बैंकिंग लोकपाल ने ग्राहकों को किया जागरूक

www.patrika.com/rajasthan-news

By: rakesh verma

Published: 18 Dec 2018, 12:59 PM IST

सवाईमाधोपुर. रणथम्भौर सर्किल स्थित एक मैरिज गार्डन में सोमवार को बैंकिंग लोकपाल कार्यालय भारतीय रिजर्व बैंक जयपुर के तत्वावधान में ग्राहक जागरूकता अभियान के तहत बैकिंग लोकपाल आपके द्वार कार्यक्रम हुआ। इसमें राजस्थान के बैंकिंग लोकपाल सीडी श्रीनिवासन तथा उनकी टीम ने जिले में बंैकरों को उनके कर्तव्य एवं ग्राहकों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक किया।बैंकिंग लोकपाल ने बैंकों को ग्राहकों के अधिकारों की रक्षा करने एवं बैंक सेवा से सम्बन्धित शिकायतों के तुरन्त निस्तारण की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। उपस्थित ग्राहकों को बैंकिंग लोकपाल एवं उनकी टीम ने बैंकिंग लोकपाल योजना 2006 के बारे में जानकारी दी। ग्राहकों की बैंक सेवा से सम्बन्धित शिकायतों के तुरन्त समाधान के लिए बैंकों को निर्देश दिए। बैठक में बैंकिंग लोकपाल कार्यालय से जेआर सांख्यान उपमहाप्रबंधक, बैंक ऑफ बड़ौदा के महाप्रबंधक एनसी उप्रेती, भारतीय स्टेट बैंक के उपमहाप्रबंधक जसविन्द्र पाल सिंह, बड़ौदा राजस्थान क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक के अध्यक्ष आरसी गग्गर, पंजाब नेशनल बैंक के अंचल प्रमुख संदीप सिंगला एवं अन्य बैकों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


खुले सिक्के नहीं लेते बैंककर्मी
ग्राहक जागरूकता अभियान के तहत बैंकिंग लोकपाल आपके द्वार कार्यक्रम में कई उपभोक्ताओं ने खुले एक, दो व पांच व दस के सिक्के नहीं लेने का मुद्दा भी उठाया। इस पर बैकिंग लोकपाल सीडी श्रीनवासन ने उपभोक्ताओं को बताया कि रिजर्व बैंक एक साथ सौ तक के सिक्के ले सकता है। इसके लिए उपभोक्ताओं को पैकेट बनाकर देना होगा। उपभोक्ताओं ने बताया कि व्यापारी, दुकानदार खुले सिक्के नहीं ले रहे है। इसके बाद बैकिंग लोकपाल ने समस्या का समाधान किया गया।


एक बार में सौ तक सिक्के लेंगे
बैकिंग लोकपाल सीडी श्रीनिवासन ने बताया कि सभी बैंकों को खुले सिक्के लेने का अधिकार है लेकिन सिक्कों को बैंक में पचास या सौ के पैकेट बनाकर ही जमा करना जरूरी है। कई बार उपभोक्ता 20 या 30 सिक्के गिनकर ले जाते हैं। ऐसे में बैंक लेने से मना कर देते हैं।

rakesh verma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned