रेलवे बोर्ड चेयरमैन ने प्राइवेट ट्रेन चलाने पर किया खुलासा, बताया कौन होगा चालक, किन ट्रेनों में होगा असर

रेलवे बोर्ड चेयरमैन ने प्राइवेट ट्रेन चलाने पर किया खुलासा, बताया कौन होगा चालक, किन ट्रेनों में होगा असर
Tejas Train

Devesh Singh | Updated: 09 Jul 2019, 05:44:51 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

किन ट्रेन पर लागू हो सकती है नयी व्यवस्था, जानिए क्या है कहानी

वाराणसी. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने मंगलवार को प्राइवेट ट्रेन चलाने की योजना को लेकर बड़ी जानकारी दी है। पीएम नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में चले रहे कार्यो का निरीक्षण करने आये चेयरमैन ने बताया कि हमारा उद्देश्य यात्रियों को अच्छी सुविधा देना है। इसके लिए प्रयोग के तौर पर नयी व्यवस्था को बनाने पर विचार चल रहा है, जिस पर जल्द ही अंतिम निर्णय हो जायेगा।
यह भी पढ़े:-BIG BREAKING-रेलवे की उत्पादन इकाईयों के निगमीकरण पर नहीं लिया गया कोई निर्णय



उन्होंने कहा कि नयी व्यवस्था तेजस पर लागू करने पर विचार है। ट्रेन चालक और सुरक्षा की जिम्मेदारी रेलवे की होगी। हाउस कीपिंग की जिम्मेदारी, जिसमे सफाई, लीनेन, कैटरिंग आदि की व्यवस्था आईआरसीटीसी के माध्यम से किसी कंपनी को देने पर विचार चल रहा है। उन्होंने कहा कि दो ट्रेन में प्रयोग के तौर पर आईआरसीटीसी से कराना चाहते हं जहां तक प्राइवेट ऑपरेटर से ट्रेन चलाने का प्रश्र है उस पर अभी विचार चल रहा है पुरानी ट्रेन में किसी प्रकार का बदलाव नहीं होगा। नयी ट्रेन में नयी व्यवस्था लागू हो सकती है। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद यादव ने बताया कि आने वाले पांच सालों में बड़े स्तर पर क्षमता विस्तार का काम होने जा रहा हैं। इसके लिए आधारभूत सुविधा बढ़ायी जा रही है आनेे वाले समय में अधिक से अधिक ट्रेन चलाना पड़े तो उसमे विचार चल रहा है। उन्होंने कहा कि 2030 तक रेलवे में पचार हजार करोड़ का निवेश होगा। अभी तक एक करोड़ 60लाख का निवेश हो रहा है। रेलवे की क्षमता तेजी से बढ़ाने के लिए क्वांटम जंप लगाने की जरूरत है। रेलवे की मैनूफैक्चिरिंग क्षमता तेजी से बढ़ाने की जरूरत है इससे रोजगार में वृद्धि होगी और आयात में बहुत कटौती हो जायेगी। उन्होंने कहा कि पिछले कई सालों से रेलवे की क्षमता बढ़ाने पर कार्य नहीं हुआ था लेकिन पिछले पांच साल से यह कार्य शुरू हुआ है जो अब तेज हो जायेगा। इसका सबसे अधिक फायदा यात्रियों को मिलेगा।
यह भी पढ़े:-पीएम नरेन्द्र मोदी के नेशनल रिसर्च फाउंडेशन का कैसे दिखेगा दम, जब इन विश्वविद्यालयों में खाली है शिक्षकों के सैकड़ों पद

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned