रोजाना निकल रही सैकड़ों ट्रैक्टर-ट्रॉली, उधड़ गई सड़कें

रोजाना निकल रही सैकड़ों ट्रैक्टर-ट्रॉली, उधड़ गई सड़कें

rakesh verma | Publish: Sep, 11 2018 12:06:16 PM (IST) Sawai Madhopur, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

खिरनी. ग्राम पंचायत पीपलवाड़ा व हथडोली पंचायत से बनास नदी से बजरी खनन व परिवहन पर अंकुश के दावे खोखले साबित हो रहे हैं। हालात यह है कि पिछले 3 माह से लगातार हो रहे बजरी खनन से पीपलवाड़ा से लेकर बांसड़ा नदी तक 6 किलोमीटर तक डामरीकरण सड़क मार्ग का नामोनिशान तक मिट चुका है और 1 से 3 फीट तक गहरे गड्ढे हो चुके हैं। सड़क पर कीचड़ जमा होने से बांसडा नदी गांव से पीपलवाड़ा के सरकारी विद्यालय में पढऩे वाले करीब 350 से अधिक विद्यार्थियों को निकलने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। न्यायालय ने भले ही बजरी खनन पर रोक लगा दी हो, लेकिन क्षेत्र में खनन माफिया सक्रिय हैं। खनन माफियाओं ने बनास नदी का सीना छलनी कर दिया।

बड़ी-बड़ी मशीनें लगाकर 20 फीट गहराई तक बजरी का अवैध खनन किया जा रहा है, लेकिन पुलिस, परिवहन एवं खनन विभाग मौन है। बनास नदी से हथडोली ग्राम पंचायत होते हुए सहरावता, सवासा नदी, गुडला नदी, कराड़ी, राठौड़ गांव से भरकर पीपलवाड़ा होते हुए बहनोली, बांस की पुलिया शिशोलाव पुलिस चौकी के सामने से ट्रैक्टरों के माध्यम से बजरी जामडोली तक पहुंचाई जा रही है। जहां खनन माफियाओं ने बड़े-बड़े बजरी के स्टॉक कर रखे हैं। इस दौरान बीच में पुलिस चौकी भी आती है, लेकिन कार्रवाई के अभाव में डंपरों में बजरी भरकर निवाई होते हुए जयपुर तक बजरी की सप्लाई की जा रही है।

ग्रामीणों ने बताया कि हथडोली सरपंच रघुवीर मीणा की हत्या के बाद जिला प्रशासन ने यहां हथडोली ग्राम पंचायत में पुलिस चौकी स्थापित की थी। वहां दो माह संचालित कर पीपलवाड़ा में, वहां से बांस की पुलिया पर संचालित की गई। वर्तमान में शिशोलाव में पुलिस चौकी संचालित है। आरोप है कि पुलिस चौकी होने के बावजूद भी बजरी की एक साथ 300 सौ से अधिक ट्रैक्टर-ट्रॉलियां निकल रही है। पुलिस प्रशासन व खनिज विभाग की अनदेखी से ग्रामीणों में रोष है। उन्होंने बजरी भरकर निकल रही ओवरलोड ट्रैक्टर ट्रॉलियों पर अविलंब रोक लगाने की मांग की है। रोजाना बजरी भरकर निकल रही ट्रैक्टर-ट्रॉलियों से आए दिन दुर्घटनाएं होती है, लेकिन जिला प्रशासन गंभीर नहीं है।


हमने अभी बजरी खनन पर रोक लगवा रखी हैं। रात में जो ट्रैक्टर निकलते हैं। उन पर पुलिस का अंकुश है। परिवहन विभाग एवं खनन विभाग जब भी कभी कार्रवाई करता है, पुलिस हमेशा उनके साथ संयुक्त कार्रवाई करेगी। अभी भी रात को बजरी से भर कर ट्रैक्टर खड़े हैं, लेकिन चौकी से पुलिस जवान वहां पर तैनात हैं। उन्हें आगे बढऩे नहीं दिया जा रहा।
चंद्र प्रकाश चौधरी, थाना अधिकारी, बौंली

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned