पंचतत्व में विलीन हुए सांसद व अभिनेता रवि किशन के पिता, कहा मैंने अपना भगवान खो दिया

मणिकर्णिका घाट पर हुआ अंतिम संस्कार, बड़े भाई ने दी मुखाग्रि

By: Devesh Singh

Published: 01 Jan 2020, 07:03 PM IST

वाराणसी. अभिनेता व सांसद रवि किशन के पिता बुधवार को पंचतत्व में विलीन हो गये। बनारस के मणिकर्णिका घाट पर उनके पिता श्याम नारायण शुक्ला (92) का अंतिम संस्कार किया गया। बीती रात ही उनके पिता का बीएचयू अस्पताल में निधन हुआ था। मुखग्रि बीजेपी सांसद के बड़े भाई रामशुक्ल ने दी। अंतिम यात्रा में बीजेपी नेताओं समेत हजारों लोग शामिल हुए थे।
यह भी पढ़े:-नागरिकता कानून का विरोध करने पर गिरफ्तार हुए दुधमुंही बेटी चंपक के माता-पिता सहित 56 को मिली जमानत

गोरखपुर से बीजेपी सांसद रवि किशन ने कहा कि मणिकर्णिका घाट पर मीडिया से कहा कि मेरा कोई गुरु नहीं था। भगवान को कभी देखा नहीं है। मेरे पिता ने ही अध्यात्म से लेकर जीवन जीना सिखाया है आज जो भी हूं वह अपने पिता के बदौलत हूं। रवि किशन ने कहा कि पिता जी की मौत के बाद मैं बहुत अकेला हो गया है। पिता जी मेरी बहुत बड़ी शक्ति थे। वह दो माह से बीमार थे उन्हें मोक्ष भी चाहिए था यह भी सत्य है। पिता का जाना बहुत दु:खद होता है भले ही वह 92 साल के थे। उन्होंने कहा कि आज मेरे जीवन में सबसे बड़ी क्षति हुई है। पिता बिना घर सुना हो गया है। 31 दिसम्बर को रात 11 बजे ही उनका निधन हुआ है। इस दिन को कभी भूल नहीं सकता हूं और अपना दर्द शब्दों में भी बयान करना संभव नहीं है।
यह भी पढ़े:-हॉलीवुड की थ्री हंड्रेड बीसी मूवी में काम किये अभिनेता जेरार्ड बटलर बनारस पहुंचे

बनारस में देह त्यागना चाहते थे रवि किशन के पिता
अभिनेता व सांसद रवि किशन के पिता श्याम नारायण शुक्ला बनारस में देह त्यागना चाहते थे। पिछले दो माह से वह बीमार चल रहे थे। इससे पहले उनका इलाज मुंबई में चल रहा था लेकिन पिता की इच्छा को देखते हुए उन्हें बनारस लाकर बीएचयू अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां पर लंबी बीमारी के बाद उन्होंने अंतिम सांस ली। मणिकर्णिका घाट पर अंतिम दर्शन के लिए लोगों की भीड़ उमड़ी रही।
यह भी पढ़े:-CAA से पीछे हटने का सवाल नहीं, किसी भी भारतीय नगारिक के खिलाफ नहीं है यह बिल

Show More
Devesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned