CBSE: 2 हजार रुपए विलंब से विद्यार्थियों की सूची 14 तक

2020 में बारहवीं और दसवीं की परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों की सूची भेजी सकेगी। इसके लिए प्रति विद्यार्थी 2 हजार रुपए विलंब शुल्क देना होगा।

अजमेर.

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (cbse) ने विभिन्न रीजन (regions) में सरकारी, निजी स्कूल से नियमित और स्वयंपाठी विद्यार्थियों की ऑनलाइन सूची (online students list) मांगी है। यह विद्यार्थी वर्ष 2020 में दसवीं (10th class) और बारहवीं (12th class) की परीक्षा में बैठेंगे। स्कूल प्रति विद्यार्थी 2 हजार रुपए विलंब शुल्क से 14 अक्टूबर तक सूची भेज सकेंगे।

read more: RPSC: वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी परीक्षा के प्रवेश पत्र अपलोड

बोर्ड प्रतिवर्ष सरकारी,निजी स्कूल, केंद्रीय विद्यालय, जवाहर नवोदय विद्यालय से दसवीं और बारहवीं की परीक्षा में बैठने वाले विद्यार्थियों की ऑनलाइन सूची (online list) स्कूल से मांगता है। परीक्षा नियंत्रक डॉ. संयम भारद्वाज के मुताबिक 2020 में बारहवीं और दसवीं की परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों की सूची भेजी सकेगी। इसके लिए प्रति विद्यार्थी (per student) 2 हजार रुपए विलंब शुल्क देना होगा।

read more: Jee Main: विद्यार्थी ले सकेंगे जेईई मेन्स की ओएमआर

ये हैं सीबीएसई के रीजन
अजमेर, प्रयागराज, दिल्ली, पंचकुला, पुणे, भोपाल, पटना, भुवनेश्वर, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, गुवाहाटी, देहरादून, बेंगलूरू, चंडीगढ़, नोएडा, एवं दिल्ली वेस्ट रीजन

read more: रेलवे कर्मचारियों ने चेताया : ट्रेन संचालन निजी हाथों में देना नहीं होगा बर्दाश्त

सीटेट फार्म की त्रुटियां सुधारें 10 तक
सीबीएसई ने केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (central teachers eligibility test) के अभ्यर्थियों को फार्म में रही त्रुटियों को सुधारने का अवसर दिया है। अभ्यर्थी 10 अक्टूबर तक फार्म में रही त्रुटियों (correction in form) को ऑनलाइन सुधार सकेंगे। इसके बाद बोर्ड कोई अवसर नहीं देगा। परीक्षा 8 दिसंबर को होगी।

read more: पूर्व क्रिकेटर अरूण लाल ने कहा: काश! हमारी टीम में होता धोनी


पढ़ें यह खबर भी...

अभी तक सक्रिय है मानसून
देश और राजस्थान में मानसून (monsoon) की सक्रियता अब तक बनी हुई है। प्र्रतिवर्ष 1 जून से 30 सितंबर तक ही मानसून की अवधि रहती है। जहां राजस्थान (rajasthan) में अब तक 778.2 मिलीमीटर बारिश हो चुकी है। वहीं अजमेर जिले में 925 से ज्यादा बरसात (heavy rian in ajmer) हुई है। जबकि अजमेर जिले की औसत बरसात 550 मिलीमीटर है। इस लिहाज से अजमेर में 40 प्रतिशत से ज्यादा बरसात हो चुकी है।

read more: Preksha Dhyan Yoga: प्रेक्षाध्यान से जाना अजमेरवासियों ने तंदरूस्ती का

अक्टूबर में ओस, सर्दी का एहसास
इस बार झमाझम बरसात से गुलाबी ठंडक (pink coldness) भी जल्दी आ गई है। अक्टूबर के शुरुआत में ही ओस देखी जा सकती है। लोगों को देर रात पंखे-कूलर, एसी भी बंद करने पड़ रहे हैं। मौसम विभाग (dept of meteriology)के अनुसार 20 अक्टूबर के बाद हवा दी दिशा में बदलाव आएगा। पश्चिमी और उत्तरी हवाएं चलने से तापमान में गिरावट होगी।

read more: Rain in ajmer : बरसात दे गई गहरे ‘जख्म’, वाहन चालक झेल रहे ‘दर्द’

raktim tiwari
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned