scriptujjain collector ashish singh mahakal temple vishesh puja | महाकाल मंदिर में कलेक्टर ने उठाई तलवार, निभाई बलि की परंपरा | Patrika News

महाकाल मंदिर में कलेक्टर ने उठाई तलवार, निभाई बलि की परंपरा

mahakal temple vishesh puja-महाकाल मंदिर में उत्तम वर्षा की कामना से चल रहे पांच दिवसीय महाअनुष्ठान की पूर्णाहुति, हवन में डाली आहूति

उज्जैन

Updated: June 28, 2022 07:31:41 am

उज्जैन। उत्तम वर्षा की कामना को लेकर महाकाल मंदिर में चल रहे पांच दिवसीय महाअनुष्ठान की पूर्णाहुति सोमवार को हुई। मंदिर समिति के अध्यक्ष कलेक्टर आशीष सिंह ने तलवार से भूरा कोला काटा और बलि की प्रथा का निर्वाहन किया। हवन में आहूतियां डालकर विधि-विधान से पूर्णाहुति संपन्न की। इसके बाद पांच दिनों से जो ब्राह्मण और यजमान के रूप में अधिकारी इसमें शामिल हुए थे, उनके साथ कलेक्टर ने हरसिद्धि धर्मशाला में भोजन ग्रहण किया।

ujjain-1.png

महाकाल मंदिर में सोमवार को वैदिक मंत्रोच्चार के साथ उत्तम बारिश की कामना को लेकर किए जा रहे अनुष्ठान की पूर्णाहुति हुई। इसका समापन हवनात्मक आहूति के साथ हुआ। कलेक्टर आशीष सिंह दोपहर 12.30 बजे मंदिर में बनी यज्ञशाला पहुंचे। सबसे पहले उन्होंने महंत विनीत गिरि महाराज के कक्ष में जाकर धोती-सोला धारण किया। इसके बाद वे यज्ञशाला के बाहर आए। यहां पहले से एक थाली में चार मुखी दीपक और कुछ पूजन सामग्री रखी हुई थी।

कलेक्टर आसन पर बैठे और आसपास खड़े ब्राह्मणों ने मंत्रोच्चारण शुरू कर दिया। पूजन सामग्री के पास ही एक भूरा कोला भी रखा हुआ था। कलेक्टर के हाथों में ब्राह्मणों ने एक तलवार दे दी और उनसे कहा कि आप इस भूरा कोला के दो टुकड़े करें, इसके बाद दो के चार और चार के आठ टुकड़े कर दें। कलेक्टर ने भी खटाखट तलवार चलाई और वैसा ही किया। इसके बाद पुजारियों ने एक सफाई कर्मचारी को बुलाया और थाली में रखी पूजन सामग्री के साथ भूरा कोला के टुकड़ों को रखकर तीन रास्ते वाली जगह पर रख आने को कहा। कलेक्टर इसके बाद यज्ञशाला में गए। यहां पहले उन्होंने हवन में समापन हवनात्मक के निमित्त आहूति डाली और बाद में महाआरती की गई।

ujjain2.jpg

25 जून से चल रहा था अनुष्ठान

महाकाल मंदिर के नंदी हॉल में 25 जून से उत्तम वर्षा की कामना से महाअनुष्ठान चल रहा था। इस अनुष्ठान की शुरुआत में भी कलेक्टर ने सपत्नीक पूजन किया था। इसमें शृंगी ऋषि की प्रतिमा को शिवलिंग की जलाधारी में रखकर सतत जलधारा प्रवाहमान की जाती है। 55 पंडितों ने नंदी हॉल में बैठकर पांच दिन, पांच घंटे 11 से दोपहर 3 बजे तक पर्जन्य मंत्रों की संपुटि देकर पूजन-अर्चन किया। पुजारी प्रदीप गुरु ने बताया कि नगर का राजा पहले यह पूजन संपन्न करता था, लेकिन अब कलेक्टर की ओर से यह परंपरा निर्वाह की जाती है। चूंकि वे इस मंदिर समिति के अध्यक्ष हैं, इस नाते उन्होंने विधिवत पूजन संपन्न की और नगर सहित देशभर में उत्तम वर्षा की कामना की।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

NSA अजीत डोभाल की सुरक्षा में चूक को लेकर केंद्र का बड़ा एक्शन, हटाए गए 3 कमांडो'रूसी तेल खरीदकर हमारा खून खरीद रहा है भारत', यूक्रेन के विदेश मंत्री Dmytro KulebaNagpur Crime: डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस के घर के बाहर मजदूर ने किया सुसाइड, मचा हड़कंपरोहिंग्या शरणार्थियों को फ्लैट देने की खबर है झूठी, गृह मंत्रालय ने कहा- केंद्र ने ऐसा कोई आदेश नहीं दियालालू यादव ने बताया 2024 का प्लान, बोले- तानाशाह सरकार को हटाना हमारा मकसद, सुशील मोदी को बताया झूठाPunjab Bomb Scare: अमृतसर में SI की गाड़ी में बम लगाने वाले दो आरोपी दिल्ली से गिरफ्तार, कनाडा भागने की फिराक में थेगुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता नरेश रावल और राजू परमार ने थामी भाजपा की कमानशाबाश भावना: यूरोप की सबसे बड़ी चोटी भी नहीं डिगा पाई मध्यप्रदेश की बेटी का हौसला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.