कानस के ग्रामीणों ने मांगी इन्द्रदेव से अच्छी बारिश

कानस के ग्रामीणों ने मांगी इन्द्रदेव से अच्छी बारिश

dinesh sharma | Publish: Jul, 08 2019 06:05:03 AM (IST) Ajmer, Ajmer, Rajasthan, India

बूढ़ा पुष्कर सरोवर का किया दुग्धाभिषेक, कानस के किसानों ने नहीं बेचा दूध

पुष्कर (अजमेर).

समीपवर्ती कानस के ग्रामीणों ने रविवार को गाय-भैंस का दूध बाजार में नहीं बेचा तथा पूरे गांव के घरों से जमा सैकड़ों लीटर दूध से बूढ़ा पुष्कर सरोवर का दुग्धाभिषेक कर वर्षा की कामना के लिए इन्द्र को मनाया। इस दौरान रामघाट पर पं. शंकर पाराशर के सानिध्य में हवन पूजन भी किया गया।

कानस व बूढ़ा पुष्कर के ग्रामीण पिछले कई दशक से यह आयोजन करते आ रहे हैं। गांव के पटेल रंगलाल का कहना है कि वर्ष में एक बार ग्रामीण अपने पशुओं का दूध बाजार में नहीं बेचते हैं। इस दूध से बूढ़ा पुष्कर सरोवर का दुग्धाभिषेक किया जाता है।

इसी के तहत रविवार सुबह कानस की महिलाएं सिर पर दूध भरी चरियां लेकर डीजे संगीत पर नाचती-गाती बूढ़ा पुष्कर सरोवर के राम घाट पहुंची। पुरुष शंखनाद कर रहे थे तो युवा झालर घंटियां बजाकर झूम रहे थे। रामघाट पर मंत्रोच्चार के साथ बूढ़ा पुष्कर सरोवर का अभिषेक पूजन, हवन किया तथा अच्छी बरसात की मनौती मांगी।

रुद्र पुष्कर के नाम से विख्यात बूढ़ा पुष्कर के घाट रंग-बिरंगी छटा से निखर गए। इस दौरान गांव के भैंरू पटेल, रमता रावत, देवीलाल रावत, गोरधन सिंह, दीपसिंह, ज्ञानी सिंह आदि मौजूद थे।

कानस के ग्रामीणों ने अच्छी वर्षा की कामना को लेकर अपने पशुओं का दूध बाजार में नहीं बेचा तथा सारे दूध से बूढ़ा पुष्कर सरोवर का दुग्धाभिषेक कर इन्द्र से बरसात की कामना की।

संजू रावत, सरपंच, कानस

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned