एक दिन बाद अलवर में भाजपा ने पलटी बाजी, भिवाड़ी व थानागाजी में कांग्रेस जीती

निकायों के उपाध्यक्ष पद के चुनाव में अलवर को छोड़ भिवाड़ी व थानागाजी में राजनीतिक परिदृश्य सभापति चुनाव के समान ही रहा, लेकिन अलवर नगर परिषद के उप सभापति के चुनाव में भाजपा बाजी पलटकर अपनी खोई साख कुछ हद तक बचाने में कामयाब रही।

Prem Pathak

November, 2806:00 AM

अलवर. निकायों के उपाध्यक्ष पद के चुनाव में अलवर को छोड़ भिवाड़ी व थानागाजी में राजनीतिक परिदृश्य सभापति चुनाव के समान ही रहा, लेकिन अलवर नगर परिषद के उप सभापति के चुनाव में भाजपा बाजी पलटकर अपनी खोई साख कुछ हद तक बचाने में कामयाब रही। अलवर में उप सभापति पद पर भाजपा प्रत्याशी घनश्याम गुर्जर 7 वोटों से विजयी रहे। जबकि यहां सभापति के चुनाव में कांग्रेस 9 वोटों से विजय दर्ज कराने में सफल रही थी। क्रॉस वोटिंग का सिलसिला उप सभापति के चुनाव में भी जारी रहा। यहां सभापति के चुनाव में कांग्रेस भाजपा खेमे से करीब 6 पार्षदों की क्रॉस वोटिंग कराने में कामयाब रही, वहीं उप सभापति के चुनाव में भाजपा कांग्रेस खेमे से करीब 2 पार्षदों की क्रॉस वोटिंग कराने में सफल हो गई।

निकाय चुनाव में बुधवार को नगर परिषद अलवर व भिवाड़ी में उप सभापति तथा नगर पालिका थानागाजी के उपाध्यक्ष के लिए मतदान कराया गया। तीनों निकायों में सबसे रोचक मुकाबला अलवर नगर परिषद में रहा, जबकि भिवाड़ी में उम्मीद के अनुसार कांग्रेस अपना उप सभापति निर्वाचित कराने में सफल रही। वहीं थानागाजी में कांगे्रस प्रत्याशी निर्विरोध उपाध्यक्ष निर्वाचित हुई।

अलवर में एक ही दिन में भाजपा के बढ़े 8 वोट, कांग्रेस के घटे

उप सभापति के चुनाव में सबसे बड़ा उलटफेर अलवर नगर परिषद में हुआ। यहां भाजपा के 8 वोट एक ही दिन में बढ़ गए तथा कांग्रेस के इतने ही वोट घट गए। सभापति के चुनाव में कांग्रेस को 37 व भाजपा को 28 वोट मिले, जबकि उप सभापति के चुनाव में भाजपा के वोट बढकऱ 36 तक पहुंच गए तथा कांग्रेस के 37 से घटकर 29 वोट ही रह गए। आंकड़ों के इस खेल में कांग्रेस जहां सभापति निर्वाचित कराने में सफल हुई, वहीं एक दिन बाद ही भाजपा अपना उप सभापति निर्वाचित कराने में सफल रही। यहां भाजपा के घनश्याम गुर्जर ने 36 वोट लेकर कांग्रेस प्रत्याशी विक्रम यादव को 7 वोट से हराया। कांग्रेस को 29 वोट ही मिले।

कांग्रेस खेमे के वोट कहां गए

सभापति चुनाव में 37 वोटों का समर्थन साबित करने वाली कांग्रेस के वोट आखिर एक दिन में ही कहां चले गए। चर्चा है कि पूर्व में कांग्रेस खेमे में 31 व भाजपा खेमे में 34 पार्षद थे। सभापति चुनाव में भाजपा खेमे के 6 पार्षदों की ओर से क्रॉस वोटिंग करने से कांग्रेस खेमे में 37 पार्षदों का समर्थन हो गया और भाजपा 34 से घटकर 28 पर रह गई। वहीं उप सभापति चुनाव में भाजपा को अपने 34 पार्षदों के साथ कांग्रेस खेमे से 2 पार्षदों की क्रॉस वोटिंग का वोट मिला, जिससे उसके खेमे को मिलने वाले पार्षदों की संख्या 36 तक पहुंच गई। वहीं कांग्रेस अपने खेमे के 31 पार्षदों के पूरे वोट भी नहीं ले पाई और 29 तक सीमित रह गई।

भिवाड़ी में बलजीत फिर बने उप सभापति

भिवाड़ी नगर परिषद में बलजीत दायमा कांग्रेस से उपसभापति चुने गए। उप सभापति चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी बलजीत दायमा को 42 वोट मिले, जबकि भाजपा के सूबेसिंह को 18 वोट ही मिले। यहां मंगलवार को हुए सभापति के चुनाव में कांग्रेस को 38 तथा भाजपा को 22 वोट मिले थे। वहीं उपसभापति के चुनाव में कांग्रेस अपने वोटों के साथ ही भाजपा खेमे के चार और वोट लेने में कामयाब रही। उल्लेखनीय है कि बलजीत दायमा पिछले भाजपा बोर्ड में भी उप सभापति थे और इस बार निकाय चुनाव से ऐन पहले कांग्रेस में शामिल हुए थे। कांग्रेस ने उन्हें इस बार भी उप सभापति का उम्मीदवार बनाया और वे कामयाब भी रहे।

थानागाजी में कांग्रेस की सावित्री निर्विरोध निर्वाचित

थानागाजी नगर पालिका में उपाध्यक्ष पद पर कांग्रेस प्रत्याशी सावित्री शर्मा निर्विरोध निर्वाचित घोषित की गई। यहां उपाध्यक्ष पद के लिए निर्धारित समय तक भाजपा की ओर से कोई नामांकन दाखिल नहीं किया गया। इस कारण निर्वाचन अधिकारी ने सावित्री शर्मा को निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया। वे थानागाजी नगर पालिका की पहली उपाध्यक्ष बनी है।

Prem Pathak Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned