दिल्ली हिंसा पर दिग्विजय सिंह का बड़ा बयान, कहा- 'किसान की मौत ट्रैक्टर पलटने से नहीं बल्कि गोली लगने से हुई है'

दिग्विजय सिंह ने दावा- '26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा के दौरान किसान की मौत सिर्फ ट्रैक्टर पलटने से नहीं हुई, बल्कि गोली लगने के बाद ट्रैक्टर पलटने से हुई है।'

By: Faiz

Published: 28 Jan 2021, 04:54 PM IST

आगर मालवा/ मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह एक कार्यक्रम में शामिल होने आगर मालवा पहुंचे, यहां उन्होंने 26 जनवरी को हुई दिल्ली हिंसा को लेकर एक बार फिर बड़ा बयान दिया है। दिग्विजय सिंह ने दावा करते हुए कहा कि, '26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा के दौरान किसान की मौत सिर्फ ट्रैक्टर पलटने से नहीं हुई, बल्कि गोली लगने के बाद ट्रैक्टर पलटने से हुई है।' दिग्विजय ने कहा कि, 'अगर चालक को गोली लगेगी तो उसके मरने पर ट्रैक्टर तो पलटेगा ही।'

 

पढ़ें ये खास खबर- हाईवे पर भीषण सड़क हादसा, ट्रक और टवेरा की टक्कर में 4 की मौत, 7 गंभीर घायल, देखें Video


दिग्विजय ने उठाए सवाल

दिग्विजय सिंह ने कहा कि, मीडिया द्वारा ही कहा गया था कि, किसान के सिर में गोली लगी थी और मेरे कार्यकर्ताओं के माध्यम से भी मुझे यही जानकारी दी गई। पत्रकारों से चर्चा के दौरान दिग्विजय सिंह ने सवाल करते हुए कहा कि, एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें किसान की मौत ट्रैक्टर पलटने से होना बताया गया। इस पर दिग्विजय सिंह ने कहा गोली लगेगी तो ट्रैक्टर पलटेगा ही सही। अगर गोली से मौत नहीं हुई, तो किसान की मौत की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सरकार को जारी करना चाहिए। उन्होंने कहा कि, जिन लोगों ने लाल किले पर हुड़दंग किया, सरकार उन उपद्रवियों को पकड़ती क्यों नहीं। दीप सिंद्दु जिसने लाल किले पर जाकर हंगामा किया, वो भाजपा का खास कार्यकर्ता है। उसे अब तक पुलिस क्यों नहीं पकड़ सकी।

 

पढ़ें ये खास खबर- किसानों को सौगात : 20 लाख किसानों के खाते में कल डाले जाएंगे सम्मान निधि के 400 करोड़ रुपये


दिग्विजय का पुलिस पर बड़ा आरोप

दिग्विजय सिंह द्वारा पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि, पुलिस ने ही एक व्यक्ति को गोली मारी, जिसकी जरूरत उन्हें नहीं थी। सिंह ने कहा कि, जिन पुलिस वालों ने किसानों पर डंडे बरसाए, जिन्होंने पानी की बौछार फेंकी उन्हीं को किसानों ने अपने लंगर में खाना खिलाया है। उन्होंने इस उपद्रव के लिए पूरी तरह पुलिस और प्रशासन को ज़िम्मेदार ठहराया। दिग्विजय सिंह के मुताबिक, तय रास्तों पर पुलिस ने बैरिकेड्स लगा दिए थे, ये पूरी तरह से सुनियोजित था। वहीं, दूसरी तरफ बरेली एडीजी अविनाश चंद्रा ने मामले में किसान की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बारे में बयान जारी करते हुए कहा कि, किसान की मौत गोली लगने से नहीं, बल्कि ट्रैक्टर पलटने से आई चोट की वजह से हुई है।

 

गोटेगांव में झांसी घाट पर लगा लंबा जाम - video

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned