scriptPrayagraj Corona Precedent Unique wedding No Baja No shehnai Baraati 1 | कोरोनाकाल में मिसाल : अनूठी शादी, न बाजा न शहनाई, बाराती भी सिर्फ एक | Patrika News

कोरोनाकाल में मिसाल : अनूठी शादी, न बाजा न शहनाई, बाराती भी सिर्फ एक

Corona Precedent Unique wedding - लोगों को वक्त के साथ चलने की दी सीख
- सादगी से की गई इस शादी ने बहुत सारे लोगों के दिलों में जगह बनाई
- सोचने पर मजबूर किया आखिर इसमें खामी ही क्या है?
- साथ ही शादी ने संदेश दिया कि जान है तो जहान है

इलाहाबाद

Published: May 02, 2021 04:07:23 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

प्रयागराज. Corona Precedent Unique wedding : इस वक्त पूरे प्रदेश में कोरोना वायरस बेलगाम हो चुका है। जरा सी असावधानी बरती और दुर्घटना घटी। पर बावजूद इसके जिंदगी चल रही है। और सभी लोग अपने जरुरी काम को अंजाम दे रहे हैं। कोरोना काल में कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए की गई एक शादी लोगों के लिए मिसाल बन गई है। सभी इस शादी को लेकर चर्चा कर रहे हैं।
कोरोनाकाल में मिसाल : अनूठी शादी, न बाजा न शहनाई, बाराती भी सिर्फ एक
कोरोनाकाल में मिसाल : अनूठी शादी, न बाजा न शहनाई, बाराती भी सिर्फ एक
जान है तो जहान है :- इस शादी में दूल्हा था दुल्हन थी। न बाजा न शहनाई, बाराती भी सिर्फ एक। वह भी दूल्हे की बहन। सड़कों पर नाच गाना, आतिशबाजी जैसे धूम-धड़ाको से वर और कन्या पक्षों दूर से ही हाथ जोड़ लिया। रिश्तेदारों को कोरोना वायरस का वास्ता देकर सभी को घर में रहने को कहा, और उनसे आशीर्वाद ले लिया। सादगी से की गई इस शादी ने बहुत सारे लोगों के दिलों में जगह बनाई और सोचने पर मजबूर किया आखिर इसमें खामी ही क्या है। साथ ही इस शादी ने संदेश दिया कि जान है तो जहान है।
कोरोना को हराना है तो यह सोच है बेहद कारगर, 450 परिवारों ने सोसाइटी कैंपस में बनाया मेडिकल रूम

जलपरी तरुणा निषाद (jalpari Taruna Nishad) मशहूर नाम :- अब उनके बारे में जानिए जिन्होंने इस नए चलन को बढ़ावा देने की एक छोटी सी पहल की। दुल्हन का नाम बेहद परिचित है। संगमनगरी में यमुना तट केककरहा घाट पर जलपरी तरुणा निषाद। तरुणा निषाद वाटर स्पोर्ट्स में अब तक कई उपलब्धियां अपने नाम कर चुकी हैं। राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उन्होंने कई पदक जीते हैं। वर्ष 1995-96 में अपना नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज करा चुकी हैं।
दूल्हा खुद कार चलाकर मंडप तक गया :- इस दुल्हन तरुणा निषाद और दूल्हे यतींद्र कश्यप ने सादगी से ब्याह रचाया। यतींद्र खुद कार चलाते हुए मंडप तक गए। साथ में बाराती के नाम पर उनकी बड़ी बहन थीं। दुल्हन और उनके पिता त्रिभुवन ने मंडप में दूल्हे की अगवानी की। और व्याह पूरा हुआ। इसके साथ लोगों को वक्त के साथ चलने की सीख दी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

पीएम मोदी की सुरक्षा में चूक मामले की जांच कर रहीं जस्टिस इंदु मल्होत्रा को SFJ ने दी धमकीहरक रावत की बीजेपी से छुट्टी पर सीएम पुष्कर धामी का बड़ा बयान, बोले- पार्टी पर बना रहे थे दबावपंजाब में टल सकते हैं चुनाव! चन्नी सरकार की मांग पर चुनाव आयोग की अहम बैठक आजभारत में एक दिन में कोरोना के 2.71 लाख नए मामले आए सामने, 314 की मौतPandit Birju Maharaj: कथक सम्राट पंडित बिरजू महाराज का निधन, 83 साल की उम्र में ली अंतिम सांसतमिलनाडु के Jallikattu उत्सव में पुलिसकर्मियों समेत कई लोग घायल, अस्पताल में भर्तीVivah Muhurat 2022: इस साल मई-जून महीने में होगी शादियों की भरमार, जानिए 2022 के विवाह के शुभ मुहूर्तबिल्डर ने पांच दोस्तों से कराया पत्नी का गैंगरेप, हैवानियत ऐसी कि बिना कपड़ों के रखता था बंधक बनाकर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.