बाढ़ पीडि़तों के लिए राहत की खबर, बनारस में घटने लगा गंगा का जलस्तर

बाढ़ पीडि़तों के लिए राहत की खबर, बनारस में घटने लगा गंगा का जलस्तर
Ganga Flood 2019

Devesh Singh | Updated: 23 Sep 2019, 06:03:26 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

प्रति घंटे एक सेंटीमीटर की दर से कम हो रहा पानी, एमपी से नहीं छोड़ा गया पानी तो स्थिति हो जायेगी सामान्य

वाराणसी. बाढ़ पीडि़तों के लिए राहत भरी खबर आयी है। बनारस में अब गंगा का जलस्तर घटने लगा है। प्रयागराज में भी गंगा घट रही है जिससे उम्मीद है कि 24 सितम्बर तक गंगा का पानी और कम हो जायेगा। सोमवार को केन्द्रीय जल आयोग के अनुसार शाम पांच बजे गंगा का जलस्तर 71.81 मीटर दर्ज किया गया है। गंगा में प्रति घंटे एक सेंटीमीटर की दर से पानी कम हो रहा है।
यह भी पढ़े:-#Tripletalaq पुलिस थाने के बाहर दिया तीन तलाक, बनारस में दर्ज हुआ था पहला मुकदमा

पीएम नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में आयी बाढ़ से हजारों लोग प्रभावित हुए हैं। बाढ़ की स्थिति को देखने के लिए खुद सीएम योगी आदित्यनाथ ने हवाई सर्वे किया था। मध्य प्रदेश में हुई भारी बारिश से वहां के डैम खोले गये थे जिसके चलते ही गंगा का पानी खतरे के निशान से उपर बह रहा है। गंगा का जलस्तर बढ़ते ही वरुणा नदी में भी उफान आ गया था और गंगा से अधिक तबाही वरुणा ने मचायी थी। लेकिन अब स्थिति ठीक होने की उम्मीद बन गयी है। एक सप्ताह से लगातार वृद्धि होने के बाद गंगा का पानी घटने लगा है।
यह भी पढ़े:-27 साल से पुलिस पांच रुपये में इन लोगों को खिला रही थी खाना

बाढ़ का पानी उतरने के बाद रहता है बीमारी फैलने का खतरा
बाढ़ का पानी उतरने के बाद बीमारी फैलने का खतरा रहता है। अभी गंगा व वरुणा का जलस्तर बहुत अधिक है और पानी कम होने में समय लगेगा। इसके बाद प्रभावित क्षेत्रों में सफाई, पानी आपूर्ति व बिजली व्यवस्था को जल्द से जल्द सामान्य करना होगा। जिन इलाकों में बाढ़ आती है वहां पर डायरिया व स्किन से जुड़ी बीमारी तेजी से फैलती है। जिला प्रशासन ने पहले से ही सारी तैयारी करने का दावा किया है। बाढ़ के चलते उद्योग से लेकर फसल को भी भारी नुकसान पहुंचा है, जिसका आंकलन किया जा रहा है।
यह भी पढ़े:-बनारस में गंगा के जलस्तर में लगातार बढ़ाव जारी, यहां तक पहुंच गया पानी

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned