शहीद चंद्र शेखर आज़ाद क्रांति तीर्थ पहुंचे रामेश्वर शर्मा, पर्यटन स्थल बनाने का ऐलान

पर्यटक स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा क्रांति तीर्थ स्थल- रामेश्वर शर्मा

By: Faiz

Published: 23 Nov 2020, 07:26 PM IST

टीकमगढ़/निवाड़ी। मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले से हालही में अलग हुए निवाड़ी जिले में स्थित आज़ाद क्रांति तीर्थ स्थल दर्शन करने ओरछा पहुंचे प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने कलेक्टर निवाडी आशीष भार्गव से क्रांति तीर्थ स्थल को पर्यटक स्थल के रूप में विकसित किए जाने का प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए है। शर्मा ने कहा की, वो इस सम्बंध में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से चर्चा कर लेंगे। इसके बाद इस स्थान को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा।

 

पढ़ें ये खास खबर- धार्मिक भावनाएं भड़काने पर Netflix की वेब सीरीज 'A Suitable Boy' से जुड़े दो लोगों पर FIR, पाकिस्तान में भी गर्माया मुद्दा

 

देखें खबर से संबंधित वीडियो...

चंद्र शेखर आज़ाद ने कुटिया में बिताए थे दो साल

प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा इस दौरान शहीद चंद्र शेखर आज़ाद क्रांति तीर्थ कुटिया स्थित ओरछा के सातार तट पहुंचे। चंद्र शेखर आज़ाद की क्रांति तीर्थ कुटिया में दर्शन कर उन्होंने पुष्पांजलि भी अर्पित की। इस दौरान शर्मा ने कुटिया के समीप बने हनुमान जी महाराज के दर्शन भी किए। इसी मंदिर पर शहीद चंद्र शेखर भी हनुमान जी महाराज की पूजा करते थे। बता दें कि, निवाड़ी जिले के ओरछा स्थित सातार नदी के तट पर इसी कुटिया में शहीद चंद्र शेखर आज़ाद ने करीब दो साल बिताए थे।

 

पढ़ें ये खास खबर- शराब के नशे में धुत भतीजे ने चाचा को उतारा मौत के घाट, सिर्फ इतनी सी बात बनी हत्या की वजह


कलेक्टर ने शर्मा को कराया अवगत

कलेक्टर आशीष भार्गव ने प्रोटेम स्पीकर को अवगत कराया कि, स्मार्ट सिटी के प्रस्ताव में क्रांति तीर्थ के विकास को शामिल किया गया है, जिसके अंतर्गत नदी पर स्टाप डेम बनाकर यहां वोट क्लब और सौंदर्य करण के साथ अन्य कार्य कराए जाएंगे। शर्मा ने कहा कि, वो सौभाग्य शाली है कि, उन्हें क्रांति तीर्थ के दर्शन का सौभाग्य प्राप्त हुआ। शर्मा ने कहा कि, अंग्रेज हुकूमत से लोहा लेने के लिए झाबुआ अलिराजपुर के पुत्र चंद्र शेखर आज़ाद प्रयागराज तक का सफ़र तय करते है। देश के स्वाभिमान के लिए अपना जीवन समर्पित करने वाले चंद्र शेखर आज़ाद ने भारत माता की शान के लिए अपने प्राणो का बलिदान दिया था।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned