नीरज चोपड़ा बोले:-गोल्ड मेडल ने की सारी भरपाई, फाइनल से पहले कोच ने दी ये सलाह, खेल पर फोकस, बायोपिक के लिए वक्त नहीं

Tokyo Olympics 2020 : गोल्ड मेडल जीतने वाले जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने कहना है कि फिलहाल मेरा ध्यान खेल पर है। अभी बायोपिक के लिए वक्त नहीं है।

By: भूप सिंह

Published: 09 Aug 2021, 06:24 PM IST

 

नई दिल्ली। Tokyo Olympics 2020 में जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा (neeraj chopra) ने अपने देश के लिए गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया। अब वह एशियाई खेलों, राष्ट्रमंडल खेलों और विश्व चैंपियनशिप पर नजरें गड़ाए हुए हैं। उनका कहना है कि फिलहाल उनका ध्यान सिर्फ और सिर्फ खेल पर है, इसके बीच में बायोपिक या किसी अन्य चीज का कोई स्थान नहीं है।

भारत का फील्ड मेडलिस्ट बनकर कैसा लगा?
भारत के लिए ट्रैक एंड फील्ड में पहला मेडल जीतकर बहुत अच्छा लग रहा है, वो भी गोल्ड। यह बहुत ही शानदार शुरुआत रही है। इसे शब्दों में बयां नहीं कर सकता। वह बहुत गर्व का क्षण था जब हमारे देश का राष्ट्रगान बज रहा था और मैं स्वर्ण पदक के साथ पोडियम पर खड़ा था। मुझे लगता है कि भारतीय एथलेटिक्स के लिए भविष्य बहुत अच्छा होगा।

यह खबर भी पढ़ें:—Tokyo Olympics 2020 : मां ने छिपाकर रखी थी बहन के निधन की खबर, ओलंपिक खिलाड़ी धनलक्ष्मी पहुंचीं घर तो सुनकर फूट-फूटकर रो पड़ीं

मिल्खा को समर्पित किया पदक
नीरज चोपड़ा ने जेवलिन में जीता गोल्ड मेडल दिवगंत एथलीड मिल्खा सिंह को समर्पित किया है। उनका कहना था कि हमारे देश का कोई भी व्यक्ति जो ओलंपिक में जाता था और पदक की दौड़ में एक छोटे से अंतर से पीछे रह जाता था, उसे जाना चाहिए और पदक प्राप्त करना चाहिए। जब राष्ट्रगान बजता है, तो ऐसा कुछ भी और नहीं होता। जब मैंने गोल्ड जीता और राष्ट्रगान बज रहा था तो मुझे ऐसा ही लगा। मैं दुखी था कि वह अब हमारे बीच नहीं है। लेकिन मेरे मन में उनकी लंबे समय से चली आ रही इच्छा मेरे द्वारा पूरी कर दी गई। वह जहां भी हैं, उनका सपना अब पूरा हो गया है। पीटी ऊषा मैम जैसे अन्य एथलीट, जो चौथे स्थान पर आए और पदक से चूक गए, वे बहुत खुश हुए होंगे। उनकी लंबी इच्छा पूरी हुई।

गोल्ड मेडल ने कर दी सारी भरपाई
मुझे लगता है कि इस स्वर्ण पदक ने सब कुछ ठीक कर दिया है-2019 में चोट के कारण और 2020 में कोरोना के कारण हुए नुकसान की इसने भरपाई कर दी है। ओलंपिक पदक, खासकर स्वर्ण, हर एथलीट का सपना होता है। मुझे लगता है कि जो समय बीच में आया, उससे मुझे कोई ऐतराज नहीं है। मैंने स्वर्ण पदक पाने के लिए जिस समय तक धीरज धराया, उससे मैं बेहद संतुष्ट महसूस कर रहा हूं।

पहला थ्रो ठीक से करने की दी थी सलाह
फाइनल से पहले, क्लाउस ने मुझे पहले थ्रो को बहुत अच्छी तरह से करने की कोशिश करने के लिए कहा था, ठीक वैसे ही जैसे मैंने क्वालीफिकेशन राउंड में किया था। मैंने अपने छोटे चाचा भीम चोपड़ा से बात की। मैंने अपने सीनियर जयवीर से भी बात की। मैं ज्यादा नहीं बोलता, बस छोटी-छोटी बातें करता हूं। मैंने जिस किसी से भी बात की, उसे लगा कि कुछ अच्छा होगा और मुझे पूरे मन से प्रतिस्पर्धा करने के लिए कहा। जब मैंने गोल्ड जीता तो सभी खुश हो गए।

यह खबर भी पढ़ें:—Tokyo Olympics 2020: आज भारत लौटेंगे ओलंपिक मेडलिस्ट, नई दिल्ली में होगा सम्मान, नीरज चोपड़ा के घर जश्न का माहौल

तीन बड़ी प्रतियोगिताओं पर फोकस करूंगा
अब जब मैंने गोल्ड मेडल जीत लिया है, तो मैं घर पर अपने लोगों के साथ थोड़ा जश्न मनाऊंगा। अगर मैं अपनी ट्रेनिंग अच्छी तरह से करता हूं तो मैं इस साल कुछ प्रतियोगिताओं में जाऊंगा। नहीं तो मैं अगले साल कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियन गेम्स और वर्ल्ड चैंपियनशिप पर फोकस करूंगा।

Tokyo Olympics-2020
भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned