script3 To 4 O'clock In The Night Is The Time of Death | रात में 3 से 4 बजे है मौत का समय? जानिए क्या है इसके पीछे राज | Patrika News

रात में 3 से 4 बजे है मौत का समय? जानिए क्या है इसके पीछे राज

दुनिया में 14 फीसदी लोगों के मौत की संभावना उनके जन्मदिन ही होती है। लेकिन मौत का टाइम रात के तीसरे पहर को बताया गया है। यानि रात को 3 से 4 बजे को बीच के वक्त को मौत का टाइम बताया गया है। इसके पीछे भी खास वजह है।

नई दिल्ली

Published: February 20, 2022 06:09:55 pm

मौत एक ऐसा सच है, जिसे कोई झुठला नहीं सकता। जो दुनिया में आया है उसकी मौत निश्चित है। लेकिन क्या आप जानते हैं दुनिया में 14 फीसदी लोगों के मरने की संभावना उनके जन्मदिन पर ही होती है। हालांकि ये आंकड़ा दिन को लेकर है, लेकिन टाइम की बात करें तो ये टाइम रात के तीसरे पहले को बताया गया है। यानी रात में 3 से 4 बजे तक का वक्त मौत का टाइम बताया गया है। संस्‍कृति कोई भी हो, धर्म कोई भी हो या देश कोई भीा हो 'मौत का टाइम' सब जगह करीब-करीब एक ही है- रात का तीसरा पहर। यह जिंदगी के लिए सबसे खतरनाक होता है। धर्म, आस्‍था और अंधविश्‍वास इसे शैतान का समय कहते हैं।
3 To 4 O'clock In The Night Is The Time of Death
3 To 4 O'clock In The Night Is The Time of Death

क्या है वजह?

दरअसल जीसस क्राइस्‍ट की मौत का टाइम दिन में 3 बजे का है। दिन में 3 बजे उनकी मौत को शुभ समय माना गया है। लेकिन इसके ठीक उल्टा यानी रात 3 से 4 बजे के बीच का वक्त को अशुभ माना गया है। ऐसा कहा जाता है कि इस समय शैतान की ताकत चरम पर होती है और इंसान बेहद कमजोर।

यह भी पढ़ें

गजब का गमला! अब पौधे का मूड बताएगा और रखेगा उसका खास ख्याल

क्या होता है महसूस?

इस समय अचानक आंख खुलना, तेज पसीना आना, दिल की धड़कन तेज होना, हाथ-पैर ठंडे पड़ना आदि महसूस होता है। 'मौत के टाइम' से जुड़े रहस्‍यों के बारे में विज्ञान के दावे भी हैरान करने वाले हैं।
454.jpg
धर्म और विज्ञान दोनों सहमत

तथ्‍यों के आधार पर विज्ञान और धर्म दोनों करीब-करीब एक नतीजे पर पहुंचते दिखते हैं। यानी रात का तीसरा पहर। सुबह 3 से 4 का समय बेहद खतरनाक होता है। विज्ञान कहता है कि सुबह 3 बजे से 4 बजे तक अस्‍थमा के अटैक की संभावना 300 गुना बढ़ जाती है।

इस समय श्वसनतंत्र ज्यादा सिकुड़ जाता है। एंटी इंफ्लेमेट्री हार्मोंस का उत्सर्जन घट जाता है। रात के तीसरे पहर में ब्लडप्रेशर सबसे कम होता है।

450.jpeg
डेविल्स ऑवर या डैड टाइम

कई पैरानॉर्मल रिसर्चर सुबह 3 बजे से 4 बजे के समय 'डेविल्‍स ऑवर' या 'डैड टाइम' भी कहकर बुलाते हैं। उनका मानना है कि इस समय शैतानी या भूतों की गतिविधियां सबसे ज्‍यादा होती हैं।

ज्‍यादातर लोग इसी समय में बुरे सपने भी देखते हैं और अक्‍सर उनकी नींद भी 'मौत के टाइम' यानी सुबह 3 से 4 बजे के बीच टूटती है।


ब्रह्ममुहूर्त

हिंदू धर्म में इसे ब्रह्ममुहूर्त कहा जाता है। शास्त्रों में कहा गया है कि इस समय की गई प्रार्थना हमेशा सफल होती है। शायद इसका एक कारण यह भी है कि शैतानी शक्तियों के प्रभाव से बचने के लिए इस समय मानव को ईश्‍वर की शरण में होना चाहिए, जिससे कि वह अपनी शक्ति को उस वक्‍त जागृत हो, जिस समय इंसानी शरीर सबसे कमजोर माना जाता है।

तांत्रिक साधना के लिए भी अहम

रात का तीसरा पहर तांत्रिक साधना के लिए भी काफी अहम माना गया है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, 3 बजे के बाद मस्तिष्‍क जाग चुका है और शरीर शिथित होता है। दोनों की गति में सामंजस्य नहीं हो पाता है।

यह भी पढ़ें

घोड़ी के मौत का वारंट लेकर शहर-शहर घूम रहे अधिकारी, जानिए क्यों मची है खलबली

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.