तीन तलाक कानून का एक साल पूरा होने पर मुस्लिम महिलाओं ने प्रधानमंत्री से कहा अब तलाक देने से डरने लगे हैं पति

  • महिलाएं बाेली जब तक तक मामला कोर्ट में चले तब तक दूसरे निकाह पर भी लगे पाबंदी
  • भाजपा मनाएगी 3 अगस्त तक कार्यक्रम, मुस्लिम महिलाओं से लिया जाएगा फीडबैक

By: shivmani tyagi

Updated: 01 Aug 2020, 09:42 PM IST

मेरठ। अगस्त महीने का पहला सप्ताह भाजपा और केंद्र के लिए ऐतिहासिक होने जा रहा है। इसी सप्ताह राम मंदिर का भूमि पूजन है तो दूसरी ओर अनुच्छेद 370 को हटे एक साल हो गया है। इतना ही नहीं तीन तलाक बिल पास हुए भी एक साल पूरा हो गया है।

यह भी पढ़ें: Bulandshahr में अधिवक्ता की अपहरण के बाद हत्या, प्रियंका गांधी बोलीं- पता नहीं यह सरकार कब तक सोएगी

इस मौके पर भाजपा की ओर से जश्न मनाया जा रहा है। बीजेपी की ओर से तीन अगस्त तक महिला मोर्चा और अल्पसंख्यक मोर्चा के कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इन कार्यक्रमों में महिला मुस्लिम बुद्धिजीवियों से भी संपर्क साधा जा रहा है। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की महिला प्रकोष्ठ की राष्ट्रीय संयोजिका शाहीन परवेज कहती हैं कि बेटियों को समानता और सुरक्षा का अधिकार देने के लिए एक वर्ष पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने तलाक़-ए-बिद्दत के ख़िलाफ़ एक क़ानून बनाया था।

यह भी पढ़ें: नशे में धुत्त चौकी इंचार्ज ने तोडा वकील का हाथ, अल्टीमेटम के बाद एसएसपी ने किया निलंबित

तीन तलाक कानून ( Muslim women ) के खिलाफ इस कानून से मुस्लिम महिलाओं को बहुत फायदा पहुंचा। सारी मुस्लिम महिलाओं ख़ासतौर से मुस्लिम राष्ट्रीय मंच से जुड़ी महिलाओं ने प्रधानमंत्री का आभार प्रकट किया है। महिलाओं का कहना है कि, जब से क़ानून बना है तब से तीन तलाक़ के केसों में काफी कमी आई है। अब पति तीन तलाक देते हुए डरने लगे हैं। तीन तलाक़ के विरुद्ध कानून बनने के बाद कई महिलाओं के परिवार बस गए हैं।

यह भी पढ़ें: बुलंदशहर: छह दिन से लापता वकील का शव पुलिस चौकी के पीछे फैक्ट्री से मिला

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की महिला प्रकोष्ठ की राष्ट्रीय संयोजिका ने बताया कि यह कानून बने एक साल हो गया है। अब तीन तलाक देने में पति डरने लगे हैं। कानून में पीडि़त महिला गुजारे भत्ते की भी हकदार है। इस कानून में एक प्रावधान और शामिल होना चाहिए कि जब तक मामला कोर्ट में चले, पति दूसरी शादी न कर सके। इसके साथ ही बहु पत्नी व्यवस्था पर रोक लगनी चाहिए।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned