जानिए कौन है कैबिनेट मंत्री बनाये गये अनिल राजभर, जो करेंगे ओमप्रकाश राजभर के वोट बैंक में सेंधमारी

जानिए कौन है कैबिनेट मंत्री बनाये गये अनिल राजभर, जो करेंगे ओमप्रकाश राजभर के वोट बैंक में सेंधमारी
Anil Rajbhar and Om Prakash Rajbhar

Devesh Singh | Updated: 21 Aug 2019, 11:42:58 AM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

बीजेपी ने राजभर वोटरों को साधने के लिए बनायी रणनीति, सुभासपा के बीजेपी से अलग होते ही मिल गया था बीजेपी विधायक को प्रभार

वाराणसी. सीएम योगी आदित्यानथ सरकार का पहला मंत्रिमंडल विस्तार शुरू हो गया है। मंत्रिमंडल विस्तार में एक बार फिर पीएम नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस का जलवा दिखा है। यहां के तीन विधायक को प्रमोशन दिया गया है इसमे शिवपुर के विधायक अनिल राजभर भी शामिल है जिन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया गया है।
यह भी पढ़े:-उपराष्ट्रपति का चुनाव लडऩे के लिए 40 सांसदों का फर्जी हस्ताक्षर करना पड़ा भारी, पुलिस ने किया गिरफ्तार



बीजेपी ने जब सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर को मंत्री पद से हटाया था तो उसी समय राज्यमंत्री का स्वतंत्र प्रभार देख रहे अनिल राजभर को ही ओमप्रकाश राजभर को विभाग दिया गया था और अब कैबिनेट मंत्री बना कर ओमप्रकाश राजभर का सारा विभाग सौपा गया है। अनिल राजभर के पिता रामजीत राजभर सपा व बसपा में भी रह चुके हैं इसके बाद बीजेपी के टिकट से धानापुर व चिरईगांव से विधायक बने थे उसके बाद उनके बेटे अनिल राजभर बीजेपी के टिकट से चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंचे है। चंदौली के सकलडीहा पीजी कॉलेज से छात्रनेता के रुप में अपना राजनीतिक सफर शुरू करने वाले अनिल राजभर सबसे पहले 1994 में छात्रसंघ अध्यक्ष बने थे। इसके बाद वर्ष 2003 में पिता का देहांत हो जाने के बाद उपचुनाव लड़े थे लेकिन सफलता नहीं मिल पायी थी। इसके बाद बीजेपी के टिकट से वर्ष 2017 में शिवपुर विधानसभा से चुनाव जीते थे।
यह भी पढ़े:-लोगों की जा रही नौकरियां, भारत में मंदी पर बोलने से बचती रही वित्त मंत्री



ओमप्रकाश राजभर की कमी दूर करने के लिए बीजेपी ने खेला दांव
बीजेपी ने राजभर वोटरों के लिए ओमप्रकाश राजभर की पार्टी सुभासपा से गठबंधन किया था लेकिन ओमप्रकाश राजभर के बयानों के चलते बीजेपी से उनका गठबंधन टूट गया था। बीजेपी ने राजभर वोटरों को साधने के लिए अनिल राजभर को कैबिनेट मंत्री बनाया है, जिससे राजभर वोटरों में सेंधमारी की जा सके। बताते चले कि जब बीजेपी के साथ ओमप्रकाश राजभर का गठबंधन था तब भी ओमप्रकाश राजभर व अनिल राजभर में एक-दूसरे को पटखनी देने की होड़ मची रहती थी। रैली करके दोनों ही नेता एक-दूसरे को अपनी ताकत दिखाते रहते थे।
यह भी पढ़े:-20 साल बाद हुआ जिंदा, अब खानी होगी जेल की हवा

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned