scriptGyanvapi case Muslim side petition dismissed Varanasi district judge said Shringar Gauri Case Listenable | ज्ञानवापी मामले में मुस्लिम पक्ष की याचिका खारिज, जज ने कहा, श्रृंगार गौरी मामला सुनने योग्य | Patrika News

ज्ञानवापी मामले में मुस्लिम पक्ष की याचिका खारिज, जज ने कहा, श्रृंगार गौरी मामला सुनने योग्य

Gyanvapi mosque-Shringar Gauri judgment update वाराणसी के ज्ञानवापी परिसर स्थित मां श्रृंगार गौरी के नियमित दर्शन पूजन मामले में आज सोमवार को वाराणसी जिला जज डा अजय कृष्ण विश्वेश ने फैसला सुनाते मुस्लिम पक्ष की अपील खारिज कर दी। और हिंदू पक्ष की अपील स्वीकार कर ली है। बताया जा रहा है कि मुस्लिम पक्ष नाराज हो गया है और हाईकोर्ट में अपील करेगा।

 

वाराणसी

Updated: September 12, 2022 03:08:39 pm

वाराणसी के ज्ञानवापी परिसर स्थित मां श्रृंगार गौरी के नियमित दर्शन पूजन मामले में आज सोमवार को वाराणसी जिला जज डा अजय कृष्ण विश्वेश ने फैसला सुनाते मुस्लिम पक्ष की अपील खारिज कर दी। और हिंदू पक्ष की अपील स्वीकार कर ली है। हिंदू पक्ष के हक में फैसला देते हुए जिला जज ने कहाकि, श्रृंगार गौरी मामला सुनने योग्य है। मामले में अब अगली सुनवाई 22 सितंबर को होगी। कोर्ट में मुस्लिम पक्ष फैसले के दौरान मुस्लिम पक्ष मौजूद नहीं था। मुस्लिम पक्ष की याचिका खारिज होने के बाद अब लीगल टीम श्रृंगार गौरी का दर्शन करेगी। फैसले के आते ही हिंदू पक्ष में खुशी की लहर फैल गई है। और सभी एक दूसरे को बधाई देने लगे। जज के आदेश देते ही कोर्ट में ही हर.हर महादेव के नारे लगने लगे। इस अवसर पर दोनों पक्षों के लोग कोर्ट में उपस्थित थे। शृंगार गौरी प्रकरण की याचिकाकर्ता पांच महिलाएं कोर्ट फैसला सुनने को बेताब थी। मई 2022 में यह मामला शुरू हुआ था। वाराणसी जिला जज डा अजय कृष्ण विश्वेश ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर 24 अगस्त को सभी पक्षों की बहस पूरी कर ली थी। बताया जा रहा है कि मुस्लिम पक्ष नाराज हो गया है और हाईकोर्ट में अपील करेगा।
varanasi.jpg
शृंगार गौरी प्रकरण में पांच महिलाओं की मांग जानें

ज्ञानवापी.शृंगार गौरी प्रकरण में पांच महिलाओं की ओर से दाखिल प्रार्थना पत्र में इतिहास, पुराणों संग मंदिर के इतिहास से लेकर उसके संरचना का जिक्र करते हुए दर्शन पूजन का अधिकार मांगा गया था। मांग किया है कि ज्ञानवापी परिसर स्थित शृंगार गौरी और विग्रहों को 1991 की पूर्व स्थिति की तरह नियमित दर्शन.पूजन के लिए सौंपा जाए और सुरक्षित रखा जाए। जिन्होंने कोर्ट में यह वाद दाखिल किया है, उनके नाम राखी सिंह हौजखास नई दिल्लीए लक्ष्मी देवी सूरजकुंड लक्सा वाराणसी, सीता साहू सराय गोवर्धन चेतगंज वाराणसी, मंजू व्यास रामधर वाराणसी और रेखा पाठक हनुमान पाठक वाराणसी हैं।
इस वाद में प्रतिवादी हैं चीफ सेक्रट्ररी के जरिए उत्तर प्रदेश सरकारए जिलाधिकारी वाराणसीए पुलिस कमिश्नरए ज्ञानवापी मस्जिद की देखरेख करने वाली अंजुमन इंतेजामिया मसाजिद और श्री काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने जिला जज वाराण्सी को सौंपी जिम्मेदारी
दरअसलए इस मामले में तत्कालीन सिविल जज रवि कुमार दिवाकर ने सर्वे का आदेश जारी किया था। इसके बाद ज्ञानवापी मस्जिद के परिसर का सर्वे किया गया था। इसी सर्वे के बाद मस्जिद के वजूखाने में शिवलिंग के होने का दावा किया गया वहीं मुस्लिम पक्ष ने इसे फव्वारा बताया। इस मामले में विवाद इतना बढ़ गया कि सर्वे के खिलाफ अंजुमन इंतेजामिया कमेटी सुप्रीम कोर्ट चली गई। सुप्रीम कोर्ट ने मामला सुनवाई योग्य है या नहीं पर फैसले लिए इस मुकदमे को जिला जज की अदालत में भेज दिया था।
यह भी पढ़ें - ज्ञानवापी मस्जिद फैसला : पूरे यूपी में अलर्ट जारी, निगरानी में सोशल मीडिया भी

कोर्ट में चल रहे हैं आधा दर्जन मामले

वैसे तो काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर आधा दर्जन से ज्यादा मुकदमे अलग.अलग कोर्ट में लंबित हैं।
पूरे यूपी में अलर्ट जारी, निगरानी में सोशल मीडिया भी

श्रृंगार गौरी के नियमित दर्शन-पूजन मामले में जिला जज अदालत के फैसले को लेकर प्रदेश में अलर्ट जारी कर दिया गया है। संवेदनशील जगहों पर खास नजर रखी जा रही है। प्रदेश के एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने कहा कि, संवेदनशील इलाकों पर नजर रखी जा रही है। पुलिस पेट्रोलिंग कर रही है। धर्मगुरुओं ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर भी नजर रखी जा रही है जिससे कि कोई भी अराजक तत्व इस स्थिति का लाभ न उठा सके।
हनुमान चालीसा का पाठ

फैसले से ठीक पहले वाराणसी में हनुमान चालीसा का पाठ किया गया। वाराणसी के कंपनी बाग स्थित हनुमान मंदिर में हनुमान चालीसा का पाठ किया गया। हनुमान चालीसा की चौपाइयों के साथ ये लोग तालियां बजाकर ये प्रार्थना कर रहे हैं कि आज जो ज्ञानवापी पर फैसला आने वाला है वो हिन्दू पक्ष में आए।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Uttarakhand News: द्रौपदी का डांडा में हिमस्खल में पर्वतारोहण संस्थान के 29 ट्रेनी बर्फ में फंसे, 8 को रेस्क्यू किया, 21 अभी भी लापतामातम में बदली दुर्गा पूजा की खुशियां, गुजरात के वडोदरा में भीषण सड़क हादसा, 10 लोगों की मौतअमरीका में जनरल बाजवा का राजनाथ सिंह जैसा भव्य स्वागत, भारत के लिए है कितनी चिंता की बात?KCR की नेशनल पार्टी लॉन्चिंग से पहले TRS नेता ने लोगों में बांटी शराब की बोतलें और मुर्गियां, देखिए VIDEO'मोदी-मोदी के नारे... खून की नदियां बह जाएगी कहने वालों को जवाब', अमित शाह की रैली में क्या हुआ ऐसा?Jio Book: जियो ने पेश किया अपना पहला और सबसे सस्ता लैपटॉप! जानिये कब से शुरू होगी बिक्रीUttarakhand News: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह देहरादून पहुंचकर चीन बॉर्डर पर जवानों के साथ मनाएंगे दशहराIND vs UAE: एशिया कप में भारत की लगातार तीसरी जीत, यूएई को 104 रनों के बड़े अंतर से हराया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.