सफाई कार्मिकों के लिए टंकी पर चढ़ गई वृद्धा

-सफाईकार्मिकों का आंदोलन जारी

By: pawan uppal

Published: 20 Jul 2018, 11:00 AM IST

श्रीकरणपुर.

सफाई कर्मचारियों के आंदोलन के चौथे दिन गुरुवार को नया वाकया सामने आया। चार दिन से जारी प्रकरण से हताश 85 वर्षीय एक वृद्धा दोपहर बाद नगरपालिका में बनी ओवर हैड टंकी पर चढ़ गई। लगभग आधी सीढिय़ां चढऩे पर अपराह्न करीब तीन बजे वहां मौजूद अन्य सफाई कार्मिकों की नजर पड़ी तो वहां हडक़ंप मच गया। कुछ सफाई कर्मचारी दौडकऱ ऊपर चढ़े दऔर समझा बुझाकर वृद्धा को नीचे लाए। घटना की जानकारी मिलने पर प्रशासन ने सफाई कार्मिकों से वार्ता कर आंदोलन समाप्त करने की बात कही। लेकिन प्रयास सिरे नहीं चढ़े।


समाज के लिए कुर्बानी भी मंजूर
गौरतलब है कि अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस के तत्वावधान में सफाई कर्मचारियों की ओर से पिछले चार दिन से नगरपालिका परिसर में धरना लगाया जा रहा है। इसमें वाल्मीकि समाज के अन्य लोग भी शामिल हैं। जानकारी अनुसार वार्ड पांच निवासी मुनकी देवी (85) गुरुवार दोपहर बाद किसी समय नगरपालिका में बनी पानी की ओवरहैड टंकी पर चढऩे लगी। इस दौरान करीब तीन बजे आधी सीढिय़ां चढऩे पर वहां मौजूद अन्य सफाई कर्मचारियों की नजर वृद्धा पर पड़ी तो उनके होश फाख्ता हो गए।

मौके पर मौजूद अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस के अध्यक्ष संतराम, महामंत्री दर्शन कुमार, सचिव मंगला राम, धीरज वाल्मीकि, लालचंद भाटिया, ओम प्रकाश आदि तुरंत दौड़े और वृद्धा को संभाला, लेकिन वृद्धा ने नीचे आने मना कर दिया। उनका कहना था कि चार दिन से आंदोलन होने के बावजूद सरकार व प्रशासन उनकी कोई सुनवाई नहीं कर रहा। समाज की भलाई के लिए वे अपनी कुर्बानी देंगी। मौके पर पहुंचे संगठन पदाधिकारियों ने उन्हें मनाने की कोशिश की लेकिन वे नहीं मानी। इस दौरान संगठन महामंत्री दर्शन कुमार ने किसी तरह वृद्धा को अपने कंधे पर बिठाया और नीचे ले आए। नीचे आने पर वहां मौजूद अन्य महिला सफाईकार्मिकों ने वृद्धा को संभाला।


तहसीलदार के प्रयास रहे विफल
प्रकरण के बाद शाम करीब पांच बजे तहसीलदार अमरसिंह भनखड़ ने सफाई कर्मचारियों से वार्ता की। लेकिन यह विफल रही। मौके पर सफाई कार्मिकों का कहना था कि लॉटरी प्रक्रिया में धांधलेबाजी व भ्रष्टाचार हुआ है। उनका कहना था कि नगरपालिका में अनुबंध पर लगे अस्थाई सफाईकार्मिकों की अनदेखी कर अनुभवहीन व फर्जी दस्तावेज वाले अभ्यर्थियों को चयनित कर लिया गया। उन्होंने भर्ती प्रक्रिया रद्द कर वाल्मीकि समाज के अनभुवी अभ्यर्थियों को लगाने की मांग रखी।

उधर, तहसीलदार ने बताया कि नियुक्ति जिला कलक्टर की अध्यक्षता में पारदर्शी लॉटरी प्रक्रिया से हुई है। लेकिन दूसरा पक्ष अपनी बात पर अड़ा रहा। उनका कहना था कि मांग पूरी होने तक आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने वार्ता में ईओ व पालिकाध्यक्ष के नहीं होने पर भी रोष जताया।


सफाई कर्मचारी भर्ती के लिए लॉटरी प्रक्रिया पारदर्शी तरीके से जिला मुख्यालय पर हुई है। चयन में पालिका प्रशासन की कोई भूमिका नहीं थी। वस्तुस्थिति जाने बिना गुमराह सफाई कर्मचारी आंदोलन कर रहे हैं। इससे सफाई व्यवस्था प्रभावित होने के साथ नगरपालिका में अन्य कार्मिकों के कार्य में भी बाधा आ रही है। जिला कलक्टर को वस्तुस्थिति से अवगत करवा दिया है। सफाई व्यवस्था सुचारू रखने के लिए आमजन से सहयोग अपेक्षित है।
लालचंद सांखला, ईओ नगरपालिका श्रीकरणपुर।

Show More
pawan uppal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned