scriptDeveloped nations have acknowledged shortcomings on climate change | G-20 Summit: पीयूष गोयल बोले- विकसित देशों ने पहले खूब फायदा उठाया, अब काॅर्बन उत्सर्जन कम करें | Patrika News

G-20 Summit: पीयूष गोयल बोले- विकसित देशों ने पहले खूब फायदा उठाया, अब काॅर्बन उत्सर्जन कम करें

भारत की ओर से बतौर प्रतिनिधि पीयूष गोयल ने स्कॉटलैंड में जलवायु परिवर्तन को लेकर होने जा रहे कॉन्फ्रेंस ऑफ ऑल पार्टीज यानी COP-26 से पहले स्पष्ट तौर पर कहा कि भारत विकासशील देशों की आवाज बनेगा। उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि अगले कुछ वर्षों में तकनीक के अभाव की वजह से कार्बन ऊर्जा का इस्तेमाल पूरी तरह रोकना संभव नहीं, ऐसे में पहले फायदा उठा चुके विकसित देशों को अब इसकी खपत कम करनी चाहिए।

 

नई दिल्ली

Updated: November 01, 2021 09:33:55 am

नई दिल्ली।

भारत ने G-20 के मंच से ऊर्जा की खपत और काॅर्बन उत्सर्जन को लेकर विकसित देशों को दो टूक शब्दों में कड़ा संदेश दिया है। भारत ने विकसित देशों को स्पष्ट कर दिया है कि वे अपने यहां ऊर्जा की खपत कम करें, जिससे विकासशील देशों के लिए काॅर्बन उत्सर्जन का रास्ता साफ हो।
piyush_4.jpg
भारत की ओर से बतौर प्रतिनिधि पीयूष गोयल ने स्कॉटलैंड में जलवायु परिवर्तन को लेकर होने जा रहे कॉन्फ्रेंस ऑफ ऑल पार्टीज यानी COP-26 से पहले स्पष्ट तौर पर कहा कि भारत विकासशील देशों की आवाज बनेगा। उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि अगले कुछ वर्षों में तकनीक के अभाव की वजह से कार्बन ऊर्जा का इस्तेमाल पूरी तरह रोकना संभव नहीं, ऐसे में पहले फायदा उठा चुके विकसित देशों को अब इसकी खपत कम करनी चाहिए।
पीयूष गोयल ने कहा कि जिन विकसित देशों ने अब तक ऊर्जा का भरपूर लाभ उठाया है, उन्हें तेजी से इसके उत्सर्जन में कटौती करनी चाहिए, जिससे विकासशील देश भी विकसित होने के लिए कार्बन ऊर्जा का उपयोग कर सकें। गोयल ने यह भी कहा कि मौजूदा समय में स्वच्छ ऊर्जा को अवशोषित करने के लिए पर्याप्त तकनीक नहीं है, इसलिए कार्बन ऊर्जा के इस्तेमाल पर पूरी तरह रोक लगाने से पहले हमें तकनीक और नए संसाधनों पर अधिक काम करने की जरूरत है।
यह भी पढ़ें
-

प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात के बाद हिन्दी के मुरीद हुए फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमेनुएल मैक्रों, तुरंत हिंदी में ही लिख दिया यह ट्वीट

पांच दिनों तक चले G-20 देशों के सम्मेलन के आखिरी दिन रोम डेक्लेरेशन जारी किया गया। पीयूष गोयल के बयान से पहले सम्मेलन के अध्यक्ष आलोक शर्मा ने भी अपने संबोधन में कहा कि COP-26 जलवायु सम्मेलन ही ग्लोबल वॉर्मिंग को डेढ़ डिग्री सेल्सियस तक सीमित रखने के लिए आखिरी और सबसे अच्छी उम्मीद है।
यह भी पढ़ें
-

चीन ने कोरोना वायरस पर बोला झूठ, 'अमरीका के पोर्क, ब्राजील के बीफ और सऊदी अरब के झींगों से फैला संक्रमण'

विश्व की 20 सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के सम्मेलन में जलवायु परिवर्तन के अलावा कोरोना महामारी और टीकाकरण पर भी चर्चा हुई। वहीं, जलवायु परिवर्तन को लेकर ग्लासगो में COP-26 12 नवंबर तक चलने वाला है। इसमें दुनियाभर में बदलती मौसम की घटनाओं और 150 सालों के जीवाश्म ईंधन के जलने से जलवायु परिवर्तन के विनाशकारी प्रभावों को लेकर कई मुद्दों पर चर्चा होगी। बैठक में लगभग 200 देशों के वार्ताकार 2015 के पेरिस जलवायु समझौते के बाद से लंबित मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाबMaharashtra Political Crisis: क्या महाराष्ट्र में दो-तीन दिनों में सरकार बना लेगी बीजेपी? यहां पढ़ें पूरा समीकरणPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget 2022: 1 जुलाई से फ्री बिजली; यहां पढ़ें पंजाब सरकार के पहले बजट में क्या-क्या है खासपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर एकनाथ शिंदे ने कहा- यह बालासाहेब के हिंदुत्व और आनंद दिघे के विचारों की जीत हैMaharashtra: ईडी के समन पर संजय राउत ने कसा तंज, बोले-ये मुझे रोकने की साजिश, हम बालासाहेब के शिवसैनिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.