस घटना की कड़ी निंदा की है। बच्चों की पिटाई पर गुस्सा जाहिर करते हुए उन्होंने साफ कहा कि जिस तरह से दिल्ली पुलिस बाहर खड़ी रही और आरएसएस समर्थित एक संगठन के छात्र व अपराधिक लोग जेएनयू के कैंपस के अंदर घुसकर छात्र-छात्राओं के साथ मारपीट करते रहे। यह पूरी तरह गैर संवैधानिक, अनैतिक और घृणित कार्य है । उलेमा ने इस गुडई के लिए गृहमंत्री को जिम्मेदार ठहराया और देशवासियों से आहवान किया कि सब एक साथ खड़े होकर देश मानवता और संविधान को बचाने का काम करें।

यह भी पढ़ें: जुमे की नमाज के बाद मुसलमानों ने रो-रोकर मांगी ऐसी दुआ, देखें video

इस मामले पर अपनी बेबाक राय रखते हुए ऑनलाइन फतवा विभाग के चेयरमैन मौलाना मुफ्ती अरशद फारूकी ने कहा कि जेएनयू मे संवैधानिक ढंग से अपने अधिकारों के लिये संघर्ष कर रहे छात्र-छात्राओं को जिस तरीके से कैंपस में आरएसएस के छात्र विंग (ABVP) ने घुसकर पीटा और वह पुलिस जो जामिया मिल्लिया और एएमयू में बिना इजाजत अंदर घुसकर छात्रों को जानवरों की तरह पीटने में जरा भी नही हिचकिचायी। वही पुलिस जेएनयू में गेट के बाहर मूकदर्शक बनकर खड़ी रही और अंदर कैंपस में घुसकर आरएसएस समर्थित संगठन के गुंडों और अपराधिक तत्व जिस तरह मारपीट की। वह सोची समझी साजिश का हिस्सा है।

यह भी पढ़ें: CAA के खिलाफ देशभर में जारी प्रदर्शन का दम निकालने के लिए भाजपा
ने उठाया यह बड़ा कदम

उन्होंने कहा कि छात्र छात्राओं के साथ जालिमाना तरीके से असामाजिक तत्व घंटों तक मारपीट करते रहे, लेकिन पुलिस ने कोई कार्यवाई नहीं की। इस घटना से मानवता भी शर्मशार हो गयी है। मौलाना ने गृहमंत्री को इस मामले के लिये जिम्मेदार ठहराते हुये कहा कि हम गृहमंत्री के जमीर को जगाना चाहते है, ताकि इस मुल्क को बचाया जा सके। मौलाना ने आगे कहा कि हम अपने अधिकार के तहत उनसे यह मांग करते हैं कि इंसानियत के नाते इस मामले को गंभीरता से लें और इसमें जो भी शामिल हैं। उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।

Show More
Iftekhar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned