विधानसभा में उठा स्मार्ट मीटर की गड़बड़ी का मुद्दा

  • विधायक ने कहा मीटर की गड़बड़ी से बढ़कर आ रहा बिल
  • गलत बिलों में सुधार होने तक रोकी जाए वसूली

 

By: shivmani tyagi

Published: 22 Feb 2021, 09:18 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
सहारनपुर . स्मार्ट मीटर से हो रही बिल में गड़बड़ी का मुद्दा विधानसभा तक जा पहुंचा है। सहारनपुर नगर के विधायक और समाजवादी व्यापार सभा के प्रदेश अध्यक्ष संजय गर्ग ने इस मामले को विधानसभा में उठाते हुए कहा है कि जंपिंग के कारण जिन ग्राहकों के बिल बढ़कर आ रहे हैं उनकी वसूली पर रोक लगाई जाए।

यह भी पढ़ें: यूपी के मुजफ्फरनगर में बीजेपी नेताओं और किसानाें के बीच मारपीट के बाद जमकर हंगामा

इसके साथ ही विधायक ने कोरोना योद्धाओं और सफाई कर्मियों की कोरोनावायरस की वजह से हुई मौत के बाद उनके परिवार वालों को 50 लाख रुपये बीमा राशि दिए जाने की मांग भी की है। सहारनपुर नगर विधायक संजय गर्ग ने विधानसभा में स्मार्ट मीटर का मुद्दा उठाते हुए कहा कि स्मार्ट मीटर में जंपिंग की शिकायत आ रही है। जंपिंग की वजह से लोगों के बिल अचानक बढ़कर आ रहे हैं। ऐसे लोगों की कोई सुनवाई नहीं हो रही और पावर कॉरपोरेशन वसूली का दबाव बना रहा है। ऐसे में इन लोगों की बिलों की त्रुटि ठीक होने तक भुगतान वसूली में रोक लगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अकेले सहारनपुर में विद्युत नगरीय वितरण खंड प्रथम में 28049 और विद्युत नगरीय वितरण खंड द्वितीय में 21498 मीटर लगाए जा चुके हैं। इन मीटर के लगने के बाद अधिकांश उपभोक्ता इस बात को लेकर परेशान हैं कि स्मार्ट मीटर लगने के बाद से उनकी मीटर रीडिंग गड़बड़ा गई है और उनका बिजली का बिल दोगुना हो गया है। यह मुद्दा उठाते हुए उन्होंने बिजली की बिल की वसूली पर रोक लगाए जाने की मांग की है और कहा है कि जिन लोगों के बिल गड़बड़ हैं उनके बिल ठीक होने तक वसूली नहीं होनी चाहिए। इसके साथ उन्होंने सफाई कर्मियों का भी मुद्दा उठाया और कहा कि सफाई कर्मियों की मौत होने पर उनके परिवार वालों को 50 लाख रुपए की बीमा राशि मिलनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: UP Budget 2021-22: योगी सरकार ने रैपिड रेल कॉरिडोर के लिए दिए 1326 करोड़

उन्होंने कहा कि सहारनपुर में इंदिरा कॉलोनी के रहने वाले सफाई कर्मी रवि की कोरोना से मौत हो गई थी। शासन की ओर से सफाई कर्मियों का 50 लाख रुपए का बीमा करने की घोषणा की गई थी लेकिन उसके परिवार वालों को अभी तक कोई सहायता नहीं मिली है। विधायक ने विधानसभा में इस मामले को उठाते हुए सफाई कर्मी के परिवार वालों को 50 लाख रुपए बीमा राशि दिए जाने की मांग भी की है।

sre.jpg
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned