सहारनपुर में फोरलेन एसएच-59 पर टोल टैक्स शुरू होते लगा कई किमी लंबा जाम, चिलचिलाती धूप में लोग हुए बेहाल

सहारनपुर में फोरलेन एसएच-59 पर टोल टैक्स शुरू होते लगा कई किमी लंबा जाम, चिलचिलाती धूप में लोग हुए बेहाल

Iftekhar Ahmed | Publish: Jun, 24 2018 08:15:17 PM (IST) Saharanpur, Uttar Pradesh, India

सहारनपुर-मुजफ्फरनगर फोरलेन हाई-वे पर टोल शुरू होते ही चरमरा गई व्यवस्था

 

 

सहारनपुर. मुजफ्फरनगर के रामपु़र तिराहे से सहारनपुर स्थित गागलहेड़ी तक बनाई गई फोरलेन एसएच-59 हाई-वे के टोल प्लाजा का शासनादेश के बाद रविवार को आरंभ हो गया। लेकिन पहले ही दिन जिस तरह से टोल प्लाजा पर वाहनों की लंबी कतार लगी, उससे वाहन चालकों का गुस्सा चरम पर पहुंच गया। इतना ही नहीं, वाहन चालकों में टोल प्लाजा पर लिए जा रहे भारी भरकम टोल की रकम निर्धारित करने को लेकर भी खासा गुस्सा टोलकर्मियों को पहले दिन झेलना पड़ा।

यह भी पढ़ें- UP में सैकड़ों दलितों ने इस वजह से छोड़ा हिन्दू धर्म, इस मजहब का थामा दामन, RSS में बढ़ी बेचैनी

शासनादेश जारी होने के बाद रविवार को एकाएक एपको कंपनी ने मुजफ्फरनगर सीमा पर बने टोल प्लाजा पर टोल वसूलना शुरू कर दिया। टोल आरंभ होते ही टोल पर अप्रशिक्षित कर्मियों के चलते दोनों ओर एक से डेढ़ किमी लंबी कतारें लग गई। भीषण गर्मी में बौखलाए वाहन चालकों ने टोल पर हंगामा करना आरंभ कर दिया। वाहन चालकों ने टोलकर्मियों को सुप्रीम कोर्ट की रुलिंग से भी अवगत कराते हुए कहा कि जब टोल पर लंबा जाम लगता है तो टोल फ्री कर दिया जाता है। लेकिन एपको अधिकारियों ने उनकी नहीं सुनी। लोगों की राहत के लिए बनाया गया फोरलेन टोल प्लाजा आरंभ होते ही मुसिबतों का पाहड़ बनकर खड़ा हो गया।

यह भी पढ़ें- हापुड़ लिंचिंग मामले में कठघरे में आई भाजपा सरकार, ओवैसी ने उड़ाए भाजपा के होश

भीषण गर्मी में आग उगलती धूप में रेंग-रेंग कर चल रहे वाहन चालकों का गुस्सा चरम पर पहुंच गया। देखते ही देखते हंगामा शुरू हो गया। जिसके चलते मुजफ्फरनगर से पहुंची पुलिस को स्थिति को भी संभालना पड़ा। टोल आरंभ होने के बाद अपनी कार से मुजफ्फरनगर जा रहे अर्पन बिंदल, पूर्व सभासद इसरार गौरी, सिकंदर अली, शैंकी बिंदल और ऋषभ जैन, समीर उस्मानी एवं फराज उस्मानी ने बताया कि वह जाम के चलते पिछले 40 मिनट से रेंग-रेंग कर टोल के निकट पहुंचे, जबकि मुजफ्फरनगर का रास्ता देवबंद से मात्र 40 मिनट का ही है। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट की रुलिंग का हवाला देते हुए बताया कि जब जाम एक किमी की स्थिति में पहुंच जाता है तो टोल को फ्री कर दिया जाता है। और पहले जाम को खत्म किया जाता है। उनका आरोप है कि टोल कर्मी किसी की सुनने के बजाए अभद्रता कर रहे हैं। किसी अधिकारी से भी बात नहीं करा रहे हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned