यहां बना देश का पहला साउंड प्रूफ हाइवे, जानिये इसकी खूबियां

सिवनी जिले में भारत का पहला साउंड और लाइट प्रूफ हाइवे बनकर तैयार हो गया है। जानिये वन्यजीवों के लिये कितना खास होगा ये हाइवे।

By: Faiz

Published: 25 Sep 2021, 08:08 PM IST

सिवनी. मध्य प्रदेश के सिवनी जिले में भारत का पहला साउंड और लाइट प्रूफ हाइवे बनकर तैयार हो गया है। जिले से गुजरने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग- 44 पर NHAI द्वारा बनाए गए इस खास हाइवे की कुल लंबाई 29 किलोमीटर है। इस हाइवे पर गुजरने वाले वाहनों की लाइट और साउंड सड़के से बाहर नहीं जा सकेगी। इस खास हाइवे को बनाने का उद्देश्य वन्यजीवों की सुरक्षा है। हाइवे को इस तरह तैयार किया गया है कि, इससे वन्यजीवों को एक्सीडेंट्स से तो बचाया ही जा सकेगा, साथ ही साथ वाहनों की आवाज और रोशनी से भी वन्यजीव सुरत्क्षित रहेंगे।

केंद्रीय परिवहन विभाग की मानें, तो अगर इस तरह का हाइवे सफल रहा, तो देशभर से गुजरने वाली सड़कों हाइवे पर इसी व्यवस्था के तहत डेवलपमेंट किया जाएगा। इस तरह की व्यवस्था न सिर्फ वन्यजीवों बल्कि आम जन के लिये भी बेहद फायदेमंद होगी। इसका मुख्य लाभ नागरिकों और ट्रांसपोर्ट कारोबारियों को होगा।

 

पढ़ें ये खास खबर- देश का सबसे बड़ा एक्सप्रेस-वे, सिर्फ 12 घंटे में पहुंचेंगे दिल्ली से मुंबई, जानिये खूबियां


10 साल अटका रहा प्रोजेक्ट

News

आपको बता दें कि, पेंच राष्ट्रीय उद्यान के बफर एरिया में होने के चलते जिले के मोहगांव से खवासा के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग के बीच 29 किलोमीटर हिस्से का निर्माण पिछले दस साल से अटका हिआ था। जंगल का प्राकृतिक रास्ता हाई-वे को क्रास कर पेंच से कान्हा (कॉरिडोर) नैशनल पार्क को जोड़ता है। आवाजाही के लिए वन्यप्राणी इसी रास्ते का इस्तेमाल करते हैं। इसलिए वन विभाग ने वन्य जीवों की सुरक्षा की शर्तो को मद्देनजर रखते हुए सड़क निर्माण की अनुमति मिली थी। इसलिए पहले के प्रोजेक्ट मे बड़े बदलाव करते हुए इसे और हाइटेक बनाया गया।


4 मीटर ऊंची दीवार तैयार

News

करीब 5 मीटर ऊंचे ऐनिमल अंडर पास के ऊपरी हिस्से से वाहन निकलेंगे जबकि निचले हिस्से से वन्यप्राणियों की आवाजाही हो सकेगी। वन्यक्षेत्र की 21.69 किलोमीटर फोरलेन सड़क एवं अंडरपास के दोनों किनारों पर साउंड बैरियर और हेडलाइट रिड्यूजर लगाकर लगभग 4 मीटर ऊंची दीवार तैयार की गई है। इससे भारी वाहनों के हेडलाइट की तेज रोशनी व शोरगुल जंगल तक नहीं पहुंचेगी। ट्रेफिक का असर वन्य प्राणियों पर भी नहीं पड़ सकेगा।


वन्यजीवों की सुरक्षा पर बड़ा कदम

News

वन्यजीवों के सड़क पार करने के लिए राजमार्ग के 3.5 किलोमीटर हिस्से में 14 ऐनिमल अंडर पास का निर्माण भी किया गया है। साथ ही पानी निकासी के लिए 58 कलवर्ट (पुलिया) में से 18 ऐनिमल क्रॉसिंग कलवर्ट भी बनाए गए हैं, ताकि वन्यजीव हाइवे पर आए बिना ही सड़क पार लेंगे। सबसे अच्छी बात ये है कि वन्यजीवों के लिए प्राकृतिक रास्ता बनाए रखने का इंतजाम हाईवे में ही किया गया है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned