राख और रेत के प्रयोग से भवन निर्माण की लागत 75 फीसदी तक कम होगी

Bhanu Pratap

Publish: Apr, 17 2018 06:40:50 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2018 06:40:51 PM (IST)

Aligarh, Uttar Pradesh, India
राख और रेत के प्रयोग से भवन निर्माण की लागत 75 फीसदी तक कम होगी

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्र जुनैद खान ने राख और रेत के प्रयोग से निर्माण लागत 75 फीसदी तक कम करने का दावा किया है।

अलीगढ़। ऐसे समय में जब सड़कों और भवनों के निर्माण कार्यों की लागत सीमेंट, रेत, मोरंग और स्टील जैसी महंगी वस्तुओं के कारण बढ़ती जा रही है। ऐसे में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के सिविल इंजीनियरिंग विभाग में एमटेक के छात्र मोहम्मद जुनैद खान ने अपने शोध कार्य में इस लागत को सस्ता करने का फार्मूला प्रस्तुत किया है।

यह भी पढ़ें

6 दिन से गायब है बिजली, आक्रोशित ग्रामीणों ने भाजपा सांसद को घेरा और फिर...

दिल्ली में शोधपत्र प्रस्तुत किया

मोहम्मद जुनैद खान ने हवा में उड़कर बर्बाद होने वाली राख और रेत को अपने शोध का विषय बनाया है। इस रेत का 50 प्रतिशत तक प्रयोग किया जा सकता है। इससे रेल व रोड के किनारों तथा बांधों के निर्माण की लागत को 50 प्रतिशत से 75 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। मोहम्मद जुनैद खान ने इण्डियन ज्योटेक्नीकल सोसाइटी आईआईटी दिल्ली और इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर सिविल मैकेनिक्स एण्ड टेक्निकल इंजीनियरिंग के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय सिम्पोजियम में अपना शोधपत्र पेश किया।

यह भी पढ़ें

यहां देखिए आगरा ताज कार रैली की सुंदर तस्वीरें

 

पुरस्कार में 100 यूरो मिले

यह कांफ्रेंस ज्योटेक्निक्स ऑफ ट्रांसपोरटेशन इंफ्रांस्ट्रक्चर विषय पर नई दिल्ली में संपन्न हुई। जुनैद खान के शोधपत्र को प्रमुख पब्लिशिंग हाउस स्प्रंगर पब्लिशर द्वारा यंग ज्योटेक्निकल इंजीनियर रनरअप अवार्ड प्रदान किया। बतौर पुरस्कार उन्हें 100 यूरो तथा प्रशस्ति पत्र भेंट किया गया।

यह भी पढ़ें

कठुआ के बाद एटा में आठ साल की बच्ची की रेप के बाद हत्या, विधायक ने लगाया दस लाख का मरहम

 

उच्चस्तरीय कर्य किया

इस अन्तर्राष्ट्रीय सिम्पोजियम में एएमयू के सिविल इंजीनियरिंग विभाग के प्रो. महबूब अनवर खान भी मौजूद थे। उनके निर्देशन में मोहम्मद जुनैद खान ने अपना शोधपत्र तैयार किया। प्रो. महबूब खान ने कहा है कि जुनैद खान ने शोध में उच्चस्तरीय कार्य किया गया है।

यह भी पढ़ें

दर्दनाक हादसा: मां के साथ दो बच्चों की मौत से फूटा गुस्सा, बेकाबू भीड़ का पुलिस पर पथराव, आगजनी का प्रयास

एसटीएस स्कूल की वार्षिक मैगजीन का विमोचन

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के एसटीएस स्कूल की वार्षिक मैगजीन का विमोचन अमुवि के स्कूल एजूकेशन डायरेक्टोरेट के डायरेक्टर प्रो. असफर अली खान ने एक समारोह में किया। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि वार्षिक पत्रिकाओं के प्रकाशन से छात्र व छात्राओं में सृजनात्मक योग्यताओं का विकास होता है तथा उनके अन्दर छुपे हुए लेखकों को सामने आने का अवसर प्राप्त होता है। ज्ञात हो कि उक्त पत्रिका में छात्रों द्वारा लिखे गये लेखों, कहानियों एवं कविताओं सहित स्कूल की उपलब्धियों को प्रस्तुत किया गया है। इस अवसर पर स्कूल एजूकेशन डायरेक्टोरेट के उपनिदेशक प्रो. आबिद अली खान, सहायक निदेशक डॉ. अनवर शहजाद, प्रिन्सिपल फैसल नफीस, पत्रिका के संपादक मोहम्मद अल्लाम और शिक्षक भी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें

इस बार अक्षय तृतीया पर है दुर्लभ योग ?, राशि के अनुसार खरीददारी करने से मिलेगा दोगुना फायदा

योगा पर लेख प्रतियोगिता

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के फिजिकल एजूकेशन विभाग की ओर से अन्तर्राष्ट्रीय योगा दिवस कार्यक्रमों की श्रंखला के अवसर पर ‘‘योगा’’ विषय पर एक लेख प्रतियोगिता आयोजित की गयी जिसमें स्कूलों, कॉलेजों तथा विश्वविद्यालय के छात्र व छात्राओं ने भाग लिया। प्रतियोगिता का आयोजन विभागाध्यक्ष प्रो. बृजभूषण सिंह के मार्गदर्शन में किया गया। इस अवसर पर उन्होंने योगा एवं स्वास्थ्य विषय पर अपने विचार भी व्यक्त किये।

यह भी पढ़ें

आब-ए-जमजम से आंबेडकर की मूर्ति धोने का विरोध, जानें क्या है वजह!

Ad Block is Banned