एक किमी दूर से सिर पर रखकर लाना पड़ता है पेयजल

Rajender pal nikka | Publish: May, 08 2019 08:38:03 PM (IST) Sri Ganganagar, Sri Ganganagar, Rajasthan, India

-श्रीकरणपुर के गांव 2 एफएफ में बिगड़ी जलापूर्ति, पेयजल के लिए ग्रामीणों को भटकने की मजबूरी, कच्ची बस्ती के ग्रामीणों ने दिया ज्ञापन

श्रीकरणपुर. कस्बे से दस किमी दूर गांव 2 एफएफ में पेयजल समस्या इतनी गंभीर हो गई है कि बुधवार की तपती दुपहरी को वहां से करीब दो दर्जन ग्रामीण तहसीलदार के पास पहुंचे। इसमें अधिकांश महिलाएं थी। उन्होंने तहसीलदार को ज्ञापन सौंपकर कच्ची बस्ती में पेयजल आपूर्ति सुचारू करने की मांग रखी।

-मोल खरीदते हैं पेयजल
दिव्यांग महिला सर्वजीत कौर के साथ आई अन्य महिलाओं कुलदीप कौर, परमजीत कौर, संदीप कौर, रानी, कंस कौर, जसवीर कौर, सिमरजीत कौर ने तहसीलदार गोकुलदान को बताया कि गांव में बनी एक डिग्गी में बरसाती पानी व जोहड़ का पानी मिलने से वह दूषित हो चुका है। पेयजल आपूर्ति सुचारू नहीं होने से ग्रामीणों को गुरुद्वारा में बनी डिग्गी से पानी लाना पड़ता है। उसमें पानी कम होने पर एक किलोमीटर दूर से नहर से पानी लाने की मजबूरी है। वहीं कई लोग एक टैंकर पानी पर पांच सौ रुपए तक खर्च कर रहे हैं।

ग्रामीण बलविंद्र सिंह के नेतृत्व में आए ग्रामीणों ने तहसीलदार को ज्ञापन सौंपकर शीघ्र अतिशीघ्र समस्या हल करवाने की मांग की। उधर, प्रकरण में विभाग के जेइएन संदीप कुमार ने बताया कि गांव में कई घरों में मोटरों के चलने से कच्ची बस्ती में जलापूर्ति सुचारू नहीं रहती। इसके लिए शीघ्र ही कोई रास्ता निकाला जाएगा।

-साहब! आपका वाट्स एप नंबर दो...
तहसीलदार को ज्ञापन देने आई महिलाएं उनका मोबाइल नंबर लेने के लिए अड़ गई। करीब 15 मिनट तक चले प्रकरण के दौरान उन्होंने चार-पांच बार ये बात दोहराई। और जब तहसीलदार एक पर्ची पर अपना मोबाइल नंबर लिखने लगे तो महिलाएं ये कहने से नहीं चूकी कि नंबर वाट्स एप वाला देना ताकि उनको वहां के हालात की फोटो भेजी जा सके।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned