अब तक दस बच्चों की मौत, बोहना गांव में हालात चिंताजनक

अब तक दस बच्चों की मौत, बोहना गांव में हालात चिंताजनक

Vijay Kumar Joliya | Publish: Oct, 13 2018 02:41:28 PM (IST) Sawai Madhopur, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

खण्डार. उपखण्ड क्षेत्र के बोहना गांव में बीमारी से मौत का सिलसिला थमने का नाम ही नहीं ले रहा। गत दो दिनों में दो बच्चों की मौत हो गई। ग्रामीण रमेश मीना, मुरारीलाल मीणा, रामदयाल गुर्जर, चिरंजी लाल मीणा आदि ने बताया कि बुधवार को चिन्टू (5) पुत्र पिन्टू मीना तथा गुरुवार को नीतू (5) पुत्री धरमू मीना की मौत हो गई। दोनों बोहना निवासी है।

विभाग को शुक्रवार को मौत के बारे में पता चला। ग्रामीणों ने बताया कि दोनों को गले में दर्द व सूजन की समस्या थी। इस पर यहां से दोनों को जयपुर इलाज के लिए भेजा था। जहां दोनों की मौत हो गई। बीमारी से अब तक 10 बच्चों की मौत हो चुकी है।

एक माह बाद भी समाधान नहीं
सरपंच निरंजना मीणा ने बताया कि ग्राम पंचायत के गण्डावर बोहना बिणजारी गांवों में फैल रही बीमारी का एक माह बाद भी विभाग ने कोई समाधान नहीं निकाला है। चिकित्सा विभाग की लापरवाही के चलते ग्रामीणों में रोष है ।

सिंगोर कलां में एक रोगी और मिला
ग्राम पंचायत सिंगोर कलां में चिकित्सा टीम का सर्वे जारी है। टीम के अनुसार शुक्रवार को गांव के गुर्जर मोहल्ले में भारती पुत्री बद्रीलाल के गले में दर्द की शिकायत मिली। इस पर उसे दवा देकर सीएचसी के लिए रैफर कर दिया। सिंगोर कलां गांव में सीएचसी से शंकर लाल मीना व सियाराम ने टीम के साथ सर्वे कर गांव के प्रत्येक मोहल्ले में फोगिंग करवाई।मौके पर एलटी राजाबाबू, नीतू चौधरी आदि मौजूद थे।

  • बोहना के बच्चों की मौत का पता चला है। इनका इलाज ब्लॉक से बाहर चल रहा था।
    डॉ. राजेश शर्मा , बीसीएमएचओ खंडार
  • बच्चों की मौत का मामला सामने आया है। पूर्व में बच्चों के टीके लगाकर उन्हें जिला अस्पताल के लिए रैफर कर दिया था। वहां से जयपुर में उनका इलाज चल रहा था। बच्चों की मौत जयपुर में इलाज के दौरान ही हुई है।
    दिनेश चांदा, सीएचसी प्रभारी बहरावण्डा खुर्द

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned