Weather Alert-पूर्वांचल में अब तक 17 प्रतिशत कम हुई बारिश

धान की पैदावार होगी प्रभावित, मानसून के अंतिम चरण से है उम्मीद

By: Devesh Singh

Published: 05 Sep 2019, 07:29 PM IST

वाराणसी. पूर्वांचल में इस बार सामान्य बारिश होने की संभावना कम है। मानसून के अंतिम चरण में भी बादलों ने दगा दिया तो किसानों को बड़ा झटका लगेगा। सबसे अधिक प्रभाव धान की पैदावर पर पड़ेगा। मौसम वैज्ञानिक की माने तो कुछ सिस्टम बने थे लेकिन वह मध्य प्रदेश की तरफ चले गये। ऐसे में सात सितम्बर को एक और सिस्टम बन रहा है यदि सिस्टम सक्रिय हुआ तो झमाझम बारिश होगी। वर्ना सामान्य बारिश का कोटा पूरा होना मुश्किल है।
यह भी पढ़े:-देखिये हत्या का वीडियो, यह इनामी बदमाश चला रहा ऐसे गोली

अल नीनो की वजह से पहले ही देश में मानसून देर से आया था। पूर्वांचल की बात की जाये तो जून लगभग सूखा ही गुजरा था। जुलाई व अगस्त के 20 दिनों तक अच्छी बारिश हुई थी। इसके चलते दो माह में सामान्य बारिश होने का कोटा लगभग पूरा हो गया है। झमाझम बारिश होने से किसानों को उम्मीद जिंदा हो गयी थी लेकिन पिछले 10 दिनों से जिस तरह बादल रुठे हुए हैं उससे किसानों के सामने धान की फसल बचाने का संकट खड़ा हो गया है।
यह भी पढ़े:-जानिए कपड़े उतारकर पटरियों के बीच लेटे इस शख्स का क्या हुआ होगा

असामान्य हुई बारिश, खेती में नहीं पहुंचा अधिक फायदा
पूर्वांचल में पहले तो काफी दिनों तक बारिश नहीं हुई। मानसून जब मेहरबान हुआ तो दो से तीन दिन में ही 15 दिन का पानी बरस गया। इसके चलते बारिश का अधिकांश पानी बह गया और किसानों को इसका लाभ नहीं मिल पाया। किसानों ने पंपिग सेट के सहारे किसी तरह धान की फसल अब तक बचायी है लेकिन बारिश नहीं होने व धूप के चलते बची हुई फसल में पैदावर कम होने की संभावना बन गयी है।
यह भी पढ़े:-मक्का लादने के नाम पर बुक करायी थी पिकअप, निर्मम ढंग से की थी चालक की हत्या

जानिए क्या कहा मौसम वैज्ञानिक ने
मौसम वैज्ञानिक प्रो.एसएन पांडेय ने बताया कि पिछले सप्ताह की रिपोर्ट के अनुसार पूर्वांचल में अभी तक सामान्य से 17 प्रतिशत कम पानी बरसा है। 4 सितम्बर तक 685 मिलीमीटर बारिश होनी चाहिए थी लेकिन अभी तक 566 मिलीमीटर बारिश हुई है। 29 से चार सितम्बर का डाटा देखा जाये तो 55 मिलीमीटर बारिश होनी चाहिए थी लेकिन 11 मिलीमीटर ही पानी बरसा है इस तरह पिछले सप्ताह माइनस 78 प्रतिशत कम पानी बरसा है। प्रो.एसएन पांडेय के अनुसार पश्चिम बंगाल में एक नया सिस्टम बन रहा है और सात सितम्बर से इसके सक्रिय होने की संभावना है यदि यह सिस्टम भी नहीं काम किया तो सामान्य बारिश होने की उम्मीद कम हो जायेगी। निजी एजेंसी स्काईमेट की यूपी की साप्ताहिक रिपोर्ट के अनुसार पूर्वी यूपी में सामान्य से 17 प्रतिशत कम बारिश हुई है। निम्ब दबाव का क्षेत्र उड़ीसा के पास विकसित हुआ है। मानसून ट्रफ भी पूर्वांचल में नहीं थी। उम्मीद है कि सात सितम्बर से यूपी में फिर से मानसून सक्रिय होगा और राज्य के पूर्वी व मध्य भाग में चार से पांच दिन बारिश होने की संभावना है।
यह भी पढ़े:-GPS में खाली वाहन दिखे लोडेड, ऑनलाइन चालान में बाइक की जगह कार में बिना हेलमेट की निकली पर्ची

Devesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned