Anupama 20th July Written Updates: कैफे को लेकर वनराज को सताने लगी है चिंता, काव्या की बात सच होने का लग रहा है डर

By: Shweta Dhobhal
| Published: 20 Jul 2021, 09:56 AM IST
Anupama 20th July Written Updates: कैफे को लेकर वनराज को सताने लगी है चिंता, काव्या की बात सच होने का लग रहा है डर
Anupama 20th July Written Updates Vanraj Worried About His Cafe

वनराज ने अपना कैफे और अनुपमा ने अपनी डांस एकेडमी खोल ली है। पहले ही दिन अनुपमा के पास एडमिशन के लिए बच्चों की भीड़ लग जाती है। वहीं वनराज का कैफे बिल्कुल खाली रहता है। जिसे देख काव्या काफी भड़की रहती है। जानिए आज रात क्या होगा शो 'अनुपमा' के लेटेस्ट एपिसोड में।

नई दिल्ली। शो 'अनुपमा' में नया ट्रैक दिया जा रहा है। जिसमें अनुपमा और वनराज ने अपने नए काम की शुरूआत की है। जहां एक ओर अनुपमा ने अपनी डांस एकेडमी की शुरूआत की है। तो वहीं दूसरी ओर वनराज ने कैफे ओपन किया है। डांस एकेडमी और कैफे ओपनिंग के पहले ही दिन दोनों काफी एक्साइटेड होते हैं। वहीं काव्या हमेशा की तरह मुंह बनाए होती है। जानिए क्या होगा आज रात शो अनुपमा के लेटेस्ट एपिसोड में।

अनुपमा की डांस एकेडमी में हुए एडमिशन

अनुपमा की डांस एकेडमी की ओपनिंग के पहले दिन ही उनके पास एडमिशन के लिए कई बच्चे आ जाते हैं। अनुपमा बच्चों के पैरेंट्स को कैफे में बैठकर चाय,कॉफी पीने की सलाह देती हैं, लेकिन बच्चों के माता-पिता जाने से माना कर देते हैं। ये देख वनराज अनुपमा एक छोटी सी स्माइल देते हैं। वहीं काव्या वनराज को भड़कते हुए कहती हैं कि अनुपमा के पास इतने सारे बच्चे एडमिशन के लिए आए हैं। वो चाहती तो लोगों को कैफे में भेज सकती थी। वनराज काव्या को समझाने की कोशिश करता है। लेकिन वो नहीं समझती है।

घर शिफ्ट करने की बात पर भड़की किंचल

किंचल वनराज के कैफे में ग्राहकों के ना आने से परेशान होती है। लेकिन तोषो इस बात की चिंता किए बिना किंचल से घर शिफ्ट करने को लेकर बात करना चाहता है। जिसे सुनकर किंचल गुस्सा हो जाती है। किंचल तोषो से कहती है कि पहले ही कैफे की वजह से परेशान है। तभी तोषो को ऑफिस से फोन आ जाता है। ऑफिस जाते हुए तोषो किंचल को वापस आकर घर शिफ्ट करने को लेकर बात करने को कहता है।

अनुपमा का जबरदस्त आइडिया

कैफे में कोई ना आता देख काव्या भड़क जाती है। काव्या सभी से कहती है कि 2 घंटे में कैफे को बंद करने का टाइम हो जाएगा। ऐसे में वक्त बर्बाद करने से अच्छा है कि सब कुछ पैक करके बंद किया जाए। अनुपमा काव्या को टोकते हुए उसे शुभ कहने की सलाह देती है। तभी अनुपमा को आइडिया आता है कि अगर कैफे भरा हुआ होगा तभी लोगों को लगेगा कि कैफे अच्छा है। अनुपमा पूरे परिवार से अलग-अलग जगहों पर बैठने की सलाह देती है। बॉ अनुपमा के आइडिया को समझ नहीं पाती।

तब वनराज समझता है कि जब मंदिर के बाहर गोल गप्पे की दुकान होती है। तो हम हमेशा उसी के पास जाते हैं। जहां सबसे ज्यादा भीड़ होती है। ये सुनकर बॉ इम्प्रेस हो जाती है और ताना मारती हुए कहती है कि मार्किटिंग डिग्री से दिमाग से आते हैं।

 

यह भी पढ़ें- Anupama 19th July Written Updates: कैफे के उद्घाटन के दिन भी काव्या ने किया खूब तमाशा, अनुपमा-वनराज को दी चुनौती

किंचल ने बदला काव्या का नाम

कैफे में बैठे-बैठे काफी वक्त निकल जाता है, लेकिन कोई नहीं आता। तभी काव्या कहती है कि कैफे में कोई नहीं आएगा। काव्या बॉ से बहस करते हुए कहती हैं कि अगर कैफे में एक भी ग्राहक आ जाए तो उसका नाम बदल देना। तभी एक कपल 'लीला का कैफे' कहते हुए कैफे में आते हैं। जिसे देख पूरा परिवार काफी खुश हो जाता है। किंचल काव्या की चुटकी लेते हुए कहती है कि चंपाकली कैसा नाम है। जिसे सुनकर वो चिढ़ जाती है।

ग्राहक ने दिया किटो बर्गर का ऑर्डर

कैफे में आए ग्राहक किटो बर्गर का ऑर्डर देते हैं, लेकिन किटो बर्गर कैसे बनता है शेफ को पता नहीं होता है। वनराज काव्या से पूछता है कि उसे किटो बर्गर बनाना आता है। तभी ग्राहक जाने के लिए उठ जाते हैं। ये देख अनुपमा आकर उन्हें रोक लेती है और कहती है कि 5 मिनट में बर्गर बन जाएगा। ये सुनकर ग्राहक वापस सीट पर बैठ जाते हैं।

यह भी पढ़ें- Anupama 12th July Written Updates: वनराज के फैसले से समर हुआ मां अनुपमा से नाराज़, तोषो-किंचल छोड़ेंगे घर

ग्राहक पर चला किटो बर्गर का जादू

अनुपमा कैफे के किचन में जाती है और किटो बर्गर बनाने लगती है। ये देख वनराज अनुपमा से पूछता है कि उसे किटो बर्गर बनाना आता है। अनुपमा बताती है कि पाखी के बर्थडे पर उसके कुछ दोस्तों के लिए उसने किटो बर्गर बनाया। काव्या अनुपमा को ताना देते हुए कहती है कि ढोकला नहीं बनाना है। किटो बर्गर बनाना है। अनुपमा बर्गर बनाती है और वनराज अपने पहले ग्राहक को परोसता है। खाने के बाद ग्राहक बर्गर की बहुत तारीफ करता है। साथ ही ग्राहक 6 बर्गर पैक करने को भी कहता है। ग्राहक अनुपमा को बेस्ट शेफ बताते हुए कहते हैं कि वो अपने फ्रेंड्स को भी इस कैफे में आने के लिए कहेंगे।

वनराज-अनुपमा बने दोस्त

ग्राहक को खुश देख सभी अनुपमा की खूब तारीफ करते हैं। ये देख काव्या चिढ़ जाती है। काव्या कहती है कि दुकान बंद करते हैं और चलते हैं। ये सुनकर बाबू जी काव्या को जुंबा पर अच्छी बातें रखनी की सलाह देते हैं। वहीं दूसरी ओर वनराज अनुपमा से उसके पहले दिन की कमाई के बारें में पूछता है। वनराज अनुपमा के सामने दोस्ती का प्रस्ताव रखता है। अनुपमा भी आगे हाथ बढ़ाकर दोस्ती कर लेती। 25 साल बाद दोस्त बनने पर वनराज और अनुपमा हंसने लगते हैं।

पाखी-समर के बीच हुई लड़ाई

अगली सुबह सभी अपने काम में बिजी हो जाते हैं। अनुपमा सभी के लिए खाना पैक कर रही होती है। तभी पाखी आती है और बॉ से नास्ता लगाने को कहती है। तभी समर भड़क जाता है और खुद से खाना लगाने की बात कहता है। समर और पाखी लड़ने लगते हैं। तभी बॉ दोनों को चुप कराते हुए कहते हैं कि किंचल की मीटिंग सचल रही है। तभी काव्या पाखी के पास आती है और उसके लिए खाना लगाने की बात कहती है।

बाबू जी ने पहनी अपनी पुरानी यूनिफॉर्म

कैफे में जाने के लिए बाबू जी ने अपनी कमर कस ली है। वो अपनी पुरानी यूनिफॉर्म पहनकर आते हैं। जिसे देख पूरा परिवार बहुत खुश हो जाता है। बाबू जी बतातें हैं कि उन्होंने सोचा था कि लीला ने कपड़े देकर बर्तन खरीद लिए होंगे। लेकिन एक बार फिर से उन्हें ये पहनने का मौका मिला। बाबू जी को यूनिफॉर्म में देख सभी भावुक हो जाते हैं।

तोषो के बर्ताव से दुखी किंचल

सभी कैफे जाने के लिए तैयार होते हैं। किंचल भी वनराज से कहती है कि वो ऑफिस के बाद कैफे आ जाएगी। तभी तोषो का फोन आता है। वो कहता है कि शाम को मॉम के घर डिनर पर चलाना है। किंचल बताती है कि उसे शाम को कैफे जाना है। तोषो गुस्से में कहता है कि वहां जाकर कॉफी सर्व करोगी लोगों को, ये सुनकर किंचल भड़क जाती है। वो वनराज को कहती है कि शाम को मां के घर खाने पर जाना है। वनराज भी हंसकर कहता है कि हां जाओ एन्जॉय करना।

काव्या ने किया कैफे जाने से मना

वनराज काव्या से कैफे चलने के लिए कहता है, लेकिन काव्या मना कर देती है। काव्या कहती है कि वो रोज-रोज कैफे नहीं जा सकती है। वनराज कहता है कि वो काम करवाने के लिए उसे कैफे नहीं लेकर जा रहा है। सपोर्ट के लिए ले जा रहा है। काव्या ये सुनकर अनुपमा पर ताना मारती है। काव्या कहती है कि वैसे भी किचन में अगर कोई चीज़ खत्म हो जाएगी को संभलाने के लिए अनुपमा है ना।

(Precap- कैफे में जाते ही अनुमपा वनराज को हिम्मत देती है कि पहले दिन से आज कमाई ज्यादा होगी। वनराज बताता है कि उसने हमेशा से ही जॉब की है। वहीं पूरा दिन बीत जाता है और वनराज के कैफे में बस एक ही ग्राहक आता है। जिसे देख वनराज उदास हो जाता है और सोचता है कि काव्या की बात कहीं सच ना हो जाए )