सड़क जाम करने पर आम आदमी नहीं पुलिस पर भी होती है कार्रवाई, विभाग में मचा हड़कंप

सड़क जाम करने पर आम आदमी नहीं पुलिस पर भी होती है कार्रवाई, विभाग में मचा हड़कंप
Road jam

Devesh Singh | Publish: Jun, 13 2019 12:10:28 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

चार प्रशिक्षु महिला सिपाहियों को प्रशिक्षण से किया गया वापस, अन्य पर भी गिरी गाज

वाराणसी. आम लोग ही नहीं पुलिस भी सड़क जाम करती है तो उन पर कार्रवाई होती है। बनारस में प्रशिक्षु महिला सिपाहियों का सड़क जाम करना भारी पड़ गया है। जांच कमेटी की रिपोर्ट पर एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने कार्रवाई कर दी है। चार महिला आरक्षियों के प्रशिक्षण पर रोक लगा कर उन्हें ज्वाइनिंग ट्रेनिंग सेंटर भेज कर एसएसपी प्रयागराज से कार्रवाई की संस्तुति की गयी है।
यह भी पढ़े:-प्रशिक्षु महिला पुलिसकर्मी का सड़क जाम करना पड़ सकता है भारी



Road jam
IMAGE CREDIT: Patrika

इसी मामले में 13 प्रशिक्षु आरक्षियों को अलग-अलग ट्रेनिंग सेंटर में भेज कर उनके आचरण पर नजर रखने का निर्देश जारी किया गया है जबकि 35 प्रशिक्षु आरक्षियों को ट्रेनिंग सेंटर में रहते हुए सामान्य श्रेणी का दंड दिया गया है। एसएसपी की इस कार्रवाई से पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया है। अनुशासन से ही पुलिस विभाग चलता है और प्रशिक्षु महिला आरक्षियों ने अनुशासन तोड़ कर सड़क जाम किया था जिससे विभाग को लेकर आम लोगों में गलत संदेश गया था। एसएसपी ने मामले की जांच आईपीएस व कैंट सीओ डा अनिल कुमार के साथ चेतगंत सीओ अंकिता सिंह व दशाश्वमेध सीओ प्रीति त्रिपाठी को सौंपी थी उनकी रिपोर्ट पर ही यह कार्रवाई की गयी है।
यह भी पढ़े:-महिला प्रशिक्षु पुलिसकर्मियों ने लगाया छेड़छाड़ का आरोप, किया सड़क जाम

 

Road jam
IMAGE CREDIT: Patrika

छेड़छाड़ व अन्य आरोप लगा कर प्रशिक्षु महिला सिपाहियों ने किया था सड़क जाम
पांच जून को दर्जनों की संख्या में प्रशिक्षु महिला पुलिसकर्मियों ने पुलिस लाइन के सामने सड़क जाम कर दिया था। प्रशिक्षु महिला सिपाहियों का आरोप था कि बाहरी युवकों ने उनके साथ छेड़छाड़ का प्रयास किया था। बैरक के पास सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं थे। खुल मैदान में प्रशिक्षु महिला सिपाहियों को स्नान करना पड़ता है और बाहरी लोग उनका वीडियो बनाते हैं। इसके अतिरिक्त बिजली, पानी आदि समस्या की भी शिकायत की थी। एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने बिजली, पानी, सुरक्षा आदि की समस्याओं को दूर कर लिया गया है। छेडख़ानी का प्रयास करने की बात जांच में साबित नहीं हो पायी है। जो प्रशिक्षु महिला पुलिसकर्मियों ने अनुशासन तोड़ा है और साथियों को भड़काया था उनके खिलाफ कार्रवाई की गयी है।
यह भी पढ़े:-कभी जिनके हाथों से उजड़ा था सुहाग, अब सुहागन के लिए बनायेंगे साड़ी

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned