यूपी के इस शहर में लगातार बढ़ रहा जलस्तर, कई इलाके बाढ़ की जद में निचले इलाकों में मंडराया खतरा

यूपी के इस शहर में लगातार बढ़ रहा जलस्तर, कई इलाके बाढ़ की जद में निचले इलाकों में मंडराया खतरा
गंगा यमुना

Prasoon Kumar Pandey | Publish: Aug, 14 2019 07:27:29 PM (IST) Allahabad, Allahabad, Uttar Pradesh, India


बाढ़ में सेल्फी लेने वालों को चेतावनी ,गहरे पानी में नाविकों के जाने से रोक

प्रयागराज। संगम नगरी में बीते तीन दिनों से गंगा यमुना दोनों नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। पहाड़ी क्षेत्रों और प्रदेश के अलग.अलग हिस्सों में लगातार हो रही बारिश के चलते संगम में जल बढ़ रहा है। बढ़ते हुए जल स्तर को लेकर जिला प्रशासन ने अलर्ट घोषित कर दिया है। जल स्तर बढ़ने से गंगा और यमुना के कई घाट जल में समा गए हैं। घाटों से घाटियों और तीर्थ पुरोहितों को सुरक्षित स्थानों की ओर जाने के जहां पहले ही निर्देश दे दिए गए थे। वहीं गंगा और यमुना के घाटों पर आने वाले श्रद्धालुओं के स्नान के लिए बैरिकेट लगा दी गई है। इसके साथ ही घाटों पर जल पुलिस की तैनाती करने के साथ ही कलेक्ट्रेट में बनाये गए बाढ़ कन्ट्रोल रुम से लगातार बढ़ रहे जल स्तर की मानीटरिंग की जा रही है।

इसे भी पढ़ें -उत्तर प्रदेश में हाई अलर्ट ,रेलवे स्टेशन हाईकोर्ट सहित एयरपोर्ट की सुरक्षा बढाई गई

पिछले तीन दिनों से प्रदेश भर हिस्सों में लगातार बारिश के चलते गंगा और यमुना नदियां उफान पर हैं। संगम में दोनों ही नदियों का जल स्तर लगातार बढ़ रहा है। जल नियंत्रण बोर्ड से मिली जानकारी के मुताबिक नैनी में यमुना नदी का जल स्तर जहां 76.940 मीटर तक पहुंच गया है। वहीं गंगा नदी का जल स्तर फाफामऊ में 78.300 मीटर और छतनाग में 76ण्200 मीटर रिकार्ड किया गया है। संगम में गंगा और यमुना नदियों के लागातार बढ़ रहे जल स्तर को देखने बड़ी संख्या में शहरी लोग संगम तक पर पहुंच रहे हैं। वही घाटों पर कोई हादसा न हो इसको लेकर प्रशासन सतर्क है। प्रशासन ने जहां घाटों पर श्रद्धालुओं के स्नान के लिए बैरीकेटिंग लगायी है। वहीं जल पुलिस को भी 24 घण्टे तैनात कर दिया गया है। इसके साथ ही नाविकों को भी संगम आने वाले यात्रियों को गहरे पानी में ले जाने पर रोक दिया गया है। शहरवासी बाढ़ देखने संगम तट पहुंच रहे हैं साथ ही नाव से घूम कर सेल्फी लेने की होड़ लगी है।जिस पर प्रशासन ने पूरी तरह से रोक लगा दी है।

वहीं संगम में बढ़ रहे जल स्तर पर सिंचाई विभाग द्वारा स्थापित बाढ़ कन्ट्रोल रुम से लगातार नजर रखी जा रही है। बाढ़ कार्य खण्ड सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के अवर अभियन्ता राम मूरत ने बताया प्रयाग में गंगा और यमुना नदियों का खतरे का लेवल 84ण्734 मीटर है। लेकिन दोनों नदियां खतरे के निशान से छह से आठ मीटर नीचे बह रही हैं। हांलाकि चौबीस घण्टे कन्ट्रोल रुम के जरिए नैनीए फाफामऊ और छतनाग में जलस्तर की मानीटरिंग की जा रही है। जिले में लगभग सौ बाढ़ चौकियां स्थापित की गई हैं और सभी आठ तहसीलों में बाढ़ कन्ट्रोल रुम खोल दिए गए हैं।

बहरहालए संगम में जल स्तर लगातार बढ़ रहा है। लेकिन अभी भी दोनों नदियां खतरे के निशान से नीचे बह रही हैं। अभी तक जिले का कोई गांव भी बाढ़ के खतरे की जद में नहीं आया है। लेकिन यही हालात रहे तो जल्द ही गांव वालों को भी सुरक्षित स्थानों पर जाना पड़ेगा। इसके लिए जिला प्रशासन सभी तहसीलों में स्थापित बाढ़ कन्ट्रोल रुम और बाढ़ चौकियों पर नजर बनाये हुए है। ताकि बाढ़ की किसी भी आपदा से समय रहते निबटा जा सके।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned