फांसी पर लटकाने से पहले अपराधी के कान में क्या कहता है जल्लाद, यकीन नहीं होगा आपको

  • फांसी के दौरान कुछ नियमों का पालन करना बहुत जरूरी होता है।
  • फांसी का लीवर खींचने से पहले जल्लाद, अपराधी के कान में कुछ कहता है।

By: Mahendra Yadav

Published: 26 Dec 2020, 04:55 PM IST

जब भी हमारे देश में किसी को फांसी की सजा दी गई है, वह चर्चा में रही है। बता दें कि भारत में किसी जघन्य अपराध के बाद ही किसी अपराधी को फांसी दी जाती है। जब किसी को फांसी की सजा दी जाती है नियमों का पालन किया जाता है। फांसी देते समय कुछ नियमों का ध्यान रखना जरूरी होता है। फांसी की तैयारी पहले से ही कर ली जाती है।

तय दिन और तय समय पर ही अपराधी को फांसी लगाई जाती है, लेकिन फांसी लगाने के लिए भी कुछ नियम होते हैं, जिनका ध्यान रखना जरूरी होता है। फांसी देने में सबसे अहम भूमिका जल्लाद की होती है। जल्लाद ही अपराधी को फांसी पर लटकाता है। फांसी पर लटकाने से पहले जल्लाद अपराधी के कान में कुछ बोलता भी है।

नियमों का ध्यान रखना जरूरी
बिना नियमों का पालन किए किसी भी अपराधी कोे फांसी नहीं दी जा सकती। बता दें कि फांसी की रस्सी के साथ फांसी का समय, इसे देने की प्रक्रिया आदि पहले से ही तय होते है। इन नियमों का पालन करना बहुत जरूरी होता है। जब भी हमारे देश में किसी दोषी को फांसी दी जाती है, तो जल्लाद उसके कानों में कुछ बोलता है। आप भी सोच रहे होंगे कि आखिरी जल्लाद अपराधी के कान में क्या कहता होगा।

यह भी पढ़ें -कपल ने रखा अपने बच्चे का ऐसा अनोखा नाम, अब कंपनी 60 साल तक फ्री खिलाएगी पिज्जा

लीवर खींचने से पहले अपराधी के कान में कहता है जल्लाद
फांसी पर लटकाने से पहले फांसी देने वाला जल्लाद अपराधी के कान मकें कुछ ऐसा कहता है कि आप भी आश्चर्य करेंगे। बता दें कि फांसी के दौरान जल्लाद चबूतरे से जुड़ा लीवर खींचता है। इस लीवर को खींचनेे से पहले वह अपराधी के कान में बोलता है ’मुझे माफ कर दो।’ इसके अलावा अगर अगर अपराधी हिन्दू होता है तो जल्लाद उसे ’राम-राम’ बोला जाता है। अगर अपराधी मुस्लिम है जल्लाद उसके कान में ’सलाम’ बोलता है।

यह भी पढ़ें -9 साल का यह बच्चा YouTube के जरिए करता है इतनी कमाई, जानकर उड़ जाएंगे होश, फोर्ब्स की लिस्ट में नंबर 1 पर

यह भी कहता है जल्लाद
फांसी से पहले जल्लाद अपराधी के कान में और भी कुछ कहता है। जल्लाद, अपराधी से आगे कहता है कि हम क्या कर सकते हैं, हम हुकुम के गुलाम हैं। इतना कहकर जल्लाद फांसी का फंदा खींच देता है। बता दें कि फांसी के वक्त जेल अधीक्षक, जल्लाद, एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट और डॉक्टर मौजूद रहते है। अगर इन चारों में से अगर कोई एक नहीं रहता, तो फांसी की सजा रोक दी जाती है।

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned