बिग बॉस 14 का अब तक का सबसे कठिन टास्क आया सामने, इन कंटेस्टेंट्स को 18 घंटे तक बॉक्स में रखा गया.. देखिए वीडियो

By: Neha Gupta
| Published: 20 Nov 2020, 06:05 PM IST
बिग बॉस 14 का अब तक का सबसे कठिन टास्क आया सामने, इन कंटेस्टेंट्स को 18 घंटे तक बॉक्स में रखा गया.. देखिए वीडियो
Captaincy task in Bigg Boss house

  • बिग बॉस 14 में सामने आया अब तक का सबसे कठिन टास्क
  • 18 घंटे तक दो प्रतियोगी को डिब्बे में बंद रहना पड़ा
  • जैस्मिन भसीन और कविता कौशिक में कौन होगा कप्तान

नई दिल्ली | बिग बॉस 14 (Bigg Boss 14) में जैसे-जैसे दिन बीतते जा रहे हैं वैसे-वैसे शो में कंटेस्टेंट्स ने अपनी रफ्तार पकड़नी शुरू कर दी है। बिग बॉस के घर में बने रहने के लिए सभी प्रतियोगी अपनी जी जान लगा रहे हैं और लड़ाई झगड़े भी बढ़ने लगे हैं। हाल ही में जैस्मिन और रुबीना की दोस्ती में दरार देखने को मिली थी। वहीं इस बार बिग बॉस ने ऐसा कैप्टेंसी टास्क रखा जिसमें चार कंटेस्टेंट की एक दूसरे से भिड़ंत हुई। अली गोनी (Aly Goni), एजाज खान (Eijaz Khan), जैस्मिन भसीन (Jasmin Bhasin) और कविता कौशिक (Kavita Kaushik) को एक बॉक्स में बंद किया गया और उसके बाद इस टास्क ने एक अलग ही रूप ले लिया।

Bigg Boss 14: जैस्मिन भसीन और अली गोनी के रिश्ते का बहन ने बताया सच, डेटिंग की खबरों से इस वजह से किया इंकार

चार प्रतियोगियों को एक बॉस्क में बंद किया गया था। जिसमें से किन्ही दो को घरवाले मिलकर बाहर निकाल सकते थे। इसमें एजाज खान और अली गोनी बाहर आ जाते हैं लेकिन जैस्मिन और कविता अंदर ही फंसे रहते हैं। इस दौरान दोनों के बीच जबरदस्त टक्कर देखने को मिली। जैस्मिन और कविता दोनों ही कैप्टन बनना चाहते हैं लेकिन इस भिड़ंत में दोनों को 18 घंटे तक बॉक्स में रहना पड़ता है। जैस्मिन को घर का कप्तान बनाने के लिए अली गोनी उन्हें सपोर्ट करते नजर आए। वहीं कविता को बचाने के लिए जान कुमार सानू ने उनका समर्थन किया। इस टास्क का संचालक राहुल वैद्य को बनाया गया जहां घरवालें उनसे कुछ खास संतुष्ट नहीं दिखाई दिए।

अब 18 घंटे तक बॉक्स में रहने के बाद घर का कैप्टन कौन बनेगा ये तो शुक्रवार के एपिसोड में ही पता चलेगा। लेकिन अब तक का सबसे कठिन टास्क के रूप में सामने आया है। शो का एक प्रोमो वीडियो सामने आया है जिसमें सभी घरवाले राहुल से कुछ ना कुछ शिकायत करते हुए दिखाई दे रहे हैं। साथ ही अपनी प्रतिक्रिया भी दे रहे हैं। अभिनव शुक्ला कहते हैं कि संचालक ने टास्क के दौरान गलत होने पर सही एक्शन नहीं लिया अब जो भी फैसला होगा वो सही तौर पर मान्य नहीं होगा।